loader

चुनाव: ममता को भारी पड़ेगी शुभेंदु की बग़ावत?

पश्चिम बंगाल में करीब दस साल से सत्ता में बैठी टीएमसी (टीएमसी) को बीते दो साल के भीतर दूसरी बार बग़ावत का सामना करना पड़ रहा है। वह भी पूर्व मेदिनीपुर के जनाधार वाले नेता और परिवहन मंत्री शुभेंदु अधिकारी की ओर से। दो साल पहले ममता का दाहिना हाथ कहे जाने वाले मुकुल रॉय ने भी बग़ावत कर बीजेपी का दामन थाम लिया था। 

शुभेंदु ने हालांकि अब तक किसी का नाम लेकर सार्वजनिक रूप से कोई टिप्पणी नहीं की है। लेकिन बीते कुछ महीनों से उन्होंने खुद को जिस तरह सरकार और पार्टी के कार्यक्रमों से काट लिया है वह उनकी नाराजगी की कहानी खुद कहता है। 

बीते तीन महीनों से उन्होंने न तो कैबिनेट की किसी बैठक में हिस्सा लिया है और न ही अपने जिले में तृणमूल की ओर से आयोजित किसी कार्यक्रम में। इसके उलट वे दादार अनुगामी यानी दादा के समर्थक नामक एक संगठन के बैनर तले लगातार रैलियांं और सभाएं कर रहे हैं।

अधिकारी परिवार का मेदिनीपुर में व्यापक जनाधार है। शुभेंदु के पिता शिशिर अधिकारी और छोटे भाई दिब्येंदु अधिकारी भी जिले की दो सीटों से टीएमसी के सांसद हैं। इस परिवार का असर इलाके की 35 विधानसभा सीटों पर है।
ऐसे में शुभेंदु की बग़ावत टीएमसी के लिए भारी पड़ सकती है। वे जिले की उस नंदीग्राम सीट से विधायक हैं जिसने वर्ष 2007 में जमीन अधिग्रहण के ख़िलाफ़ हिंसक आंदोलन के जरिए सुर्खियां बटोरी थीं और टीएमसी के सत्ता में पहुंचने का रास्ता साफ किया था।
ताज़ा ख़बरें

प्रशांत किशोर से नाराज़गी

आखिर कभी दीदी यानी ममता बनर्जी के सबसे करीबी नेताओं में शुमार शुभेंदु के साथ ऐसा क्या हुआ कि अचानक उनके सुर बदल गए हैं? इसके लिए कम से कम छह महीने पीछे लौटना होगा। टीएमसी के एक वरिष्ठ नेता कहते हैं, ‘दरअसल अधिकारी बीते कुछ महीनों से पार्टी में अपनी उपेक्षा से नाराज चल रहे थे। पार्टी का शीर्ष नेतृत्व चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर की सलाह पर चल रहा है। खासकर पूर्व मेदिनीपुर जिले के मामलों में अधिकारी से राय लेने तक की ज़रूरत नहीं समझी गई।’ वह कहते हैं कि इसके साथ ही ममता जिस तरह अपने भतीजे अभिषेक बनर्जी को उत्तराधिकारी के तौर पर पेश कर रही हैं उससे भी अधिकारी बंधुओं में भारी नाराजगी है।

suvendu adhikari revolt against Mamta banerjee - Satya Hindi

शुभेंदु की उपेक्षा 

सरकारी सूत्रों का कहना है कि शुभेंदु के परिवहन मंत्री होने के बावजूद हाल के महीनों में मंत्रालय से संबंधित ज्यादातर फ़ैसले ममता और उनके क़रीबी लोग ही करते रहे हैं। इसके अलावा शुभेंदु की पहल पर पार्टी में शामिल होने वाले लोगों को उनके मुकाबले ज्यादा तरजीह दी जा रही थी। 

शुभेंदु ने बीते सप्ताह एक जनसभा में किसी का नाम लिए बिना कहा था, “मैं किसी की मदद या पैराशूट के जरिए ऊपर नहीं आया हूं। लेकिन मैं जिन नेताओं को पार्टी में लाया था आज वही मेरे ख़िलाफ़ साजिश रच रहे हैं।”

नंदीग्राम आंदोलन 

टीएमसी को सत्ता तक पहुंचाने में जिस नंदीग्राम आंदोलन ने अहम भूमिका निभाई थी उसके मुख्य वास्तुकार शुभेंदु ही थे। वर्ष 2007 में कांथी दक्षिण सीट से विधायक होने के नाते तत्कालीन वाममोर्चा सरकार के ख़िलाफ़ भूमि उच्छेद प्रतिरोध कमेटी के बैनर तले स्थानीय लोगों को एकजुट करने में उनकी सबसे अहम भूमिका थी। उस समय नंदीग्राम में प्रस्तावित केमिकल हब के लिए जमीन अधिग्रहण के ख़िलाफ़ आंदोलन की सुगबुगाहट शुरू ही हुई थी। उस दौर में इलाके में सीपीएम नेता लक्ष्मण सेठ की तूती बोलती थी। लेकिन यह शुभेंदु ही थे जिनकी वजह से इलाके के सबसे ताकतवर नेता रहे सेठ को पराजय का मुंह देखना पड़ा था। उसके बाद जंगलमहल के नाम से कुख्यात रहे पश्चिम मेदिनीपुर, पुरुलिया और बांकुड़ा जिलों में टीएमसी का मजबूत आधार बनाने में भी शुभेंदु का ही हाथ था।

बीते 10 नवंबर को नंदीग्राम में भूमि उच्छेद प्रतिरोध कमेटी के बैनर तले आयोजित एक रैली में शुभेंदु ने कहा, “मैं 13 वर्षों से इलाके के लोगों के सुख-दुख में साथ हूं। यहां जो आंदोलन हुआ वह किसी एक व्यक्ति का नहीं था। लेकिन अब चुनाव नजदीक आने पर तमाम नेता सियासी रोटियां सेकने का प्रयास कर रहे हैं।” 

यहां इस बात का जिक्र ज़रूरी है शुभेंदु की तमाम रैलियों में परंपरा के उलट न तो ममता बनर्जी की कोई तसवीर नजर आती है और न ही टीएमसी का झंडा। मालदा, पुरुलिया, मुर्शिदाबाद और दार्जिलिंग तक में शुभेंदु के ऐसे पोस्टर लगे हैं जिनमें ममता या तृणमूल का कहीं कोई जिक्र नहीं है।

शुभेंद पर टिप्पणी का विरोध 

दिलचस्प बात यह है कि 10 नवंबर को नंदीग्राम दिवस के मौके पर शुभेंदु की रैली से कुछ दूरी पर ही टीएमसी के बैनर तले भी एक रैली आयोजित की गई थी। शहरी विकास मंत्री फिरहाद हाकिम ने उस रैली में शुभेंदु का नाम लिए बिना उन पर बीजेपी के हाथ मजबूत करने का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि वे राजनीति में हमेशा मीर जाफऱ रहे हैं। लेकिन शुभेंदु के छोटे भाई और तृणमूल सांसद दिब्येंदु अधिकारी ने यह कहते हुए इसका विरोध किया कि हाकिम को ऐसी टिप्पणी करना शोभा नहीं देता और तृणमूल की ओर से हमें नंदीग्राम की रैली का निमंत्रण ही नहीं मिला था।

बंगाल चुनाव पर देखिए चर्चा- 

बीजेपी का न्यौता 

दूसरी ओर, इस झगड़े की आग में घी डालने का प्रयास करते हुए प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष और सांसद सौमित्र खान समेत कई नेता शुभेंदु को भगवा पार्टी में शामिल होने का न्यौता दे चुके हैं। लेकिन शुभेंदु ने कहा है कि वे अब भी टीएमसी के सिपाही हैं। हालांकि उनके अलग संगठन बनाने के कयास भी जोर पकड़ रहे हैं।

शुभेंदु की बग़ावत से होने वाले ख़तरे को भांपते हुए अब टीएमसी नेतृत्व ने उनकी शिकायतों को दूर करने के लिए बातचीत की कवायद शुरू की है।

suvendu adhikari revolt against Mamta banerjee - Satya Hindi

मनाने में जुटी पार्टी 

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उनके घर जाकर बीते रविवार की रात को करीब ढाई घंटे तक उनसे बातचीत की। टीएमसी के एक वरिष्ठ नेता ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया, “शुभेंदु को मनाने की जिम्मेदारी पार्टी के दो वरिष्ठ सांसदों को सौंपी गई है। रविवार को तमाम मुद्दों पर बातचीत हुई।” 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

इससे पहले प्रशांत किशोर भी 12 नवंबर को शुभेंदु से मिलने गए थे। लेकिन उनसे मुलाकात नहीं हो सकी। प्रशांत ने शुभेंदु के पिता शिशिर से लंबी बातचीत की थी। उस बैठक के बाद शिशिर ने पत्रकारों से कहा था कि वे और उनके पुत्र अब भी ममता बनर्जी के साथ हैं और कुछ निहित स्वार्थी नेता इस बारे में अफवाहें फैलाने में जुटे हैं। लेकिन शुभेंदु पार्टी के किसी कार्यक्रम में क्यों नहीं जा रहे हैं? इस सवाल पर शिशिर ने कहा कि शुभेंदु एक परिपक्व राजनेता हैं और अपने फ़ैसले खुद लेते हैं। उनके कुछ समर्थकों ने नया संगठन बनाया है।

अभिषेक बनर्जी से नाराजगी

राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि शुभेंदु अधिकारी मुकुल राय के बाद बग़ावत करने वाले टीएमसी के दूसरे सबसे ताक़तवर नेता हैं। उनकी नाराजगी की सबसे प्रमुख वजह शायद ममता बनर्जी की ओर से उत्तराधिकारी के तौर पर अपने भतीजे सांसद अभिषेक बनर्जी को बढ़ावा देना है। ऐसे में उनकी नाराजगी पार्टी के लिए भारी साबित हो सकती है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रभाकर मणि तिवारी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें