loader

बांग्लादेश: फिर भड़के सांप्रदायिक दंगे, हिंदू समुदाय के 2 लोगों की मौत

धार्मिक सहिष्णुता और सर्वधर्म समभाव की विरासत के लिए मशहूर बंगाली संस्कृति में भी सांप्रदायिक उन्माद फैल रहा है। बंगाली संस्कृति का प्रतीक समझे जाने वाली दुर्गा पूजा के मौके पर बांग्लादेश में फिर से भड़के सांप्रदायिक दंगों में शनिवार को दो लोगों की मौत हो गई। ये दोनों ही अल्पसंख्यक समुदाय के हैं। दंगों को फैलने से रोकने के लिए कई जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है। 

बांग्लादेश में अल्पसंख्यक हिन्दुओं की तादाद कुल जनसंख्या का लगभग 10 प्रतिशत है। 

बांग्लादेश में बुधवार को एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें दुर्गा प्रतिमा के घुटनों पर मुसलमानों के पवित्र धर्म ग्रंथ कुरान को रखा हुआ दिखाया गया। वीडियो वायरल होने के बाद बांग्लादेश के कई जिले दंगों की चपेट में आ गए थे।

ताज़ा ख़बरें

शुक्रवार को ज़ुमे की नमाज के बाद सैकड़ों मुसलमानों ने हिंदू मंदिरों पर हमला बोल दिया था। दो सौ से ज़्यादा लोगों ने बेगमगंज में एक हिंदू मंदिर पर तब हमला बोल दिया, जब वहां दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन की तैयारियाँ चल रही थीं। 

हमलावरों ने मंदिर कमेटी के एक कार्यकारी सदस्य की चाकू घोंप कर हत्या कर दी। शनिवार को एक और हिंदू व्यक्ति की लाश मंदिर से सटे एक तालाब में मिली। 

ज़िला पुलिस प्रमुख शहीदुल इसलाम ने समाचार एजेन्सी एएफ़पी से कहा, “कल से आज तक हमले में दो लोग मारे गए हैं। हम दोषियों को गिरफ़्तार करने की कोशिश कर रहे हैं।” 

Communal Violence In Bangladesh Hindu temples attacked  - Satya Hindi

बांग्लादेश की वज़ीर-ए-आज़म शेख़ हसीना ने गुरूवार को कहा था कि इन घटनाओं की जांच की जाएगी और इसके लिए जिम्मेदार लोगों को पकड़कर उन्हें सजा दी जाएगी। घटना सामने आने के बाद भारत ने दंगों के लिए जिम्मेदार लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की थी। 

दंगों की शुरुआत कुमिलिया में बने दुर्गा पूजा के पंडाल से हुई थी। इसके बाद भीड़ ने कुमिलिया, हाज़ीगंज, हतिया और बांसखाली में स्थित मंदिरों पर हमला कर दिया था। 

इससे पहले दंगों के दौरान बुधवार को जब लगभग 500 लोगों ने हाजीगंज में स्थित एक हिंदू मंदिर पर हमला बोल दिया था तो पुलिस ने फ़ायरिंग कर दी थी, इसमें चार लोगों की मौत हो गई थी। हिंदू समुदाय के नेता गोबिंद चंद्र प्रमाणिक ने एएफ़पी को बताया कि पूरे मुल्क़ में हिंदू समुदाय के 150 लोग घायल हुए हैं और 80 मंदिरों पर हमला हुआ है। 

दुनिया से और ख़बरें

दुर्गा प्रतिमाओं को तोड़ा 

घटना के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए हैं जिनमें देखा जा सकता है कि भीड़ ने दुर्गा पूजा के पंडालों पर हमला किया, पत्थर फेंके और हिंदू मंदिरों में तोड़फोड़ की। इस दौरान कई जगहों पर दुर्गा प्रतिमाओं को भी भीड़ ने तोड़ दिया। 

बताया जा रहा है कि दंगों के पीछे जमात-ए-इसलामी का हाथ है और इन्हें सांप्रदायिक आग भड़काने की नीयत से अंजाम दिया गया। 

बांग्लादेश हिंदू यूनिटी काउंसिल ने इन हमलों से जुड़े वीडियो और फ़ोटो को शेयर किया था। काउंसिल ने मुसलिमों से अपील की थी कि वे अफ़वाहों पर भरोसा न करें। काउंसिल ने कहा था कि दुर्गा पूजा में क़ुरान की कोई ज़रूरत नहीं होती और किसी ने दंगे कराने की साज़िश रची है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें