loader

यूपी बीजेपी अध्यक्ष की बहू को कांग्रेस में खींच लायीं प्रियंका

उत्तर प्रदेश के दौरे पर निकलीं प्रियंका गाँधी का असर साफ़ दिखने लगा है। यह भी साफ़ हो रहा है कि प्रियंका इफ़ेक्ट सबसे ज़्यादा बीजेपी को ही चुभेगा। सोमवार को प्रयाग से शुरू हुए प्रियंका के दौरे में गंगा किनारे बसी ग़ैर-यादव, ग़ैर-जाटव पिछड़ी व दलित जाति के लोगों की भीड़ उमड़ी। उन्हीं जातियों की बहुलता वाले गाँवों, कस्बों में प्रियंका ने मेल मुलाक़ात की। मंगलवार को प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष व चंदौली से सांसद महेंद्रनाथ पांडे की बहू अमृता को वह अपने पाले में खींच लायीं। अमृता पांडे यूपी बीजेपी अध्यक्ष के सगे भाई जीतेंद्र पांडे की बहू हैं।

हालाँकि अमृता के कांग्रेस में आने से कोई ख़ास फ़र्क नहीं पड़ने वाला, लेकिन बीजेपी को एक मनोवैज्ञानिक झटका ज़रूर लगा है।

ख़बर यह भी है कि प्रियंका और अमृता की मुलाक़ात मंगलवार शाम चुनार गेस्ट हाउस में हो गयी है जहाँ अपने पूर्वांचल दौरे के दूसरे दिन प्रियंका ठहरी हैं।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी ने ब्राह्मणों को ठगा, मेरा मायका कांग्रेसी : अमृता

प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष की बहू ने कहा कि उनका कांग्रेस से पुराना लगाव रहा है। अमृता पांडे के मुताबिक़ उनका मायका कांग्रेसी है जबिक ससुराल पक्ष के लोग बीजेपी से जुड़े रहे हैं। चंदौली में अमृता बोलीं कि बीजेपी ने समाज के हर वर्ग को ठगा है और ख़ासकर ब्राह्म्णों को भी। कयास लगाए जा रहे हैं कि वाराणसी में कार्यकर्ता सम्मेलन में अमृता पांडे विधिवत कांग्रेस में शामिल हो जाएँगी। 

  • उत्तर प्रदेश में योगी राज में क्षत्रियों के बोलबाले से ब्राह्मणों की नाराज़गी का मसला प्रदेश बीजेपी में उठता रहा है। इसी नाराज़गी को कम करने के लिए केंद्रीय नेतृत्व ने प्रदेश अध्यक्ष इस जाति से बनाया था और योगी के विरोधी कहे जाने वाले शिवप्रताप शुक्ला को राज्यसभा भेज केंद्र में राज्यमंत्री भी बनाया था।
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

प्रियंका ने लोगों को इंदिरा की याद दिलाई

पूर्वांचल के जिन इलाक़ों में प्रियंका गाँधी का काफ़िला जा रहा है वहाँ कांग्रेस की ज़मीन काफ़ी समय से छिन चुकी है। ख़ुद कांग्रेस नेतृत्व को भी मालूम है कि उसके पास इन इलाक़ों में खोने को कुछ बचा नहीं है। प्रियंका गाँधी के दौरे का ख़ास मक़सद लोगों में इंदिरा की याद को ताज़ा करने और लोगों से उनका कनेक्ट स्थापित करना है। बिलकुल अपनी दादी की तर्ज़ पर प्रियंका गाँवों में बच्चों-महिलाओं से मिल रही हैं और कहीं-कहीं भीड़ जुटने पर कार्यकर्ताओं को सराह रही हैं।
मिर्जापुर के चिल्हा कस्बे में मंगलवार को एनएसयूआई के कार्यकर्ताओं की भगदड़ में एक खोमचे वाले का सामान गिरा तो प्रियंका ने कांग्रेसियों को डाँटा। खोमचे वाले को बुलाकर उसे नुक़सान के बदले पैसे दिए।

लाक्षागृह में छोड़ा स्टीमर, मंदिर और मज़ार पहुँची

सोमवार रात भदोही के लाक्षागृह घाट पर प्रियंका ने स्टीमर से उतर कर सड़क मार्ग से सीतामढ़ी का रुख़ किया जहाँ उन्होंने रात गुजारी। मंगलवार सुबह प्रियंका का काफ़िला मिर्जापुर जनपद में घुसने से पहले भदोही में कई जगह रुका। विंध्याचल के प्रसिद्ध देवी मंदिर में प्रियंका ने घंटों गुजारे और पूजा की। मिर्जापुर में प्रियंका कुंती शाह की मज़ार भी गयीं। यह मज़ार सूफ़ी संत इस्माईल चिश्ती की है जिसकी यहाँ हिन्दुओं व मुसलिमों में ख़ासी मान्यता है। प्रियंका से पहले इस मज़ार पर इंदिरा गाँधी, सोनिया और राहुल भी आ चुके हैं।

up bjp chief daughter in law amrita pandey joins priyanka gandhi - Satya Hindi
विंध्याचल मंदिर में जब प्रियंका पूजा कर रही थीं तो बाहर कुछ लोगों ने ‘हर-हर मोदी’ के नारे लगाए जिसका वीडियो तेज़ी से वायरल होने लगा। पड़ताल में पता चला कि संतोष नाम के एक इसी मंदिर के पंडे ने प्रियंका के आने पर अपने कुछ लोगों से नारे लगवा कर ख़ुद ही वीडियो बना कर स्थानीय मीडिया को भेजा है। वह व्यक्ति बीजेपी से जुड़ा हुआ है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
कुमार तथागत
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें