loader

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों ने कहा- तत्काल मदद की ज़रूरत

रूस के द्वारा किए गए हमले के बाद यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्र लगातार वीडियो जारी कर अपनी गुहार लगा रहे हैं। ऐसे ही एक वीडियो को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया है। वीडियो में बेंगलुरु की रहने वाली 2 छात्राएं बता रही हैं कि यहां से भारतीयों को निकाला जाना बेहद जरूरी है। 

उन्होंने कहा कि उन्हें सरकार से अभी तक किसी तरह की मदद नहीं मिल सकी है। वे लोग बंकरों में रुके हुए हैं और उन्हें मदद की जरूरत है। 

बता दें कि यूक्रेन में 16000 भारतीय छात्र और नागरिक रहते हैं जो वहां रहकर पढ़ाई कर रहे हैं या व्यापार आदि करते हैं।

ताज़ा ख़बरें
छात्राओं का कहना है कि यहां पर दुकानें पूरी तरह बंद हो गई हैं और वे लोग बिना पानी और खाने के बंकरों में रुके हुए हैं। वीडियो में दिख रहा है कि बंकरों में बड़ी संख्या में लोग मौजूद हैं। 

लगातार बमबारी 

यूक्रेन की खारकीव नेशनल मेडिकल यूनिवर्सिटी की छात्रा लक्ष्मी ने एनडीटीवी को बताया कि वे लोग बेहद तनाव में हैं और उनके लिए यूक्रेन से बाहर निकलकर पड़ोसी देशों जैसे रोमानिया आदि तक पहुंचना असंभव है। लक्ष्मी ने कहा है कि यह लगभग 2000 किलोमीटर दूर है और हम यहां किसी नजदीकी सुपर मार्केट में तक नहीं जा सकते। 

लक्ष्मी ने कहा है कि यहां पर लगातार बमबारी हो रही है और हमें यह भी नहीं बताया गया कि हम यहां से आगे कैसे जाएंगे। 

Indians Stranded In Ukraine amid Russia attack - Satya Hindi

पड़ोसी देशों में जा रहे लोग 

निश्चित रूप से बड़ी संख्या में वहां फंसे भारतीय बेहद मुश्किलों में हैं। इसके अलावा यूक्रेन के नागरिक भी रूस की लगातार बमबारी के डर से पड़ोसी देशों पोलैंड, हंगरी,  रोमानिया, स्लोवाकिया आदि जाने पर मजबूर हैं। 

ये लोग छोटे बच्चों और घर का थोड़ा बहुत सामान लेकर लगातार पड़ोसी देशों में पहुंच रहे हैं क्योंकि यूक्रेन के कई इलाकों में बमबारी हो रही है और दोनों देशों की सेनाओं के बीच जबरदस्त जंग चल रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें