loader

क्या बढ़ने वाली हैं फ़िल्म निर्माता अनुराग कश्यप की मुश्किलें?

बॉलीवुड में इन दिनों एक तरफ सुशांत सिंह राजपूत केस और ड्रग्स केस में रिया चक्रवर्ती और अन्य कई बड़ी फ़िल्मी हस्तियों की मुश्किलें बढ़ी हुई हैं, तो दूसरी तरफ यौन उत्पीड़न के आरोप में फ़िल्म निर्माता अनुराग कश्यप की भी मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही हैं।
अभिनेत्री पायल घोष ने पिछले हफ्ते ट्वीट करते हुए लिखा था, 

‘अनुराग कश्यप ने मेरे साथ ज़बरदस्ती की। नरेंद्र मोदी जी आपसे अनुरोध है कि इनके ख़िलाफ़ कार्रवाई कीजिए और देश को पता चले कि हक़ीक़त क्या है। मुझे पता है कि यह कहना मेरे लिए नुक़सानदेह है और मेरी सुरक्षा ख़तरे में है। कृपया मदद कीजिए।’


पायल घोष, अभिनेत्री

विश्लेषण से और खबरें

भूख हड़ताल की धमकी

पिछले दिनों पायल घोष ने अनुराग कश्यप की गिरफ़्तारी की माँग करते हुए भूख हड़ताल पर जाने की धमकी दी थी। पायल के वकील नितिन सतपुते ने बयान जारी कर कहा, 'मेरी क्लाइंट ने मुझे बताया कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिलेगा तो वह भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगी।' 

इसके बाद पायल ने एक बयान जारी कर कहा था, 'जब ग़रीब आदमी पर यौन शोषण जैसा गंभीर आरोप लगता है तो पुलिस 'तुरंत कार्रवाई' करती है और बिना किसी जाँच के उन्हें गिरफ़्तार कर लेती है और जाँच बाद में शुरू होती है। ग़रीब और अमीर के लिए दो अलग क़ानून हैं क्या?' 

पायल मिलीं राज्यपाल से 

भूख हड़ताल पर जाने के बाद पायल घोष ने मंगलवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात की। इस दौरान पायल घोष के साथ केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले और उनके वकील नितिन सतपुते भी थे। राज्यपाल से आधे घंटे चली इस मुलाक़ात में पायल घोष ने भगत सिंह कोशियारी से अनुराग कश्यप की जल्द गिरफ़्तारी और अपनी सुरक्षा की मांग की। 

पायल घोष को न्याय दिलाने के लिए सामने आये केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भी राज्यपाल से उन्हें न्याय दिलाने की माँग की। इसके साथ ही एक न्यूज़ चैनल को इंटरव्यू देते हुए रामदास अठावले ने फ़िल्म इंडस्ट्री को ‘काली’ इंडस्ट्री बताते हुए कहा,

‘आज फ़िल्म इंडस्ट्री का मुँह काला हो चुका है। पहले ड्रग्स केस फिर #Metoo मामला। इस तरह से यह इंडस्ट्री बदनाम है।’


रामदास अठावले, केंद्रीय मंत्री

उन्होंने आगे कहा, ‘अनुराग कश्यप अब तक मीडिया के सामने क्यों नही आए। अगर वे गलत नहीं होते तो अपना पक्ष मीडिया के सामने आकर ज़रूर रखते या तो अपने वकील के माध्य्म से रखते, लेकिन कुछ गलत उन्होंने ज़रूर किया है इसलिए वो सामने नहीं आ रहे हैं।'
अठावले ने आगे कहा, 

'अगर मामले में सही से जांच नहीं होती है तो मैं आंदोलन करूंगा। 1 अक्टूबर को मैं गृह मंत्री अनिल देशमुख से भी मुलाक़ात करूंगा और उनसे पायल घोष को जल्द न्याय दिलाने की माँग करूंगा। '


रामदास अठावले, केंद्रीय मंत्री

कंगना ने उठाये सवाल

यूट्यूबर साहिल चौधरी ने सुशांत के निधन के बाद अपने वीडियो में बॉलीवुड सितारों के साथ-साथ महाराष्ट्र सरकार पर भी सवाल उठाए थे और उनकी गिरफ़्तारी हो गई थी। साहिल को जेल भेजे जाने के मामले को लेते हुए कंगना रनौत ने ट्वीट किया और लिखा,

‘किसी ने साहिल पर एफ़आईआर कर दी, महाराष्ट्र सरकार के काम पर सवाल उठाने के लिए, जो कि उसका लोकतांत्रिक अधिकार है। उसे तुरंत जेल भेज दिया गया। लेकिन पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर काफी दिनों पहले ही रेप के आरोप में एफआईआर दर्ज करवाई थी और वो खुला ही घूम रहा है। क्या है ये सब?’


कंगना रनौत, अभिनेत्री

अनुराग कश्यप ने क्या कहा?

अपने ऊपर लगे आरोपों पर निर्माता अनुराग कश्यप ने अपनी वकील के बयान को सोशल मीडिया पर साझा किया था। जिसमें कहा गया था कि 'अनुराग अपने ऊपर लगे यौन दुराचार के झूठे आरोपों से काफ़ी व्यथित हैं। यह आरोप पूरी तरह झूठे, बेबुनियाद और ग़लत इरादे से लगाये गये हैं। यह दुखद है कि ‘मी टू’ जैसे अहम अभियान को दूसरों के चरित्र हनन का उपकरण बना दिया गया है। इस तरह के काल्पनिक आरोप निश्चित तौर पर इसकी अहमियत को कम कर देंगे।'
इसके अलावा अनुराग कश्यप ने ट्वीट कर कहा था, 

‘इतना समय ले लिया मुझे चुप करवाने की कोशिश में। चलो कोई नहीं। मुझे चुप कराते-कराते इतना झूठ बोल गए की औरत होते हुए दूसरी औरतों को भी संग घसीट लिया।'


अनुराग कश्यप, फ़िल्म निर्माता

उन्होंने इसके आगे कहा, 'थोड़ी तो मर्यादा रखिए मैडम। बस यही कहूंगा की जो भी आरोप हैं आपके सब बेबुनियाद हैं। बाकी मुझपर आरोप लगाते-लगाते, मेरे कलाकारों और बच्चन परिवार को संग में घसीटना तो मतलब नहले पे चौका भी नहीं मार पाए।’

रवि किशन पर क्या कहा अनुराग ने?

बॉलीवुड में ड्रग्स केस काफी गर्माया हुआ है और ऐसे में कई बड़ी हस्तियों के नाम सामने आ रहे है। इस मुद्दे पर भी अनुराग कश्यप लगातार अपनी राय रख रहे थे और इसी दौरान उन्होंने एक इंटरव्यू में एक्टर और बीजेपी सांसद रवि किशन को लेकर कहा था,

‘रवि किशन ने मेरी अंतिम फ़िल्म मुक्काबाज़ में काम किया था। वे जय शिव शंकर, जय बम भोले, जय शिव शंभू बोलकर दिन की शुरुआत करते थे। वे उन लोगों में से हैं, जो लंबे समय तक वीड का सेवन करते थे।'


अनुराग कश्यप, फ़िल्म निर्माता

अनुराग कश्यप ने इसके आगे कहा, 'यह ज़िंदगी है। इस बारे में सब जानते हैं। पूरी दुनिया जानती है। एक भी इंसान ऐसा नहीं है, जो यह नहीं जानता हो कि रवि किशन स्मोकिंग करते थे। हो सकता है कि अब उन्होंने यह छोड़ दिया हो। क्योंकि वे मंत्री बन गए हैं। हो सकता है कि अब वे साफ़-सुथरे हो गए हों। लेकिन क्या आप इसे ड्रग्स में शामिल करेंगे?' उन्होंने इसके आगे कहा, 

नहीं, मैं रवि किशन को जज नहीं कर रहा हूँ। क्योंकि मैं वीड को ड्रग्स में शामिल नहीं करता। वे स्मोक करते थे। वे हमेशा लेते रहे हैं और उन्होंने अपना काम बख़ूबी किया है। लेकिन इसने उन्हें ख़राब नहीं बनाया।’


अनुराग कश्यप, फ़िल्म निर्माता

अनुराग द्वारा ये बातें कहे जाने के बाद ही वो इन आरोपों के बीच घिरे। जिस पर उनकी पूर्व पत्नियों ने उनका समर्थन किया था।

बढ़ सकती है अनुराग की मुश्किलें

पायल घोष ने अनुराग कश्यप पर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाने के बाद एफ़आईआर भी दर्ज कराई थी, जिसपर पुलिस ने आगे कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद एक्ट्रेस ने भूख हड़ताल पर जाने की बात कही थी और अब उन्होंने महाराष्ट्र के राज्यपाल से भी मुलाक़ात की है।

पायल और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले द्वारा अनुराग कश्यप की गिरफ़्तारी की माँग लगातार की जा रही है, इसके साथ ही सोशल मीडिया पर भी लोग लगातार डायरेक्टर को गिरफ़्तार करने की माँग कर रहे है। इस मामले में अब ऐसा लग रहा है कि पुलिस जल्द ही अनुराग कश्यप को जांच के लिए गिरफ़्तार कर सकती है। अनुराग कश्यप ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को बेबुनियाद बताया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें