loader

चीन के साथ सीमा विवाद पर मोदी ‘अच्छे मूड’ में नहीं हैं: ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि चीन के साथ सीमा विवाद को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘अच्छे मूड’ में नहीं हैं। ट्रंप ने कहा है कि उन्होंने इस बारे में मोदी से बात की है। 

व्हाइट हाउस में गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान ट्रंप ने भारत और चीन के बीच सीमा विवाद को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा, ‘भारत और चीन के बीच बड़ा संघर्ष चल रहा है। दोनों देशों की 1.4 अरब की आबादी है। दोनों के पास ताक़तवर सेना है। भारत ख़ुश नहीं है और ऐसा लगता है कि चीन भी ख़ुश नहीं है।’ 

ताज़ा ख़बरें
ट्रंप ने कहा, ‘मैं आपको बता सकता हूं। मैंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बात की है। चीन के साथ जो कुछ चल रहा है, उसे लेकर वह ‘अच्छे मूड’ में नहीं हैं।’ इससे पहले ट्रंप ने भारत और चीन के बीच मध्यस्थता करने की बात कहकर सनसनी फैला दी थी। 

ट्रंप ने ट्वीट कर कहा था, ‘मैंने भारत और चीन, दोनों को बता दिया है कि अमेरिका दोनों के बीच मध्यस्थता करने के लिए तैयार है, इच्छुक भी है और सक्षम भी।’ हालांकि ट्वीट में उन्होंने यह नहीं बताया है कि उन्होंने चीन और भारत को मध्यस्थता करने के बारे में कब बताया है। इसके बाद भारत ने कहा कि वह चीन के साथ बातचीत कर रहा है और सीमा विवाद को शांति के साथ सुलझाना चाहता है। 

दुनिया से और ख़बरें

चीन के साथ चल रहे सीमा विवाद के बीच ट्रंप का यह बयान कि मोदी अच्छे मूड में नहीं हैं, बेहद गंभीर है। 5 मई की शाम को लद्दाख में भारतीय और चीनी सैनिक आमने-सामने हो गए थे और इस दौरान धक्का-मुक्की भी हुई थी। उसके बाद से ही यह विवाद बढ़ता जा रहा है। 

उत्तराखंड में चीनी सीमा से लगने वाली वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर दोनों देशों के जवान बड़ी संख्या में तैनात हैं। लद्दाख में भी दोनों देशों के सैनिक तैनात हैं। 

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें