loader

हिंसा की निंदा की पर अपने 'भड़काऊ' भाषण पर नहीं बोले ट्रंप

कैपिटल बिल्डिंग यानी अमेरिकी संसद भवन हिंसा की राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने निंदा की है। आज कुछ देर पहले जारी एक वीडियो मैसेज में उन्होंने हमले को जघन्य हमला क़रार दिया है। उन्होंने यह भी कहा कि वह 'अराजकता और उत्पात' से गु़स्से में हैं। उनका यह संदेश तब आया है जब ट्रंप के ख़िलाफ़ महाभियोग जैसी कार्रवाई किए जाने का अंदेशा भी जताया जा रहा है। 

क़रीब ढाई मिनट के अपने वीडियो संदेश में कई चीज़ों पर सफ़ाई दी लेकिन ट्रंप ने हिंसा भड़काने में अपनी भूमिका के बारे में कुछ नहीं बोला। जबकि ट्रंप पर सबसे ज़्यादा आरोप यही लग रहा है कि उनके कथित भड़काऊ भाषण के बाद ही उनके समर्थकों ने हिंसा की।

ट्रंप ने अपने इस वीडियो संदेश को ट्वीट किया है। 

वीडियो संदेश में डोनल्ड ट्रंप ने अमेरिकी लोकतंत्र, देशभक्ति जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया। उन्होंने घाव भरने की बात की और मेल-मिलाप पर ज़ोर दिया। उन्होंने यह भी कहा, 'अब जब कांग्रेस ने परिणामों को प्रमाणित कर दिया है, तो 20 जनवरी को नए प्रशासन की शुरुआत होगी।' उन्होंने यह भी कहा कि उनका ध्यान अब एक सुव्यवस्थित और निर्बाध सत्ता हस्तांतरण सुनिश्चित करने के लिए होगा।'

ट्रंप का यह बयान इसलिए अहम है कि इस कैपिटल बिल्डिंग हिंसा के लिए ट्रंप की आलोचना की जा रही है। यह इसलिए कि अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन के शहर कैपिटल हिल में सांसदों की बैठक करने वाली जगह का नाम यूएस कैपिटल या कैपिटल बिल्डिंग है जहाँ हिंसा हुई है। यहीं पर जो बाइडन की जीत को प्रमाण पत्र मिलने से पहले ट्रंप ने वाशिंगटन में एक रैली में कथित तौर पर भड़काऊ भाषण दिया। इसमें उन्होंने कहा था कि 'हम कभी हार नहीं मानेंगे।' उन्होंने भीड़ को भड़काते हुए कहा, 'आप कमज़ोरी से अपना देश फिर हासिल नहीं कर सकते।' ट्रंप ने भीड़ को कैपिटॉल की ओर कूच करने को कहा। 

ट्रंप के भाषण के बाद ही उनके समर्थकों ने कैपिटल बिल्डिंग में घुसने की कोशिश की और हिंसात्मक प्रदर्शन किया। ट्रम्प समर्थक प्रदर्शनकारियों द्वारा कैपिटल बिल्डिंग में घुसने और हिंसा किये जाने को जो बाइडन को राष्ट्रपति नियुक्त करने में संसद की कार्यवाही में बाधा डालने के प्रयास के तौर पर देखा गया। इस हिंसा में 4 लोगों की मौत हो गई है। 
ट्रंप की ही पार्टी के रिपब्लिकन सीनेटर मिट रोमनी ने भी कैपिटल में हिंसा के लिए राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प को दोषी ठहराया।

ट्रम्प के लगातार आलोचक रहे रोमनी ने बुधवार को कहा कि कैपिटल की हिंसक घटना एक स्वार्थी व्यक्ति के ठेस पहुँचे गर्व और उनके समर्थकों के आक्रोश का नतीजा है। उन्होंने यह भी कहा कि समर्थकों को ट्रंप ने पिछले दो महीनों से जानबूझकर गलत जानकारी दी थी।

ताज़ा ख़बरें

हिंसा को भड़काने में उनका हाथ होने के आरोप लगाए जाने के बाद भी ट्रंप इसपर कुछ नहीं बोले। जबकि अमेरिका का प्रतिष्ठित अख़बार न्यूयॉर्क टाइम्स ने ही उनके उस भाषण पर ख़बर दी है जिससे हिंसा भड़की। 

रिपोर्ट के अनुसार, बुधवार को राजधानी वॉशिंगटन के संसद परिसर कैपिटल में जिस समय डोनल्ड ट्रंप के समर्थक अंदर घुस गए और तोड़फोड़ की, राष्ट्रपति न सिर्फ़ अपने दफ़्तर में टेलीविज़न पर चुपचाप तमाशा देखते रहे, बल्कि उन्होंने उस स्थिति में भी उस उत्तेजित भीड़ को और भड़काया। इस बीच ह्वाइट हाउस के कई वरिष्ठ अधिकारियों ने उनसे गुज़ारिश की कि वे हिंसा रोकने के लिए कुछ करें। पर वे चुप रहे।

आशुतोष की बात में देखिए, क्या अमेरिका गृहयुद्ध की तरफ़ बढ़ रहा है?

‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ के मुताबिक़ जिस समय अमेरिकी संसद कांग्रेस के दोनों सदनों प्रतिनिधि सभा (हाउस ऑफ़ रिप्रेजेन्टेटिव्स) और सीनेट की संयुक्त बैठक की अंतिम तैयारियाँ चल रही थीं, ट्रंप ने अपने समर्थकों को उकसाया और उसके बाद ही हिंसा शुरू हुई। 

बता दें कि ट्रंप ने समर्थकों की रैली को संबोधित करते हुए कहा था, 'चुनाव चुरा लिया गया है।' उन्होंने भीड़ को भड़काते हुए कहा, 'आप कमज़ोरी से अपना देश फिर हासिल नहीं कर सकते।' ट्रंप ने भीड़ को कैपिटॉल की ओर कूच करने को कहा। राष्ट्रपति ने हिंसा के बावजूद शुरू में नेशनल गार्ड्स को नहीं बुलाया। उन्होंने तोड़फोड़ होने और अपने सहयोगियों की अपील के बावजूद हिंसा रोकने की अपील नहीं की। हालाँकि ट्रंप ने अपने वीडियो संदेश में यह ज़रूर सफ़ाई दी है कि हिंसा की ख़बर पर उन्होंने सुरक्षा कर्मियों को तैनात किया और प्रदर्शनकारियों को हटवाया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें