loader

पुलवामा हमले के दिन मोदी की शूटिंग का प्रोमो रिलीज़

पुलवामा हमले के दिन जिम कार्बेट पार्क में प्रधानमंत्री मोदी की जिस शूटिंग को लेकर पूरे देश की राजनीति में तूफ़ान मचा था वह वीडियो अब बनकर तैयार हो गया है। डिस्कवरी चैनल ने शूट किए गए उस वीडियो का प्रोमो रिलीज़ किया है। चैनल इसे अपने ‘मैन वर्सेस वाइल्ड’ कार्यक्रम में 12 अगस्त को रात 9 बजे दिखाएगा। यह कई भाषाओं में रिलीज़ होगा। जिस तरह से इसकी शूटिंग के दौरान विवाद हुआ था उससे इस आशंका को बल मिलता है कि कहीं फिर से इस पर वैसा ही विवाद तो नहीं खड़ा हो जाएगा? यह आशंका इसलिए है क्योंकि जिस दिन (14 फ़रवरी) प्रधानमंत्री मोदी उत्तराखंड के जिम कार्बेट पार्क में शूटिंग कर रहे थे उसी दौरान जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने हमला कर दिया था। उस हमले में कम से कम 40 जवान शहीद हो गए थे। यह हाल के दशकों में जम्मू-कश्मीर में सबसे बड़ा हमला था।

बहरहाल, डिस्कवरी चैनल के कार्यक्रम ‘मैन वर्सेस वाइल्ड’ के होस्ट बियर ग्रिल्स ने अपने ट्वीट में कहा, ‘180 देशों के लोगों को पीएम मोदी के अनछुए पहलू देखने को मिलेंगे, जब वह पशु संरक्षण और पर्यावरण परिवर्तन के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए भारत के जंगल में साहस का प्रदर्शन करते दिखेंगे।’

बियर ग्रिल्स के नाम से पहचाने जाने वाले एडवर्ड माइकल ग्रिल्स एक ब्रिटिश पूर्व एसएएस सर्विसमैन हैं। वह लेफ्टिनेंट-कर्नल रहे और अपने सैन्य करियर के बाहर एक साहसी, लेखक, टेलीविजन प्रजेंटर और व्यवसायी हैं। वह मुख्य तौर पर अपनी टेलीविज़न सीरीज़ ‘मैन वर्सेस वाइल्ड’ (2006-2011) के लिए जाने जाते हैं, जिसका मूल शीर्षक बॉर्न सर्वाइवर: बेयर ग्रिल्स था।

इस वीडियो पर मोदी ने क्या कहा?

डिस्कवरी चैनल ने सोमवार को एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा कि जिम कॉर्बेट नेशनल पार्क में शूट किया गया विशेष एपिसोड वन्यजीव संरक्षण और पर्यावरण परिवर्तन से संबंधित मुद्दों पर है। इस एपिसोड में प्रधानमंत्री दिखेंगे और वह प्रकृति के बीच रहने और अपने साहसिक पक्ष को प्रदर्शित करने के अपने अनुभवों के बारे में साझा करते हुए दिखेंगे।

चैनल ने मोदी के हवाले से कहा, ‘सालों से मैं प्रकृति के बीच, पहाड़ों और जंगलों में रहा हूँ। इन वर्षों का मेरे जीवन पर स्थायी प्रभाव है। इसलिए जब मुझसे राजनीति से परे जीवन पर केंद्रित और वह भी प्रकृति के बीच में एक विशेष कार्यक्रम के बारे में कहा गया तो मैं इसमें भाग लेने का इच्छुक था। मेरे लिए यह शो विश्व को यह दिखाने का शानदार अवसर है कि भारत की समृद्ध पर्यावरण विरासत है और पर्यावरण संरक्षण के महत्व और प्रकृति के साथ सद्भाव से रहने पर ज़ोर रहा है। यह एक बार फिर से जंगल में समय बिताने का एक शानदार अनुभव था, इस बार बियर के साथ, जो खोज और प्रकृति का अनुभव करने के लिए अथक ऊर्जा के धनी हैं।’

चुनाव से पहले हुआ था विवाद

पुलवामा हमला और मोदी की शूटिंग का यह मामला लोकसभा चुनाव से कुछ हफ़्ते पहले फ़रवरी में हुआ था। चुनाव के समय था तो इस मामले ने काफ़ी तूल पकड़ा था। तब प्रधानमंत्री मोदी पर यह आरोप लगे थे कि जब देश में इतना बड़ा आतंकवादी हमला हुआ हो तो देश का प्रधानमंत्री वीडियो शूटिंग में कैसे व्यस्त रह सकते हैं। कांग्रेस ने तब प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कई सवाल उठाए थे। इसने पूछा था कि पुलवामा हमले के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ़िल्म शूटिंग क्यों करते रह गए, जिम कार्बेट में घूमते और नौका विहार क्यों करते रहे? कांग्रेस का कहना था कि जब जवानों के शव गिने जा रहे थे तब प्रधानमंत्री नौका विहार कर घड़ियाल देख रहे थे। 

सम्बंधित ख़बरें

कांग्रेस के सवालों से खलबलाई सरकार में ‘डैमेज कंट्रोल’ की कोशिशें शुरू हुईं तो बड़े रहस्यमय तरीक़े से कुछ टीवी चैनलों और वेबसाइटों पर यह ख़बर चली कि प्रधानमंत्री मोदी पुलवामा हमले की जानकारी देर से मिलने से बहुत नाराज़ हैं और उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से पूछा है कि समय से उन्हें इस घटना की ख़बर क्यों नहीं मिल पाई। लेकिन जितने रहस्यमय ढंग से यह ख़बर ब्रेक हुई थी, थोड़ी देर बाद उतने ही रहस्यमय तरीक़े से सारे चैनलों से ग़ायब भी हो गई थीं। दरअसल, जैसे ही यह ख़बर चली कि प्रधानमंत्री को पुलवामा हमले की सूचना मिली ही नहीं थी तो सोशल मीडिया पर लोग कूद पड़े थे कि अगर वाक़ई प्रधानमंत्री को इतनी गंभीर घटना की जानकारी कई घंटों तक नहीं मिली तब तो यह देश की सुरक्षा के लिए और भी गंभीर सवाल है।

तब इस बात पर भी सवाल उठे थे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 बजकर 13 मिनट पर उत्तराखंड के रुद्रपुर में एक सभा को टेलीफ़ोन से संबोधित भी किया था। दूरदर्शन के राष्ट्रीय चैनल पर प्रधानमंत्री के इस भाषण का प्रसारण भी किया गया था। हैरानी की बात यह है कि जब दूरदर्शन प्रधानमंत्री मोदी की रुद्रपुर सभा का सीधा प्रसारण कर रहा था, उसी समय उसकी स्क्रीन पर नीचे पुलवामा में हुए हमले की ख़बर भी चल रही थी।

modi shoot man vs wild on discovery pulwama attack - Satya Hindi
पुलवामा हमले के समय प्रधानमंत्री रुद्रपुर में फ़ोन पर महारैली को संबोधित कर रहे थे। रैली के प्रसारण के साथ ही हमले की ख़बर भी डीडी न्यूज़ पर चल रही थी।डीडी न्यूज़ वीडियो फ़ुटेज

सवाल यह उठा था कि पुलवामा हमले के कई घंटे बाद तक प्रधानमंत्री मोदी को पुलवामा हमले की जानकारी नहीं थी? बता दें कि जब पुलवामा में हमला हुआ था तो इसके कुछ ही मिनटों के अंदर यह ख़बर पूरे देश में न्यूज़ चैनलों, हज़ारों वेबसाइटों और सोशल मीडिया की लाखों पोस्टों के ज़रिये देश के हर उस आदमी तक पहुँच चुकी थी जिसके हाथ में एक स्मार्टफ़ोन रहा होगा। इसी बात को लेकर प्रधानमंत्री पर निशाना साधा गया था कि उन्हें यह जानकारी कैसे नहीं मिली थी।

ताज़ा ख़बरें
हालाँकि सरकार इसके लिए तब अलग-अलग तर्क दे रही थी और विपक्ष यह आरोप लगा रहा था कि सेना के नाम पर राजनीति करने वाली पार्टी के नेता को सेना की फ़िक्र ही नहीं है। हालाँकि तब चुनाव आने वाले थे और विपक्ष एंटी-इन्कंबेंसी, देश की ख़राब आर्थिक हालत और बढ़ती बेरोज़गारी के कारण काफ़ी उम्मीदें लगाए बैठा था और सत्तारूढ़ पार्टी पर हमले का एक भी मौक़ा छोड़ नहीं रही थी, लेकिन अब स्थिति उलटी है। कांग्रेस सहित पूरा विपक्ष पस्त है। ऐसे में इस वीडियो के रिलीज़ होने पर कितना शोर मचेगा, कहना मुश्किल है!

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विविध से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें