loader

युद्ध किसी भी समय, भारतीय दूतावास में अफसरों के परिवारों से फौरन यूक्रेन छोड़ने को कहा गया

भारत ने यूक्रेन में भारतीय दूतावास के अधिकारियों के परिवार से वापस आने को कहा। यह जानकारी देर रात विदेश मंत्रालय के सूत्रों ने दी। इससे पहले यूक्रेन में भारतीय दूतावास ने आज एक ट्वीट में कहा था कि भारतीय नागरिकों को रूस द्वारा संभावित आक्रमण पर तनाव के बीच देश से जाने के लिए किसी भी उपलब्ध वाणिज्यिक या चार्टर उड़ान की तलाश करनी चाहिए। यूक्रेन-रूस के बीच संभावित युद्ध टालने के लिए फ्रांस ने रविवार को आखिरी कोशिश की। फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से बात की। पुतिन ने कहा कि संकट टालने को तैयार हैं। ताजा घटनाक्रम यह है कि  पुतिन और बिडेन की मुलाकात मुमकिन है। कई लोग इस मुलाकात के लिए सक्रिय हैं। हालांकि अमेरिका, यूरोप के प्रचार तंत्र के मुताबिक यूक्रेन पर रूस कभी भी हमला कर सकता है। खबर है कि यूक्रेनी कमांडरों ने पूर्वी यूक्रेन में भारी गोलाबारी की सूचना दी है। 
ताजा ख़बरें
मैक्रॉन ने 7 फरवरी को पुतिन से मुलाकात की थी। उसके बाद जर्मनी के चांसलर ओलाफ स्कोल्ज़ भी अपनी कोशिश में जुट गए। फ्रांस के राष्ट्रपति कार्यालय ने बताया कि रविवार का आह्वान "यूक्रेन में एक बड़े संघर्ष से बचने के लिए अंतिम संभव और आवश्यक प्रयास है।
हालांकि यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोडिमिर ज़ेलेंस्की ने शनिवार को मैक्रों से कहा था कि वह रूस के उकसावे का जवाब नहीं देंगे।

उधर, सरकारी बलों और लुगांस्क और डोनेट्स्क जिलों के कुछ हिस्सों पर कब्जा करने वाले मास्को समर्थित विद्रोहियों के बीच रात में बहुत ज्यादा बमबारी सुनी गई।

नाटो का रुख नाटो प्रमुख जेन्स स्टोलटेनबर्ग ने कहा, सारे संकेत यही बताते हैं कि रूस यूक्रेन के खिलाफ एक बड़े हमले की योजना बना रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बिडेन भी यही मानते हैं कि हमला कभी भी हो सकता है। इस बीच यूक्रेन के बड़े जनरल वालेरी ज़ालुज़्निया ने कहा है कि रूसी सैनिक अस्थायी रूप से कब्जे वाले डोनेट्स्क और लुगांस्क में आतंकी कारनामों को अंजाम देने की योजना बना रही हैं। विद्रोही बलों ने भी यूक्रेन की सेना के बारे में इसी तरह के दावे किए हैं।

लुगांस्क विद्रोहियों ने रविवार को दावा किया कि उन्होंने यूक्रेनी बलों द्वारा किए गए एक हमले को नाकाम कर दिया, जिसमें दो नागरिक मारे गए थे। 

पश्चिमी देशों का कहना है कि रूस ने मिसाइल से लैस 150,000 सैनिकों और युद्धपोतों को यूक्रेन सीमा के पास तैनात कर दिया है, जो कभी भी हमला कर सकते हैं। इन सैनिकों में से करीब 30,000 बेलारूस में हैं। यहां से यूक्रेन की सीमा और राजधानी कीव बहुत नजदीक हैं। बहरहाल, म्यूनिख में पश्चिमी देशों ने रूस पर हमला करने पर भारी प्रतिबंधों की चेतावनी दे रखी है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें