loader

आप कहे - आ रे, आ रे, आ रे, कांग्रेस कहे - ना रे, ना रे, ना रे

आगामी लोकसभा चुनाव में दिल्ली में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच भले ही गठबंधन के कयास लग रहे हों लेकिन गठबंधन की राह आसान नहीं है। कांग्रेस की दिल्ली इकाई ने आलाकमान को साफ़-साफ़ बता दिया है कि अगर लोकसभा चुनाव में आप के साथ चुनावी तालमेल हुआ तो पार्टी का भट्ठा बैठना तय है। प्रदेश कमेटी के बाग़ी तेवरों को देखते हुए कांग्रेस आप के साथ चुनावी गठबंधन से परहेज़ ही करेगी। दिल्ली विधानसभा में 1984 की हिंसा को लेकर पास हुए प्रस्ताव के बाद गठबंधन की संभावनाएँ और भी कम हो गई हैं।

कांग्रेसी सूत्रों के मुताबिक़ दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय माकन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को साफ़-साफ़ बता दिया है कि लोकसभा में आप के साथ गठबंधन होने की स्थिति में पार्टी में बग़ावत हो सकती है। प्रदेश कमेटी आम आदमी पार्टी के साथ किसी भी तरह का चुनावी गठबंधन नहीं चाहती। प्रदेश कमेटी का मानना है कि इससे कांग्रेस को देशभर में नुक़सान होने की संभावना ज़्यादा है। मामला सिर्फ़ दिल्ली की सात लोकसभा सीटों का नहीं है बल्कि पार्टी की छवि का सवाल ज़्यादा महत्वपूर्ण है। प्रदेश कमेटी का आकलन है कि अपने दम पर चुनाव लड़कर भी कांग्रेस 3-4 सीटें जीत सकती है। इस लिहाज़ से प्रदेश कमेटी को आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन करने की कोई तुक नजर नहीं आती।

ग़ौरतलब है कि पिछले लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सातों लोकसभा सीटें बीजेपी ने जीती थी। सातों सीटों पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार दूसरे नंबर पर रहे थे। कांग्रेस का पूरी तरह सफ़ाया हो गया था। अगर वोट प्रतिशत की बात करें तो बीजेपी को 46.40 फ़ीसदी वोट मिले थे जबकि कांग्रेस 15.10 प्रतिशत वोट पर सिमट गई थी। आम आदमी पार्टी को 32.9% वोट मिले थे। पिछले लोकसभा चुनाव के आँकड़ों के हिसाब से देखें तो सीटों के बँटवारे में कांग्रेस की बारगेनिंग पावर बहुत कम है। 

आम आदमी पार्टी से अगर कांग्रेस गठबंधन करती है तो उसके हिस्से में तीन से ज़्यादा सीटें नहीं आएँगी। प्रदेश इकाई के आकलन के अनुसार इतनी सीटें वह अपने बलबूते जीतने की स्थिति में है। तो क्या कांग्रेस मज़बूत हुई है?

क्या जनाधार खो रही है आप?

दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी का आकलन है कि आम आदमी पार्टी अपना जनाधार लगातार खो रही है। राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के चुनाव में उसे किसी भी राज्य में 1% वोट भी नहीं मिला है। पार्टी के अंदरूनी आकलन के अनुसार दिल्ली में भी आम आदमी पार्टी का जनाधार कम हुआ है। ऐसे में उसके साथ गठबंधन करना उसे संजीवनी देने जैसा होगा। इससे कांग्रेस को न सिर्फ़ लोकसभा चुनाव में नुक़सान होगा बल्कि 2020 में होने वाले विधानसभा चुनाव में भी पार्टी को उसका ख़ामियाज़ा भुगतना पड़ेगा। कांग्रेस की दिल्ली इकाई ने लोकसभा की सातों सीटों पर चुनाव की तैयारियाँ तेज कर दी हैं। तीन राज्यों में सरकार बनने के बाद कांग्रेस के हौसले वैसे ही बुलंद हैं। कांग्रेस सातों सीटें जीतने के लिए मज़बूत उम्मीदवार उतारेगी। कुछ सीटों पर उम्मीदवार पहले से लगभग लगभग तय हैं। बाक़ी सीटों पर भी जल्दी उम्मीदवारों के नाम सामने आ जाएँगे।

शीला दीक्षित करेंगी नेतृत्व?

कांग्रेस के सूत्रों के मुताबिक़ लगातार 15 साल दिल्ली की मुख्यमंत्री शीला दीक्षित लोकसभा चुनाव में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएँगी। दिल्ली में काफ़ी दिन से पार्टी की कमान शीला दीक्षित को सौंपे जाने की चर्चा है। हालाँकि पहले दिल्ली में शीला दीक्षित का विरोध ख़ुद अजय माकन करते रहे हैं लेकिन अगर लोकसभा चुनाव के लिए शीला दीक्षित को अगुआई करने की ज़िम्मेदारी मिलती है तो वह और दिल्ली के बाक़ी नेता उनका खुला विरोध नहीं करेंगे।
  • कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने वैसे भी मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में जीत का परचम फहरा कर यह संदेश दे दिया है कि अगर जीतना है तो नेताओं को आपसी मतभेद भुलाकर पार्टी हित में काम करना होगा। यह संदेश दिल्ली में भी सभी बड़े नेताओं तक पहुँच चुका है।
congress aap alliance not feasible delhi lok sabha election 2019 - Satya Hindi
राहुल गाँधी और सोनिया गाँधी के साथ शीला दीक्षित। (फ़ाइल फ़ोटो)फ़ेसबुक

राजीव गाँधी विवाद का असर?

दिल्ली विधानसभा में 1984 की सिख विरोधी हिंसा को लेकर पास हुए प्रस्ताव के बाद कांग्रेसियों के तेवर अरविंद केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के ख़िलाफ़ और तीखे हो गए हैं। पार्टी के कई नेताओं ने इस बात पर हैरानी जताई है कि कांग्रेस आलाकमान भला उस पार्टी के साथ गठबंधन करने के बारे में सोच भी कैसे सकता है जो बाक़ायदा विधानसभा में प्रस्ताव पारित करके पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को दिए गए भारत रत्न को वापस लेने की माँग कर रही है। हालाँकि आम आदमी पार्टी की तरफ़ से इस बात का खंडन किया जा चुका है कि ऐसा कोई प्रस्ताव पारित हुआ हैखेम लेकिन इसे लेकर दिल्ली की राजनीति में तूफ़ान तो मच ही चुका है। यह प्रस्ताव दोनों के बीच गठबंधन की राह में बड़ा रोड़ा बन गया है।

क्या आप नेता करेंगे कांग्रेस में वापसी?

कांग्रेस उन नेताओं की वापसी की उम्मीद लगाए बैठी है जो किसी समय पार्टी से नाराज़ होकर केजरीवाल के ख़ेमे में चले गए थे। कांग्रेस को उम्मीद है कि विधानसभा में राजीव गाँधी के ख़िलाफ़ पारित किए गए प्रस्ताव के बाद अलका लांबा सहित कई पूर्व कांग्रेसी आम आदमी पार्टी छोड़कर कांग्रेस में वापसी कर सकते हैं। इस प्रकरण के बाद अलका लांबा के ट्वीट को लेकर कांग्रेस यह संकेत मान रही है कि वह कांग्रेस में वापसी करना चाहती हैं। कांग्रेस की दिल्ली इकाई के इन कड़े तेवरों से लगता है कि आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन की खिचड़ी पकने से पहले ही चूल्हा ठंडा हो गया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
यूसुफ़ अंसारी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें