loader

यूपी उपचुनाव : योगी ने बचाई साख, विपक्ष को सबक

उत्तर प्रदेश के आगामी विधानसभा चुनावों का सेमीफाइनल माने जा रहे उपचुनावों में सफलता हासिल कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने न केवल साख बचाई है, बल्कि एंटी-इनकंबेंसी के दावों को भी भोंथरा किया है। मंगलवार को उत्तर प्रदेश में जिन 7 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव के नतीजे आए हैं, उसने सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की आगे की तैयारियों की बानगी दी है, वहीं विपक्ष को भी आईना दिखाने का काम किया है। तमाम दावों के बाद भी विपक्ष को इन उपचुनावों में सफलता नहीं मिल सकी। प्रदेश में विकल्प होने का दावा कर रही सपा हो या बसपा, सभी को मुंह की खानी पड़ी है।

बीजेपी की पकड़ बरक़रार

बीजेपी ने 7 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनावों में 6 सीटें जीतकर अपनी पहले की स्थिति बरक़रार रखी है, जबकि मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी को एक सीट मिली है। प्रियंका गांधी के प्रदेश का प्रभारी बनने से उत्साहित कांग्रेस ने कोई सीट तो नही जीती, पर उसने कई जगह मुख्य मुक़ाबले में आकर अपना दम दिखाया। उपचुनावों में भारी जीत का दावा कर रही सपा को निराशा हाथ लगी है, जबकि बहुजन समाज पार्टी की कई सीटों पर बुरी गत हुई है।
ख़ास ख़बरें
उपचुनाव में 6 सीटों पर बीजेपी का दबदबा रहा तो सपा अपनी इकलौती जौनपुर की मल्हनी सीट बचा पाई। सात सीटों के लिए उपचुनावों में छह सीटें बीजेपी तो एक सीट सपा के पास थी।
उत्तर प्रदेश में खुद को सशक्त विपक्ष के तौर पर पेश करने वाली और अगले विधानसभा चुनावों में सरकार बनाने का दावा करने वाली बसपा का हाल इन उपचुनावों में बुरा रहा। पार्टी केवल एक सीट पर ही मुख्य मुकाबले में रही, जबकि कई जगहों पर वह कांग्रेस से भी नीचे पहुंच गई।
 बसपा ने पहली बार उपचुनावों में अपने प्रत्याशी खड़े किए थे। मायावती का सपा को हराने के लिए पहले बीजेपी के समर्थन का एलान और फिर उस पर सफाई ने उसे अल्पसंख्यक मतदाताओं से दूर कर दिया।
प्रदेश में अकेले बुंलदशहर की सीट पर ही उसके प्रत्याशी ने कुछ मुक़ाबला किया। बांगरमऊ, मल्हनी जौनपुर सीटों पर तो बसपा चौथे स्थान पर सरक गयी।

कांग्रेस की साख दाँव पर

कांग्रेस में आंशिक सुधार कोरोना काल के दौरान सत्तापक्ष पर हमला तथा सरकार का प्रवासी मजदूरों को रोज़गार से लेकर लोगों की चिकित्सा के इंतजाम तथा लोगों की सेवा के लिए किए गए कामों के दावे भी इन उपचुनाव के नतीजों की कसौटी पर परखे जाने थे। प्रदेश में  राहुल-प्रियंका की सक्रियता पर जनता के रुझान का पता चलना था। 

कुछ घटनाओं को लेकर विपक्ष की तरफ से ब्राह्मणों की उपेक्षा व उत्पीड़न को लेकर सरकार की घेराबंदी तथा हाथरस जैसी घटनाओं के सहारे विपक्ष, खास तौर से कांग्रेस व भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर की पार्टी का सरकार को कठघरे में खड़ा करना तथा क़ानून-व्यवस्था के मुद्दे पर उठाए गए सवालों का जनता में असर भी इन नतीजों से ही सामने आना था।
कांग्रेस ने इन उपचुनावों में ज़रूर अपनी स्थिति में सुधार किया है, कम से कम दो जगहों पर वह मुख्य मुक़ाबले में रही और मत प्रतिशत में भी सुधार हुआ है।

योगी : लगी जनता की मुहर

नतीजे आने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विधानसभा चुनाव और उपचुनाव के रुझानों से एक बार फिर से साबित हो गया, ‘मोदी है तो मुमकिन है’। उन्होंने कहा कि बीजेपी पर देश की जनता को भरोसा है और इस बात पर जनता ने एक बार फिर से मुहर लगा दी है। 

उन्होंने कहा कि यूपी में प्रदेश संगठन जिस तरह से एक टीम भावना से काम कर रही है, कोविड-19 में जिस तरह से सेवा कर रही है यह उसी का परिणाम है। योगी ने कहा कि बीजेपी ने 2017 के परिणाम को दोहराया है, 2019 में जिस तरह से बीजेपी ने प्रदर्शन किया था, आज उसी तर्ज पर अगले चुनाव का संकेत दिए हैं।

सात सीटों पर हुए थे उपचुनाव 

जिन सीटों पर चुनाव हुए थे इनमें से नौगावां सादात सीट योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान की मृत्यु तो घाटमपुर सीट मंत्री कमलरानी वरुण और बुलंद शहर व देवरिया सदर सीट विधायकों के दिवंगत होने के चलते खाली हुई थी। समाजवादी पार्टी के विधायक पारसनाथ यादव की मृत्यु के चलते जौनपुर जिले की मल्हनी सीट पर उपचुनाव हो रहे थे।  
अयोग्य साबित होने के नाते बांगरमऊ में उपचुनाव हुआ तो अदालती विवाद में फंसी टूंडला सीट पर भी उपचुनाव संपन्न हुए हैं। इनमें से बुलंदशहर, नौगावां सादात पर ही बीजेपी ने दिवंगत विधायकों के परिजनों को टिकट दिया था  जबकि बाकी की सीटों पर पुराने कार्यकर्त्ता या जिताउ प्रत्याशी को उतारा था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें