loader

बालाकोट हमले के बाद करतारपुर गलियारे पर पाकिस्तान से बातचीत की जल्दी क्यों?

करतारपुर साहिब गलियारा खोलने के मुद्दे पर भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत 14 मार्च को अटारी-वाघा सीमा पर भारतीय इलाक़े में होगी। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने इसमें भाग लेने का एलान कर दिया है। जिस दिन सरकार ने यह एलान किया, उसी दिन जम्मू में बस पड़ाव पर खड़ी एक बस पर ग्रेनेड हमला हुआ, जिसमें एक आदमी मारा गया और 32 घायल हो गए।
दहशत फैलाने की यह पहली वारदात नहीं है। पुलवामा में सीआरपीएफ़ के 40 जवानों की शहादत के दो दिन बाद ही आतंकवादी गुट जैश-ए-मुहम्मद ने अर्द्धसैनिक बलों पर हमला कर दिया, उसके बाद हुई मुठभेड़ में सुरक्षा बलों के छह और जैश के 3 लोग मारे गए थे। उसके बाद लगभग एक हफ़्ते बाद फिर एक मुठभेड़ हुई और उसमें भी दोनों पक्षों के लोग मारे गए।
सम्बंधित खबरें
पुलवामा हमले के बाद समझा जाता था कि करतारपुर साहिब गलियारे पर बातचीत नहीं होगी। पर पुलवामा हमला हुआ, उसके बाद भी हमले हुए, अर्द्धसैनिक बलों के लोग मारे गए और अब बातचीत भी होगी।

युद्धोन्माद

इस पर कई सवाल खड़े होते हैं। पुलवामा हमले के बाद एक सोची समझी रणनीति के तहत पूरे देश में युद्धोन्माद भड़काया गया था। इसमें सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े लोग तो थे ही, सबसे अहम भूमिका सरकार समर्थक मीडिया और सेना से रिटायर हो चुके कुछ वरिष्ठ सैनिक अधिकारी और रक्षा विशेषज्ञों की थी।
मीडिया के एक वर्ग के कुछ नामी-गिरामी न्यूज़ एंकर चीख-चीख कर पाकिस्तान पर हमला करने और युद्ध छेड़ने की बात कर रहे थे। कुछ चैनल तो युद्ध का पूरा खाका खींच रहे थे और रिटायर्ड अफ़सरों की मदद से बता रहे थे कि युद्ध छिड़ा तो कहाँ, कैसे, कब और किस हथियार से पाकिस्तान पर हमला कर देना चाहिए।
युद्धोन्माद अकारण नहीं था। यह धीरे-धीरे एक किस्म के उग्र और छद्म राष्ट्रवाद गढ़े जाने का नतीजा था। साल 2014 से ही बीजेपी ने बार-बार कहा था कि पाकिस्तान से किसी तरह की बातचीत नहीं की जा सकती है। उसका तर्क था कि आतंकवाद और बातचीत एक साथ नहीं चल सकते। बग़ैर बुलाए पाकिस्तान पहुँच कर नरेंद्र मोदी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ समेत पूरी दुनिया को चौंका दिया और इसके कई अर्थ निकाले जाने लगे थे। एक बार ऐसा लगा कि दोनों देशोें के बीच बर्फ़ पिघलेगी, पर उसके कुछ दिन बाद ही मोदी सरकार ने अपना रवैया फिर सख़्त कर लिया।
विश्लेषण से और खबरें

आतंकवाद बदस्तूर जारी रहा

मोदी के प्रधानमंत्री रहते ही पठानकोट एअर बेस पर आतंकवादी हमला हुआ, जिसमें 9 लोग मारे गए। जम्मू-कश्मीर के ही उरी में सीआरपीएफ़ कैम्प पर हमला हुआ, उसमें 19 लोग मारे गए। इसके बाद भारत ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में आतंकवादी कैंपों पर हमले किए और इसे सर्जिकल स्ट्राइक कह कर खूब प्रचारित किया। पाकिस्तान ने सिरे से खारिज करते हुए कहा था कि उसे कोई नुक़सान नहीं हुआ। उसके बाद जम्मू-कश्मीर में छिटपुट आतंकवादी हमले और सेना के साथ आतंकवादियों की मुठभेड़ होती रहीं। यानी, आतंकवाद बदस्तूर जारी रहा। इससे मोदी और सत्तारूढ़ दल के इस तर्क को बल मिला कि पाकिस्तान एक ‘रोग स्टेट’ यानी 'दुष्ट राष्ट्र' है और इससे बातचीत का कोई मतलब नहीं है। पुलवामा हमले ने एक तरह से इस 'नैरेटिव' को पुख़्ता कर दिया।  
राष्ट्रवाद के इस नैरेटिव को और ज़ोरदार तरीके से पेश करने के लिए भारत ने पाकिस्तान के ख़ैबर पख़्तूनख्व़ा में आतंकवादी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के ठिकानों पर हमला किया और बडी संख्या में आतंकवादियों को मार गिराने का दावा किया। हालाँकि अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसियों की राय अलग है। उनका कहना है कि हमला तो हुआ, पर उसमें किसी के मारे जाने की ख़बर नहीं है।
भारतीय मीडिया के एक वर्ग ने इसके बाद पाकिस्तान पर हमले को एक मात्र विकल्प के नैरेटिव को ज़ोरशोर से पेश किया। हालत यह हो गई कि पाकिस्तान से बातचीत या हमला नहीं करने के किसी तर्क को देशद्रोह समझा जाने लगा और ऐसे लोगों को पाकिस्तान का समर्थक।
इस स्थिति की भयावहता इससे समझी जा सकती है कि जब पुलवामा हमले के एक शहीद की विधवा ने कहा कि वह युद्ध नहीं चाहती हैं, तो बीजेपी की साइबर सेना ने उसे बुरी तरह ट्रोल किया, उसके ख़िलाफ़ अपशब्दों का इस्तेमाल तक किया गया। करगिल में शहीद हुए अफ़सर की बेटी गुरमेहर कौर को सिर्फ़ इसलिए ट्रोल किया गया कि उन्होंने कहा कि वह पाकिस्तान से युद्ध नहीं चाहती हैं।
लेकिन उसके तुरन्त बाद ख़ुद को राष्ट्रवादी कहने वाली मोदी सरकार ने पाकिस्तान से बातचीत को हरी झंडी दे दी। अब इतने दिन तक तलवार भाँजने वाले राष्ट्रवादी क्या करें, यह सवाल है। सवाल यह भी है कि सरकार ने यह फ़ैसला क्यों किया। क्या पाकिस्तान ने आतंकवाद को समर्थन देना बंद कर दिया है और पाकिस्तानी ज़मीन पर अब कोई प्रशिक्षण शिविर नहीं चल रहा है? क्या प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद और बातचीत एक साथ नहीं चलने देने के अपने पुराने फै़सले को उलट दिया है?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें