loader

लॉकडाउन: योगी के पिता के नाम पर यूपी विधायक त्रिपाठी घूमने निकले उत्तराखंड, मुक़दमा दर्ज

उत्तर प्रदेश के निर्दलीय विधायक अमन मणि त्रिपाठी लॉकडाउन के बीच उत्तराखंड स्थित बद्रीनाथ और केदारनाथ की यात्रा पर निकल पड़े। विधायक के साथ 10 और लोग थे। अमनमणि त्रिपाठी को इसके लिए उत्तराखंड सरकार के अपर मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने विशेष अनुमति दी थी। 

ख़बरों के मुताबिक़, उत्तराखंड सरकार की ओर से देहरादून के डीएम को लिखे अनुमति पत्र में कहा गया है कि उत्तर प्रदेश के विधायक अमनमणि त्रिपाठी और उनके 10 अन्य साथियों को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के स्वर्गीय पिता के पितृ कार्य हेतु बद्रीनाथ धाम जाना है और केदारनाथ धाम भी जाना है। 

ताज़ा ख़बरें

इस पत्र में विधायक सहित 10 लोगों के नाम लिखे हैं। साथ ही वाहन संख्या भी लिखी हुई है। मुख्यमंत्री के पिता का बीते महीने निधन हो गया था। अमनमणि त्रिपाठी महाराजगंज जिले की नौतनवां सीट से विधायक हैं। 

विधायक और उनके साथी तीन लग्जरी गाड़ियों में सवार थे। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक़, उत्तराखंड के कर्णप्रयाग जिले के डीएम वैभव गुप्ता ने कहा, ‘अमनमणि त्रिपाठी कुछ अन्य लोगों के साथ तीन गाड़ियों में उत्तर प्रदेश से आये थे। उन्हें गोचर बैरियर के पास रोका गया। लेकिन रुकने के बजाय वह चलते गए और कर्णप्रयाग तक पहुंच गए। कर्णप्रयाग पहुंचने पर जब डॉक्टर्स और प्रशासनिक अधिकारियों ने उनकी स्क्रीनिंग की तो वह बहसबाज़ी पर उतर आये। इसके बाद बहुत मुश्किल से उन्हें वापस लौटाया गया।’ 

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक (कानून और व्यवस्था) अशोक कुमार ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया कि विधायक और अन्य 10 लोगों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कर ली गई है। उन्होंने कहा कि गिरफ़्तार करने के बाद इन लोगों को नोटिस जारी किया गया और उत्तर प्रदेश वापस भेज दिया गया। 

अमनमणि त्रिपाठी अपनी पत्नी सारा की हत्या के मामले में मुक़दमा झेल रहे हैं। त्रिपाठी के पिता अमरमणि त्रिपाठी, उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री रहे हैं। अमरमणि और उनकी पत्नी मधुमणि त्रिपाठी कवियित्री मधुमिता शुक्ला की हत्या में दोषी हैं और इन दिनों जेल में हैं।

यूपी सरकार ने किया किनारा 

उत्तर प्रदेश सरकार ने इस बारे में एक बयान जारी कर विधायक द्वारा मुख्यमंत्री के नाम का इस्तेमाल करने की भत्सर्ना की है। बयान में कहा गया है, ‘अमनमणि त्रिपाठी को योगी आदित्यनाथ या राज्य सरकार के किसी भी अधिकारी द्वारा उत्तराखंड जाने की अनुमति नहीं दी गई थी। वह अपने काम के लिए ख़ुद जिम्मेदार हैं।’  

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
इस मामले में बिजनौर पुलिस ने कहा है कि विधायक अमनमणि त्रिपाठी और उनके साथियों के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज की गई है। पुलिस के मुताबिक़, इनके पास उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से कोई अनुमति पत्र नहीं था। पुलिस ने कहा है कि इनका टेस्ट कराया जाएगा और टेस्ट नेगेटिव आने पर इनके ख़िलाफ़ वैधानिक कार्रवाई की जाएगी। पुलिस ने कहा है कि इन लोगों को उत्तराखंड से लौटते हुए बिजनौर में पकड़ा गया है। 

कैसे मिल गई अनुमति?

देशव्यापी लॉकडाउन के बीच अमनमणि को उत्तर प्रदेश से उत्तराखंड घूमने की अनुमति कैसे मिल गई, इसे लेकर सोशल मीडिया में कई लोगों ने सवाल उठाया है। यह कुछ वैसा ही मामला है जैसे पिछले महीने डीएचएफ़एल कंपनी के प्रमोटर वधावन परिवार को महाराष्ट्र के महाबलेश्वर स्थित अपने फ़ॉर्महाउस पर जाने की अनुमति महाराष्ट्र के गृह विभाग के विशेष प्रधान सचिव अमिताभ गुप्ता ने दे दी थी। इसके बाद गुप्ता के ख़िलाफ़ महाराष्ट्र सरकार ने कार्रवाई की थी। 

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें