loader

यूपी एसटीएफ़ को सौंपा गया विकास दुबे, पत्नी और बेटे को पुलिस ने किया गिरफ़्तार

मध्य प्रदेश पुलिस ने कानपुर के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को गुरूवार शाम को उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फ़ोर्स (एसटीएफ़) को सौंप दिया है। यूपी एसटीफ़ ने दुबे को अपनी कस्टडी में ले लिया है और उसे कानपुर लाया जा रहा है। अब दुबे से आगे की पूछताछ कानपुर में ही होगी। दुबे को मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ़्तार नहीं किया था, इसलिए उसकी ट्रांजिट रिमांड देने की आवश्यकता नहीं पड़ी। इसके अलावा दुबे की पत्नी और बेटे को लखनऊ पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। 

उत्तर प्रदेश के मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे को गुरूवार सुबह मध्य प्रदेश के उज्जैन में पकड़ा गया था। लेकिन उसने सरेंडर किया या वह गिरफ्तार हुआ? इसे लेकर पुलिस की कहानी में झोल ही झोल हैं।

दिन भर देश भर में यही सवाल जागरूक लोगों द्वारा पूछा जाता रहा कि दुबे ने सरेंडर किया है या पुलिस ने उसे गिरफ़्तार किया है। हालांकि मध्य प्रदेश पुलिस ने गिरफ़्तार करने का दावा किया और प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी गिरफ्तारी की बात कही। 

ताज़ा ख़बरें

उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस वालों को मौत के घाट उतारने के बाद से ही विकास दुबे अपने साथियों के साथ फरार चल रहा था। उसके हरियाणा के फरीदाबाद में होने की सूचना आई थी। पुलिस को वहां से चकमा देकर वह उज्जैन भाग गया था। यूपी पुलिस ने उस पर पांच लाख रुपये का इनाम घोषित किया था। यूपी पुलिस सरगर्मी से विकास की तलाश कर रही थी। लेकिन वह पुलिस के इंतजामों को धता बताते हुए मध्य प्रदेश पहुंच गया। 

दुबे के गुर्गों को किया ढेर 

2 जुलाई की रात को बिकरू गांव में दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम के 8 जवानों की शहादत के बाद से ही पुलिस ने रूख़ बेहद सख़्त कर लिया था। पुलिस ने बीते एक हफ़्ते में दुबे के कई करीबियों को ढेर कर दिया और कुछ को गिरफ़्तार कर लिया। 

कुछ दिन पहले पुलिस ने विकास दुबे के तीन साथियों श्यामू वाजपेयी, जहान यादव और संजीव दुबे को गिरफ़्तार किया और इसी दौरान हरियाणा की फरीदाबाद पुलिस ने भी मुठभेड़ के दौरान विकास के तीन सहयोगियों कार्तिकेय उर्फ प्रभात निवासी बिकरू गांव, अंकुर निवासी ग्राम कापूपुर, कानपुर व एक अन्य बदमाश श्रवण को गिरफ़्तार किया। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
8 जुलाई को बुधवार तड़के हमीरपुर जिले के मौदहा थानाक्षेत्र में एसटीएफ उत्तर प्रदेश एवं स्थानीय पुलिस के साथ मुठभेड़ में विकास दुबे गैंग के शातिर अपराधी अमर दुबे को मार गिराया गया। अमर दुबे कानपुर हत्याकांड का नामज़द एवं वांछित अभियुक्त था। 
9 जुलाई की सुबह भी यह ख़बर आई कि हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के दो सहयोगियों को पुलिस ने गुरुवार सुबह अलग-अलग मुठभेड़ में मार गिराया है। इन दोनों में से एक तो हिरासत में था और पुलिस के अनुसार कानपुर ले जाने के दौरान भागने की कोशिश में मारा गया, जबकि दूसरे के साथ पुलिस की आमने-सामने की मुठभेड़ हुई। इनमें से एक का नाम प्रभात मिश्रा और दूसरे का नाम रणबीर उर्फ़ बउआ दुबे बताया गया। 
इस मुद्दे पर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष का वीडियो - 

कांग्रेस-बीजेपी आमने-सामने

विकास दुबे के पकड़े जाने के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस ने गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा के कानपुर कनेक्शन को लेकर भी सवाल उठाये हैं। उत्तर प्रदेश में 2017 के विधानसभा चुनाव में मिश्रा कानपुर के प्रभारी रहे थे। आज हुए घटनाक्रम को मध्य प्रदेश कांग्रेस मिश्रा के कानपुर के पुराने प्रभार से जोड़कर सवाल खड़े कर रही है। कांग्रेस ने कहा कि दाल में कुछ काला की बात छोड़िए यहां तो पूरी दाल ही काली है। पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा के सदस्य दिग्विजय सिंह ने तो विकास को पकड़े जाने की कहानी पर सवाल उठाते हुए सबकुछ ‘फिक्स’ बता दिया है। उन्होंने मामले की न्यायिक जांच की मांग भी की है।
उधर, नरोत्तम मिश्रा का कहना है, ‘मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस समाप्ति की ओर है। उसके नेता चूक गये हैं। बिना सिर-पैर वाले आरोप लगाना उनकी फितरत हो चुकी है।’
विकास दुबे पर 60 आपराधिक मुक़दमे दर्ज हैं। यह भी जानकारी सामने आई कि दुबे को बचपन से ही जरायम की दुनिया में नाम कमाने का शौक था। वह काफी समय से गैंग बनाकर लूटपाट और हत्याएं कर रहा था और इस काम में उसे राजनेताओं और पुलिस का भी भरपूर सहयोग मिलता रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें