loader

उन्नाव: लड़कियों के शरीर पर चोट के निशान नहीं- पुलिस

उत्तर प्रदेश के उन्नाव में खेत में मिली दो नाबालिग लड़कियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद राज्य की पुलिस ने कहा है कि उनके शरीर पर किसी भी तरह की चोट के निशान नहीं मिले हैं। दोनों लड़कियों में से एक की उम्र 13 और दूसरी की उम्र 16 साल थी। पुलिस ने कहा कि ऐसा लगता है कि दोनों लड़कियों की मौत ज़हर खाने से हुई है। तीसरी लड़की की हालत गंभीर है और वह जान बचाने की लड़ाई लड़ रही है। 

इस मामले में परिवार के लोगों की शिकायत पर अज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 302 (हत्या) और धारा 201(सबूतों को ख़त्म करना) के तहत मुक़दमा दर्ज किया गया है। वरिष्ठ पुलिस अफ़सरों ने कहा है कि यौन उत्पीड़न का भी कोई सबूत नहीं मिला है और पुलिस ऑनर किलिंग आत्महत्या या बाक़ी एंगल से भी जांच कर रही है। 

ताज़ा ख़बरें

यह घटना थाना असोहा क्षेत्रांतर्गत ग्राम बबुरहा में हुई है। उत्तर प्रदेश पुलिस के डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी ने कहा कि डॉक्टर्स के जिस पैनल ने लड़कियों का पोस्टमार्टम किया है, उसने लड़कियों के शरीर पर किसी तरह की चोट न होने की बात कही है। हालांकि मौत का सही कारण पता नहीं चला है और लड़कियों के विसरे को परीक्षण के लिए भेजा गया है। 

ज़हर की आशंका

मामले की जांच से जुड़े एक अफ़सर ने भी ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में यौन हमले, गला दबाए जाने की संभावना से इनकार किया और कहा कि लड़कियों के शरीर में कहीं पर भी चोट के निशान नहीं मिले हैं। हालांकि तीखी गंध वाला पदार्थ जरूर मिला है और डॉक्टर्स को शंका है कि यह कोई ज़हरीला पदार्थ हो सकता है। 

उन्नाव के एसपी आनंद कुलकर्णी ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा कि अगर लड़कियों को बांधा गया होता तो पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कुछ चोट ज़रूर सामने आती। परिवार के लोगों ने भी कहा है कि लड़कियों को बांधा नहीं गया था बल्कि उनके गले के चारों ओर चुन्नी लिपटी हुई हुई थी। 

यह घटना बुधवार शाम की है। परिवार के लोगों का कहना है कि तीनों घास लेने गई थीं। लड़कियों के भाई ने कहा था कि उनके हाथ और पांव बधे हुए थे। एक लड़की की मां ने कहा है कि उनके हाथ-पैर नहीं बंधे थे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

कुलदीप सेंगर का मामला

उन्नाव बीजेपी के पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर द्वारा दुष्कर्म मामले में दोषी ठहराये जाने के कारण चर्चा में आया था। पीड़िता ने सेंगर पर आरोप लगाया था कि जून, 2017 में जब वह नौकरी माँगने विधायक के आवास पर गई थी तो सेंगर ने उसके साथ बलात्कार किया था। विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर व उसके साथियों ने पीड़िता के पिता के साथ मारपीट की थी और पुलिस हिरासत में पीड़िता के पिता की मौत हो गई थी। पीड़िता के पिता की मौत के मामले में भी कुलदीप सिंह सेंगर को दस साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें