loader

दुर्गा विवाद: बीजेपी का ही पैंतरा अपना 'बाहरी' बता रही तृणमूल!

चुनावों में अपने मुताबिक़ मुद्दे तय करने में माहिर बीजेपी पश्चिम बंगाल में लगता है कि तृणमूल द्वारा तय मुद्दे में फँसती दिख रही है। 'भगवान राम और दुर्गा' विवाद के बहाने बाहरी और बंगाली का मुद्दा ख़ड़ा होता दिख रहा है। ऐसा इसलिए कि बीजेपी के ख़िलाफ़ जिस धारणा को तृणमूल ने बनाया उस पर बीजेपी के नेता सफ़ाई देते फिर रहे हैं। बंगाल बीजेपी अध्यक्ष से लेकर पार्टी के कद्दावर नेता अमित शाह तक। आख़िर ममता बनर्जी की पार्टी ऐसा कैसे कर पाई? 

तृणमूल ने लगता है कि ऐसा बीजेपी के पैंतरे से ही किया। समझा जाता है कि बीजेपी विरोधी दलों के नेताओं के उन कमज़ोर बयानों को उठाती है जिससे मुद्दे सेट किये जा सकें और फिर लगाताार उसी के ईर्द-गिर्द चुनावी अभियान तय करती है। लगता है अब तृणमूल बीजेपी का यह पैंतरा उसी पर आजमा रही है। 

ताज़ा ख़बरें
तृणमूल ने इसके लिए निशाना बनाया पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के बयान को जिसमें उन्होंने भगवान दुर्गा और राम की तुलना की थी। 12 फरवरी को कोलकाता में इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में घोष ने कहा था, 'ऐसी पार्टियाँ (टीएमसी) राजनीति के बजाय धर्म की बात करती हैं, और धर्म के बजाय राजनीति की। हम राजनीति खुलेआम करते हैं। भगवान राम एक राजा थे। कुछ लोग सोचते हैं कि वह एक अवतार थे। 14 पीढ़ियों के उनके वंश का पता लगाया जा सकता है। क्या कोई दुर्गा का वंश खोज सकता है? राम को एक आदर्श व्यक्ति और प्रशासक माना जाता है।' उन्होंने आगे कहा था, 'हमारे पास एक बंगला रामायण है। गांधीजी ने हमें रामराज्य की कल्पना दी थी। मुझे नहीं पता कि दुर्गा कहाँ से आई है। रावण को नष्ट करने के लिए उन्होंने दुर्गा से प्रार्थना की। इसलिए यह एक और मामला है। मैं यह नहीं समझता कि आप दुर्गा को राम के ख़िलाफ़ कैसे खड़ा कर सकते हैं। इन लोगों ने सिखाया है कि राम बंगाल में देवता नहीं हैं और मुझे नहीं पता कि यह अवधारणा कहाँ से आई है।'

राम को एक 'राजनीतिक आइकन' और 'आदर्श व्यक्ति' बताए जाने के बीच 'दुर्गा कहाँ से आ गई' वाले बयान को तृणमूल ने पकड़ लिया। इसने कहा कि बीजेपी ने दुर्गा का अपमान किया है। तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने इसके विरोध में अपने सिर मुड़ा लिए। 

बता दें कि दुर्गा पश्चिम बंगाल की वह धार्मिक आइकॉन हैं और वह एक सांस्कृतिक प्रतीक हैं। यही वजह है कि दुर्गापूजा धार्मिक कम और सांस्कृतिक उत्सव अधिक है, जिसमें सभी संप्रदायों के लोग शिरकत करते हैं, मुसलमान भी और ईसाई भी। 

और इसीलिए तृणमूल ने इसको मुद्दा बना दिया। 

तृणमूल कांग्रेस के नेता अब दिलीप घोष के बयान को आम लोगों तक पहुँचाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं।

कहा जा रहा है कि पार्टी घोष के बयान को लोगों तक ले जाने के लिए तकनीक और सोशल मीडिया का इस्तेमाल करने वाली है। तृणमूल नेताओं का मक़सद लोगों को यह बताना होगा कि 'बीजेपी ने दुर्गा का अपमान किया' है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार, एक वरिष्ठ नेता ने कहा है, 'अब इसे बढ़ाना होगा। कई स्थानों पर पार्टी कार्यकर्ता यह सुनिश्चित कर रहे हैं कि घोष ने जो कहा उसे लोग सुनें। यदि आप बारीकी से सुनते हैं तो दो बार वह दुर्गा का ज़िक्र करते हैं। एक बार जब वे कहते हैं कि राम की वंशावली 14 पीढ़ियों तक दर्ज की जा सकती है, जबकि दुर्गा की नहीं। एक अन्य सवाल पर उन्होंने कहा कि दुर्गा इस बातचीत में कहाँ से आई हैं।'

ख़ास ख़बरें

तृणमूल नेताओं ने दिलीप घोष के बयान को बंगाली बनाम बाहरी से भी जोड़ दिया है। तृणमूल ने जो नया नारा- 'बंगला निजेर मयेके छै' यानी 'बंगाल अपनी ही बेटी चाहता है' दिया है उसमें भी यही मुद्दा सेट करना मक़सद है कि विरोधी दल बाहरी लोगों को सत्ता सौंपना चाहता है। 

trinamool campaign against bjp as outsider on dilip ghosh goddess durga controversy - Satya Hindi

यह मामला कितना बड़ा है यह इससे भी समझा जा सकता है कि तृणमूल के इस अभियान पर बीजेपी सफ़ाई जारी कर रही है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को ही कहा है कि पश्चिम बंगाल में बीजेपी के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बाहरी व्यक्ति नहीं होगा। 

उन्होंने कहा है कि टीएमसी ने बंगाल में बाहरी लोगों के बारे में एक ग़लत अभियान शुरू किया है। क्या ममता बनर्जी बंगाल को ऐसा बनाने की कोशिश कर रही हैं, जहाँ देश के किसी भी हिस्से से कोई नहीं आ सकता है? उन्होंने कहा, 'मैंने 25 बार कहा है कि अगला मुख्यमंत्री बंगाल की मिट्टी का ही होगा। अगर ममता बनर्जी बाहरी मुद्दे पर लोगों को विभाजित करने की कोशिश करती हैं तो मुझे कहना होगा कि वह बंगालियों को नहीं जानती हैं। हमारी पार्टी के संसदीय बोर्ड ने अभी तक मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार तय नहीं किया है।'

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें
दिलीप घोष ने 'द इंडियन एक्सप्रेस' से कहा, 'अब कौन अपने राजनीतिक उद्देश्य के लिए दुर्गा का उपयोग कर रहा है? एक पार्टी जिसने सरस्वती पूजा पर प्रतिबंध लगाया। वे असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और हीन भावना का मुद्दा है। वे अपने पिछले पापों को राजनीतिक रूप से देवी दुर्गा का इस्तेमाल कर धोने की कोशिश कर रहे हैं। दुर्गा हमारे लिए एक आध्यात्मिक और धार्मिक प्रतीक हैं। हम पूजा करते हैं लेकिन राम हमारे लिए एक राजनीतिक प्रतीक हैं। बीजेपी राम राज्य की बात करती है और यह हमारा अंतिम उद्देश्य भी है। टीएमसी की न कोई विचारधारा है और न ही आइकॉन। इसलिए वे इस तरह के मुद्दों को उठाने की कोशिश कर रहे हैं।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें