loader

साइकिल यात्रा से एसपी ने भरा दम, लखनऊ में अखिलेश ने संभाली कमान

हिंदुस्तान की सियासत की तक़दीर तय करने वाले सूबे उत्तर प्रदेश के 2022 के चुनाव को लेकर मैदान सज चुका है। बीएसपी के ब्राह्मण सम्मेलन, बीजेपी के मंथन शिविरों के बीच पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की क़यादत वाली एसपी ने भी चुनावी माहौल बनाना शुरू कर दिया है। 

गुरूवार को एसपी अखिलेश की अगुवाई में साइकिल यात्रा निकाल रही है। एसपी के बड़े नेता रहे जनेश्वर मिश्र की जयंती के मौक़े पर पार्टी ने यह यात्रा निकाली है। 

ताज़ा ख़बरें
लखनऊ में साइकिल यात्रा में ख़ुद अखिलेश यादव शामिल हुए तो तमाम जिलों में पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने इसकी कमान संभाली। पंचायत चुनाव में बीजेपी को तीसरे नंबर पर धकेलने का दावा करने वाली एसपी को उम्मीद है कि वह इस बार उत्तर प्रदेश में समाजवादी सरकार बनाने में सफल होगी। 
SP cycle yatra in UP  - Satya Hindi

इस यात्रा के दौरान पार्टी के कार्यकर्ताओं ने बढ़ती महंगाई, कृषि क़ानूनों, बेरोज़गारी और अपने बड़े नेता आज़म ख़ान को जेल में रखे जाने का पुरजोर विरोध किया है। 

अखिलेश यादव जानते हैं कि यह चुनाव पार्टी के भविष्य के लिए बेहद अहम है। अखिलेश जहां कुछ छोटे दलों के साथ गठबंधन बनाकर चुनावी मैदान में कूदने की तैयारी कर रहे हैं, वहीं वह अपने कैडर को सक्रिय कर सत्ता में वापसी करने के लिए बेकरार हैं। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

किसान आंदोलन ने दिया मौक़ा

सभी विपक्षी राजनीतिक दल किसान आंदोलन को 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में ख़ुद को जिंदा करने के मौक़े के रूप में देख रहे हैं। इन दलों के कार्यकर्ताओं को उम्मीद है कि अगर किसान आंदोलन लंबा चलता है तो पश्चिमी उत्तर प्रदेश की 120 विधानसभा सीटों पर इसका असर होगा और यहां से चली यह क्रांतिकारी हवा उत्तर प्रदेश की बाक़ी जगहों पर भी बदलाव की ज़मीन तैयार करेगी। 

ख़ुद किसान मिशन यूपी-उत्तराखंड का एलान कर चुके हैं और 5 सितंबर को मुज़फ्फरनगर में राष्ट्रीय महापंचायत होने जा रही है जिसमें मिशन यूपी-उत्तराखंड की रणनीति को फ़ाइनल किया जाएगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें