loader

कोरोना: तबाही मचाने वाले का असली नाम क्यों छुपाया जा रहा है?

पूरी दुनिया कोरोना वायरस के खौफ में है। इसने अब तक 17 लाख से ज़्यादा लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है और यह एक लाख से ज़्यादा लोगों की जानें ले चुका है। तो यह कोरोना वायरस आख़िर है क्या? 
नीरेंद्र नागर

क्या आप जानते हैं कि दुनिया के लिए क़यामत बन चुके नए करोना वायरस का ऑफ़िशल नाम क्या है? क्या कहा- COVID -19? जी नहीं, यह तो उस बीमारी का नाम है जो इस वायरस ने फैलाई है। वायरस का नाम तो कुछ और है और वह ऐसा है जिसे कुछ ख़ास कारणों से आपको नहीं बताया जा रहा है।

क्यों नहीं बताया जा रहा है, यह हम बाद में जानेंगे। पहले हम यह जान लें कि किसी वायरस या बीमारी का नाम कौन रखता है।

किसी बीमारी का नाम रखने का काम विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) का है और जो वायरस या विषाणु उस बीमारी को फैलाने का ज़िम्मेदार होता है, उसका नाम रखने की ज़िम्मेदारी ICTV (अंतरराष्ट्रीय विषाणु वर्गीकरण समिति) से जुड़े विषाणु विशेषज्ञों की होती है। इन विशेषज्ञों ने इसका नाम SARS-CoV-2 रखा। SARS एक बीमारी का नाम है (इसपर आगे चर्चा करेंगे), CoV करोना वायरस का छोटा रूप और 2 उसका क्रम।

ताज़ा ख़बरें

अब आप पूछेंगे कि इस वायरस का नाम SARS-CoV-2 है तो इसका मतलब है कि इसका कोई पूर्ववर्ती भाई या बाप भी रहा होगा जिसका नाम SARS-CoV-1 होगा। सही पकड़े हैं। इसके एक भाई ने 2002-04 में दुनिया के कई देशों में उत्पात मचाया था लेकिन वह इतना ख़तरनाक नहीं था। तब 29 देशों में इसके क़रीब 8 हज़ार केस मिले थे और उनमें से 774 लोगों की मौत हुई थी। बाक़ी ठीक हो गए थे। इसकी शुरुआत भी चीन से हुई थी और ज़्यादातर असर भी चीन (5,327 मामले) और उसके पड़ोसी हांगकांग (1,755 मामले) में हुआ था। ताइवान, सिंगापुर और कनाडा में भी 200 से 400 मामले आए थे। 29 में से 21 देशों में असर बहुत कम रहा। यहाँ दस से भी कम मामले प्रकाश में आए थे। 2004 के बाद इस बीमारी का कोई मामला नहीं मिला है।

अब अगला सवाल। यह SARS क्या है? SARS उस बीमारी का नाम है जो इस वायरस ने फैलाई थी। SARS का मतलब है Severe Acute Respiratory Syndrome। इसका हिंदी अनुवाद करेंगे तो होगा - अति तीव्रश्वसन बहुलक्षण। आसान हिंदी में इसे यूँ समझें कि यह साँस की बहुत गंभीर और तेज़ी से फैलने वाली बीमारी है और इसके एक नहीं, बहुत-से लक्षण होते हैं जो साथ-साथ प्रकट होते हैं।

अभी जो नई बीमारी फैली है, वह बहुत-कुछ 2002-04 में फैली SARS बीमारी जैसी ही है और उसको फैलाने वाला भी करोना वायरस ही था। इसीलिए पुराने करोना वायरस के नाम में 1 जोड़कर उसका नया नाम कर दिया गया- SARS-CoV-1 और नए वायरस का नाम SARS-CoV-2 कर दिया गया।

लेकिन यह नाम केवल वायरस वैज्ञानिकों और दवाओं पर काम करने वालों के लिए था ताकि वे पुराने वायरस की जानकारियों का इस नए वायरस पर शोध करते समय इस्तेमाल कर सकें। एक ही वायरस के अलग-अलग स्ट्रेन (रूप) होने के कारण दोनों में 70% चीज़ें कॉमन हैं।

लेकिन वायरस के इस नाम को जनता के बीच बहुत लोकप्रिय नहीं किया गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन जिसे नई बीमारी का नाम रखना था, उसने भी उसका नाम SARS-2 नहीं रखा। बीमारी का नया नाम COVID-19 रखा गया। कारण क्या है?

कारण यह कि विश्व स्वास्थ्य संगठन नहीं चाहता था कि जो देश या समाज 2002-04 में फैली SARS बीमारी से पीड़ित हुए थे, ख़ासकर एशियाई देश, वे इस नई बीमारी का नाम सुनते ही घबरा जाएँ। इसलिए बीमारी के नाम में SARS नहीं डाला गया। साथ ही वायरस का नाम जिसमें SARS लगा हुआ था, उसको भी लोगों की नज़रों से दूर रखने का जतन किया गया। कोशिश की गई कि आम जनता उसे COVID-19 बीमारी फैलाने वाले वायरस के रूप में ही याद रखे।

विश्लेषण से और ख़बरें

इसी कारण आप सरकारी विज्ञापनों और मीडिया में केवल COVID-19 देख रहे हैं और कई लोग समझ रहे हैं कि यही वायरस का नाम है जबकि जैसा कि अब आप जानते हैं, वायरस का ऑफ़िशल नाम SARS-CoV-2 है।

शुरू-शुरू में इस वायरस को वुहान वायरस या चीनी वायरस के नाम से भी जाना जाता था (आज भी कई लोग इसे चीनी वायरस कहते हैं और ट्रंप को यह नाम विशेष पसंद है) लेकिन किसी विषाणु या बीमारी को किसी क़ौम, नस्ल या जगह से जोड़ना ठीक नहीं है क्योंकि इससे उस क़ौम, नस्ल या स्थान के बारे में नकारात्मक भावना फैलती है। इससे पहले भारत से भी कुछ बीमारियाँ शुरू हुई हैं जो दुनिया भर में फैलीं जैसे 1852 और 1910 का। दोनों बार कई देशों में 18 लाख से ज़्यादा लोग मरे थे। तो क्या उन मौतों के लिए भारत या भारतीयों को बदनाम करना ठीक होगा?!

इसी भावना के साथ विश्व स्वास्थ्य संगठन किसी बीमारी का नाम रखते समय कई तरह की सावधानियाँ बरतता है जो उसने इस मामले में भी बरतीं। यह अलग बात है कि WHO जो SARS से जुड़ी बुरी यादों से लोगों को बचाए रखना चाहता था, वह COVID-19 द्वारा मचाई जा रही तबाही से ख़ुद घबरा रहा है।

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
नीरेंद्र नागर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें