loader

काबुल में राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी के आवास के पास गिरे रॉकेट 

अफ़ग़ानिस्तान में अफ़ग़ान सेना और तालिबान के कट्टरपंथियों के बीच चल रहे संघर्ष में राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी के काबुल स्थित आवास के पास मंगलवार को रॉकेट गिरे। इसे हमला माना जा रहा है और यह बकरीद की नमाज़ के दौरान हुआ है। 

न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स ने टीवी ख़बरों के हवाले से कहा है कि इस इलाक़े में हुए कई जोरदार धमाकों के बाद सभी को नमाज़ रोकनी पड़ी। इस हमले में कितने लोग घायल हुए हैं, अभी इसका पता नहीं चल सका है। ख़बरों के मुताबिक़, राष्ट्रपति आवास के नज़दीक तीन रॉकेटों से हमला किया गया है। 

सूत्रों के मुताबिक़, परवान-ए-से इलाक़े से रॉकेट दागे गए और ये काबुल के जिला 1 के बाग-ए-अली मर्दान और चमन-ए-होज़ोरी इलाकों और काबुल के जिला 2 के मनाबे बशारी इलाक़ों में गिरे। 

ताज़ा ख़बरें

आईएसआई भी सक्रिय 

इंडिया टुडे के मुताबिक़, पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई ने अपने लड़ाकों और तालिबान को आदेश दिया है कि वे भारत के द्वारा अफगानिस्तान में बनाई गई इमारतों और निर्माण को निशाना बनाएं। राष्ट्रपति अशरफ़ ग़नी ने कुछ दिन पहले पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाते हुए कहा था कि पाकिस्तान से 10,000 जेहादी लड़ाके बीते महीने अफ़ग़ानिस्तान में घुस चुके हैं। 

उन्होंने कहा था कि पाकिस्तान तालिबान को इस बात के लिए मनाने में फ़ेल रहा कि यह कट्टरपंथी संगठन संजीदा होकर शांति वार्ता में भाग ले। हालांकि इमरान ने ग़नी के इन आरोपों को खारिज़ कर दिया और कहा कि अफ़ग़ानिस्तान के हालात के लिए पाकिस्तान को दोष देना ग़लत है। 

दोनों ही नेता ताशकंत में आयोजित ‘मध्य और दक्षिण एशिया क्षेत्रीय संपर्क: चुनौतियां और अवसर’ नाम से आयोजित अंतरराष्ट्रीय कॉन्फ्रेन्स में बोल रहे थे। 

दुनिया से और ख़बरें

सालेह ने भी लगाया था आरोप 

इससे पहले अफ़ग़ानिस्तान के उप राष्ट्रपति अमीरूल्लाह सालेह ने भी पाकिस्तान पर गंभीर आरोप लगाया था। अमीरूल्लाह सालेह ने कहा था कि पाकिस्तान की एयर फ़ोर्स तालिबान की मदद कर रही है और उसने अफ़ग़ान सेना को चेतावनी दी है कि वह उनके ख़िलाफ़ कार्रवाई न करे। 

सालेह ने गुरूवार रात को ट्वीट कर कहा कि पाकिस्तान की एयर फ़ोर्स ने अफ़ग़ान आर्मी और एयर फ़ोर्स के लिए आधिकारिक रूप से चेतावनी जारी की है। इसमें उसने कहा है कि तालिबान को स्पिन बोल्डक के इलाक़े को खदेड़ने का पाकिस्तान की एयर फ़ोर्स की ओर से जवाब दिया जाएगा। 

बता दें कि भारत ने अफ़ग़ानिस्तान में कई परियोजनाओं में अरबों डॉलर का निवेश किया है। कुछ दिन पहले ही भारत ने काबुल में स्थित अपने वाणिज्य दूतावास से कर्मचारियों को वापस बुला लिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें