loader

डब्ल्यूएचओ ने रोका कोरोना के इलाज के लिए मलेरिया वाली दवा का ट्रायल

विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल में लाई जा रही मलेरिया वाली दवा क्लोरोक्वीन का ट्रायल फ़िलहाल रोक दिया है। ऐसा एहतियातन किया गया है। डब्ल्यूएचओ का यह फ़ैसला तब आया है जब पिछले हफ़्ते ही लान्सेट पत्रिका ने एक शोध प्रकाशित किया है जिसमें संकेत मिलते हैं कि मलेरिया के इलाज में इस्तेमाल होने वाली इस दवा को कोरोना मरीज़ को देने से मरने की आशंका बढ़ जाती है।

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख टेड्रोस आधानोम ने सोमवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर इसकी जानकारी दी। टेड्रोस ने कहा कि तथाकथित सॉलिडैरिटी ट्रायल के कार्यकारी समूह, जिसमें कई देशों के सैकड़ों अस्पतालों ने कई रोगियों को कोरोनो वायरस के लिए संभावित उपचारों का परीक्षण करने के लिए नामांकित किया है, उस दवा के उपयोग किए जाने वाले ट्रायल यानी परीक्षण को एहतियात के तौर पर फ़िलहाल रोक कर दिया गया है।

ताज़ा ख़बरें

कोरोना मरीज़ों पर हाइड्रॉक्सिक्लिक्वीन दवा का इस्तेमाल पहले से ही विवादों में रहा है। लान्सेट पत्रिका में शोध छपने के बाद अब ट्रायल को रोकने के क़दम उठाए जा रहे हैं। स्वास्थ्य क्षेत्र में दुनिया की सबसे प्रतिष्ठित पत्रिका समझे जाने वाली ‘लान्सेट’ ने अपने एक शोध के आधार पर छपी रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना पीड़ित रोगी यदि हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्वीन या क्लोरोक्विन दवा लें तो उनके हृदय की गति असामान्य होने और हृदय गति रुकने से मौत होने की आशंका ज़्यादा है।

इसने कहा है कि मलेरिया के इस्तेमाल में काम आने वाली यह दवा क्लिनिकल ट्रायल के अलावा किसी कोरोना संक्रमित को किसी हाल में नहीं लेनी चाहिए। जब किसी दवा के प्रभाव की जाँच करने के लिए किसी मनुष्य को वह दवा दी जाती है, उसे क्लिनिकल ट्रायल कहते हैं।

लान्सेट के अध्ययन में पाया गया कि दोनों दवाएँ संभावित गंभीर दुष्प्रभाव पैदा कर सकती हैं, विशेष रूप से हृदय के लिए। इस दवा से अस्पताल में भर्ती कोविड-19 रोगियों को लाभ भी नहीं हुआ। लान्सेट के अध्ययन में सैकड़ों अस्पतालों में 96,000 रोगियों के रिकॉर्ड को देखा गया।

वैसे, इस शोध के आने से पहले ही अमेरिकी डॉक्टर, वैज्ञानिक और यहाँ तक कि अमेरिका के टॉप स्वास्थ्य अधिकारी क्लोरोक्वीन दवा का विरोध कर रहे हैं। इसके बावजूद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप इन दवाओं का स्टॉक करने में जुटे हुए हैं और कोरोना मरीजों के इलाज में इस दवा का धड़ल्ले से इस्तेमाल करने को कह रहे हैं। वह भी तब जब किसी प्रयोगशाला में यह प्रमाणित नहीं हुआ है कि कोरोना का इलाज इस दवा से संभव है।

हाल ही में तो ट्रंप ने कहा था कि वह हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्वीन दवा ले रहे हैं। 

दुनिया से और ख़बरें
बता दें कि अभी तक यह कहीं भी प्रमाणित नहीं हुआ है कि हाइड्रोऑक्साइक्लोरोक्वीन कोरोना के इलाज में काम करता है। हालाँकि चीन में कुछ डॉक्टरों ने कहा था कि अपेक्षाकृत कोरोना के सामान्य मरीज को जल्दी ठीक होने में इस दवा से सहायता मिली थी पर उनके इस दावे को अभी तक क्लिनिकल ट्रायल में पुष्ट नहीं किया जा सका है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें