loader

बंगाल: नड्डा बोले- सीएए लागू होगा; ध्रुवीकरण चाहती है बीजेपी! 

नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में बीजेपी सात साल से देश में सरकार चला रही है, विकास के तमाम दावे, दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा उसके नेता आए दिन करते हैं। इसके बाद भी जिस राज्य में चुनाव हो, वहां के स्थानीय मुद्दों पर बात करने के बजाय बात होगी पाकिस्तान पर, श्मशान-कब्रिस्तान पर, अली बनाम बजंरग बली पर और हिंदू-मुसलमान पर। बीजेपी पर आरोप लगता है कि वह ऐसे मुद्दे चुनती है जिससे वोटों का ध्रुवीकरण हो सकता हो। 

नित्यानंद राय का बयान

कुछ दिन पहले एक जनसभा के दौरान केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा कि बिहार में अगर आरजेडी की सरकार बनी तो कश्मीर के आतंकी यहां आकर पनाह ले लेंगे, उसके बाद पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना का मुद्दा लाया गया और अब एक दूसरे राज्य बंगाल में, जहां बीजेपी चुनावी तैयारियों में जुटी हुई है, वहां भी एक ऐसा मुद्दा छेड़ दिया गया है जिससे ध्रुवीकरण हो सकता हो। बीजेपी ने बंगाल में सीएए यानी नागरिकता संशोधन क़ानून को जल्द लागू करने की बात कही है। 

ताज़ा ख़बरें

शाहीन बाग़ का आंदोलन

सीएए को लेकर देश में पिछले साल खासा बवाल हो चुका है। दिल्ली के शाहीन बाग़ में चले आंदोलन की तर्ज पर देश के कई शहरों में मुसलिम समाज की महिलाओं ने इस क़ानून के विरोध में शांतिपूर्ण धरना दिया और उन्हें कुछ राजनीतिक-सामाजिक संगठनों का भी सहयोग मिला। देश में इसके ख़िलाफ़ जबरदस्त आंदोलन भी हुए लेकिन मोदी सरकार को हिला देने वाली हुंकार किसी ने भरी तो वो पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी थीं। 

सीएए आंदोलन को बदनाम करने की पुरजोर कोशिशें बीजेपी के नेताओं की ओर से की गईं। शाहीन बाग को तौहीन बाग से लेकर हिंदुस्तान विरोधी, पाकिस्तान परस्त और भी बहुत कुछ कहा गया। यह सब दिल्ली चुनाव को जीतने के लिए किया गया लेकिन लोगों ने इस तरह की राजनीति को नकार दिया। अब बारी बंगाल की है। 

सीएए, एनआरसी बनेंगे हथियार

पश्चिम बंगाल में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं, इस लिहाज से मुश्किल से 8 महीने का वक़्त और बचा है। बीजेपी कोरोना काल में भी लगातार बंगाल में सक्रिय है और वहां अपनी सरकार देखना चाहती है। इसके लिए उसे सीएए, नेशनल रजिस्टर ऑफ़ सिटीजंस (एनआरसी)  से अच्छा कोई हथियार शायद नज़र नहीं आता। वरना वह मोदी सरकार के कामकाज को भी गिनाकर वोट मांग सकती है लेकिन ऐसा नहीं लगता। 

ममता बनर्जी दमदार आवाज़ में कह चुकी हैं कि वह अपने राज्य में सीएए, एनआरसी को किसी भी क़ीमत पर लागू नहीं होने देंगी।

ताज़ा घटनाक्रम यह है कि पश्चिम बंगाल के दौरे पर पहुंचे बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने सोमवार को सिलिगुड़ी में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, ‘सीएए तो पास हो गया है। आपको सीएए मिलेगा और मिलना तय है। अभी नियम बन रहे हैं, कोरोना की वजह से इसमें रुकावट हो गयी और बहुत जल्द आपको इसकी सेवा मिलेगी और इसे हम पूरा करेंगे।’

यह बात बीजेपी की बंगाल इकाई के किसी नेता ने नहीं कही है, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कही है। इसका मतलब साफ है कि पार्टी इसे बंगाल में मुद्दा बनाएगी। इससे पहले पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह बंगाल में अपनी कई रैलियों में सीएए और एनआरसी का खुलकर जिक्र कर चुके हैं। 

बंगाल में हिंदू वोटों के जबरदस्त ध्रुवीकरण की कोशिश में जुटी बीजेपी को तब बड़ी सफलता मिली थी, जब उसने लोकसभा चुनाव 2019 में 2014 की 2 सीटों के मुक़ाबले 18 सीटें जीती थीं। इसके बाद सीएए और एनआरसी के मुद्दे को लेकर उसने बंगाल को गर्माए रखा।

नड्डा के इस बयान पर टीएमसी की प्रतिक्रिया आई है। बीजेपी के ख़िलाफ़ काफी मुखर रहने वालीं पार्टी की सांसद महुआ मोइत्रा ने ट्वीट कर कहा है कि बीजेपी को अपने कागज दिखाने से पहले, हम उसे बाहर का रास्ता दिखाएंगे। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

राजनीतिक हिंसा 

बंगाल में हो रही राजनीतिक हत्याएं इस बात का सबूत हैं कि आने वाले दिनों में माहौल और ख़राब हो सकता है। टीएमसी और बीजेपी के कार्यकर्ताओं में ये खूनी झड़पें 2014 के बाद से ही जारी हैं और विधानसभा से लेकर लोकसभा और पंचायतों के चुनाव में जमकर हिंसा हो चुकी है। 

नड्डा के इस एलान के बाद कि सीएए को जल्द लागू किया जाएगा, आगे यह तय माना जाए कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह भी अपनी रैलियों में इसका जिक्र अवश्य करेंगे। कुल मिलाकर बीजेपी को पूरी उम्मीद सिर्फ़ हिंदू मतों के ध्रुवीकरण से है, देखना होगा कि ममता बनर्जी उसकी इस सियासी चाल को कामयाब होने देती हैं या नहीं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें