loader

'2024 तक काशी-मथुरा मसजिदों के मुद्दों को नहीं उठाएगी विहिप'

काशी-मथुरा विवाद से विश्व हिन्दू परिषद ने अपने को दूर कर लिया है और संकेत दिया है कि वह फ़िलहाल इस मुद्दे को तूल नहीं देगी। कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर 2024 तक बन कर तैयार हो जाएगा और तब तक परिषद कोई नया मुद्दा नहीं उठाएगी।

विहिप ने यह ऐलान ऐसे समय किया है जब एक बहुत ही पुरानी याचिका पर सुनवाई करते हुए वाराणसी की ज़िला अदालत ने कहा है कि भारतीय पुरातत्व विभाग ज्ञानव्यापी मसजिद का सर्वेक्षण करे। 

बता दें कि अदालत ने एएसआई के महानिदेशक को आदेश दिया है कि वह पाँच सदस्यों की एक कमेटी गठित करें और ये वे लोग होने चाहिए जो विशेषज्ञ हों और पुरातत्व विज्ञान के अच्छे जानकार हों और इनमें से दो लोग अल्पसंख्यक समुदाय से होने चाहिए। अदालत ने एएसआई के महानिदेशक से यह भी कहा कि वह किसी जानकार या शिक्षाविद को कमेटी के पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त करे। 

उत्तर प्रदेश से और खबरें

नया विवाद क्या है?

सालों से लंबित याचिका में कहा गया था कि मुगल शासक औरंगजे़ब ने भगवान विश्वेश्वर का प्राचीन मंदिर तोड़कर उसके खंडहर के ऊपर मसजिद का निर्माण किया था। 

लेकिन हरिद्वार में शुक्रवार को हुई विश्व हिन्दू परिषद के मार्गदर्शक मंडल की बैठक से यह मुद्दा गायब रहा।

दूसरी ओर विश्व हिन्दू परिषद ने साफ संकेत दिया है कि वह कम से कम इस समय इस पचड़े में नहीं पड़ना चाहती। विहिप के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से बातचीत में यह साफ कह दिया। उन्होंने कहा,

परिषद की कार्यकारी समिति और साधु संतों का मानना है कि राम जन्मभूमि मंदिर बहुत बड़ा मुद्दा है, राम मंदिर का निर्माण कार्य चल रहा है। राम लला को मंदिर में स्थापित करना प्राथमिकता है। यह काम पूरा होने तक परिषद मथुरा के मुद्दे को नहीं उठाएगी।


आलोक कुमार, कार्यकारी अध्यक्ष, विश्व हिन्दू परिषद

क्यों पीछे हट रही है विहिप?

उन्होंने कहा कि वाराणसी ज़िला अदालत ने अंतरिम आदेश दिया है। यह देखना है कि इसके आगे क्या होता है। 

उन्होंने कहा कि विहिप 2024 तक काशी के मुद्दे पर विचार तक नहीं करेगी, लिहाज़ा इसके राजनीतिक प्रभाव पर विचार करने का कोई सवाल ही नहीं है। 

जब आलोक कुमार ले यह पूछा गया कि विहिप ने तो वर्षों नारा दिया था कि 'अयोध्या तो बस झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है', इसके जवाब में आलोक कुमार ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा,

हम इस समय झांकी (राम मंदिर) पर ध्यान दे रहे हैं। हमें पूरे देश से इसके लिए चंदा मिला है। अयोध्या में मंदिर 2024 तक बन कर तैयार हो जाएगा। हम तब तक इस पर विचार भी नहीं करेंगे।


आलोक कुमार, कार्यकारी अध्यक्ष, विश्व हिन्दू परिषद

क्या कहना है मुसलमानों का?

इसके पहले ही ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल ला बोर्ड ने वाराणसी ज़िला अदालत के आदेश का विरोध किया। बोर्ड के सदस्य आर. शमशाद ने कहा है कि यह मामला मुक़दमा चलाने लायक नहीं है और 1991 के क़ानून को देखते हुए इसे खारिज कर दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मामला अभी इलाहाबाद हाई कोर्ट में लंबित है और ऐसी स्थिति में ज़िला अदालत को यह फ़ैसला नहीं देना चाहिए था। 

vishwa hindu parishad not to raise kashi-mathura mosque issue now - Satya Hindi
काशी स्थित ज्ञानवापी मसजिद

याद दिला दें कि बता दें कि पूजा स्थल अधिनियम, 1991 के अनुसार, किसी भी पूजा स्थल का धार्मिक स्वरूप 15 अगस्त 1947 को जैसा था, वैसा ही रहेगा और उसे बदला नहीं जा सकता है। इससे अयोध्या मामले को बाहर रखा गया था और बाकी सभी मुद्दों पर इस तरह की क़ानूनी प्रक्रिया पर रोक लगा दी गई थी।

पिछले महीने ही पूजा स्थल अधिनियम, 1991 को चुनौती दी गई थी और सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से कहा था कि वह इस मामले में जवाब दे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें