loader

लद्दाख में क्यों बौखलाई हुई है चीनी सेना? 

चीन की तिलमिलाहट इससे झलकती है कि भारतीय सैन्य कार्रवाई का बदला लेने के लिये 31 अगस्त को फिर भड़काने वाली कार्रवाई की गई, लेकिन भारतीय सैनिकों ने रक्षात्मक कार्ऱवाई कर चीनी हमले को नाकाम कर दिया। चीनी सेना ने सहमति तोड़ने का आरोप लगाया। भारतीय विदेश मंत्रालय ने मंगलवार देर शाम कहा कि 29 अगस्त की घटना पर चर्चा करने के लिये 31 अगस्त को जब भारतीय और चीनी सैनिक कमांडर बैठक कर रहे थे, तब चीनी सेना ने भारतीय सेना को फिर भड़काने की कोशिश की।
रंजीत कुमार

गत 5 मई के बाद से पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पार करीब एक हज़ार वर्ग किलोमीटर के भारतीय इलाक़े पर कब्जा कर बैठी चीनी सेना के लिये 29-30 अगस्त की रात दूसरी क़यामत की रात साबित हुई। चीनी सेना ने कल्पना नहीं की थी कि भारतीय सैनिक गलवान घाटी में उसके सैनिकों के ख़िलाफ़ इतनी बहादुरी से लड़ेंगे। उसी तरह पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के दक्षिणी तट के इलाके में 15 हजार फीट ऊँची चोटियों पर भारतीय सेना द्वारा अपने सैनिकों को बैठा देना चीन के लिये दूसरी बड़ी शर्मिंदगी का कारण बना। 

चीन की तिलमिलाहट इससे झलकती है कि भारतीय सैन्य कार्रवाई का बदला लेने के लिये 31 अगस्त को फिर भड़काने वाली कार्रवाई की गई, लेकिन भारतीय सैनिकों ने रक्षात्मक कार्ऱवाई कर चीनी हमले को नाकाम कर दिया। चीनी सेना ने सहमति तोड़ने का आरोप लगाया। भारतीय विदेश मंत्रालय ने मंगलवार देर शाम कहा कि 29 अगस्त की घटना पर चर्चा करने के लिये 31 अगस्त को जब भारतीय और चीनी सैनिक कमांडर बैठक कर रहे थे, तब चीनी सेना ने भारतीय सेना को फिर भड़काने की कोशिश की।
विश्लेषण से और खबरें

चीनी मंसूबों पर पानी फिरा

चीनी सेना ने सोचा होगा कि जिस आसानी से उसने देपसांग घाटी से लेकर पैंगोंग त्सो झील इलाके में एक हज़ार वर्ग किलोमीटर इलाक़े पर कब्जा कर लिया, उसी तरह वह पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी छोर की चोटियों पर भी अपना कब्जा जमा लेगी। 29-30 अगस्त की रात को चीनी सेना भारतीय सेना को चकमा देने की तैयारी कर रही थी कि वह अचानक पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी तट की चोटियों पर रातों रात अपना कब्जा जमा लेगी।
भारतीय सेना को इसका आभास मिल गया और तिब्बती व गुरखा जवानों की विकास रेजीमेंट ने जो करतब दिखाया उससे चीनी सेना तिलमिला गई। चीन इस इलाके में भी वास्तविक नियंत्रण रेखा की पहचान भारतीय इलाके में खिसका कर यथास्थिति को बदलना चाहता था।  
भारतीय सेना के इन चोटियों पर बैठ जाने से ही चीन को झुकाने की बात नहीं कर सकते। उसके सामने बड़ी चुनौती हाल में चीनी सेना द्वारा पूर्वी लद्दाख के इलाक़े में कब्जा किये गए एक हज़ार वर्ग किलोमीटर के भारतीय इलाक़े को खाली कराना है।

चीनी रणनीति

वास्तव में पिछले दो दशकों से चीन की रणनीति यह रही है कि वह भारतीय इलाक़े में सलामी स्लाइसिंग टैक्टिक्स की रणनीति लागू करती रहे। यानी एक एक कदम कर धीरे- धीरे आगे बढ़े और इस तरह वास्तविक नियंत्रण रेखा को भारत की ओर निरंतर  खिसका कर अपने प्रादेशिक इलाके का विस्तार करता जाए।

चीन अगर पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी तट की चोटियों पर कब्जा करने में कामयाब हो जाता तो उसके लिये भविष्य में वहां से निकट चुशुल घाटी पर प्रभुत्व स्थापित करना आसान हो जाता। चीन यह आकलन कर रहा होगा कि जिस तरह पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी तट पर उसके सैनिकों ने कब्जा किया हुआ है और वहां से पास के भारतीय इलाकों पर वह अपनी निगरानी रख सकता है, उसी तरह चुशुल घाटी पर निगरानी रखेगा। 

डीएसडीओ

पैंगोंग झील के दक्षिणी तट पर कब्जा कर चीन वहाँ से 255 किलमीटर लम्बा दुर्बुक- श्योक- दौलतबेग ओल्डी मार्ग तक अपनी पहुँच आसान बनाना चाह रहा था।
चीन की रणनीति है कि किसी भी तरह इस राजमार्ग को भारतीय सेना के इस्तेमाल लायक नहीं रहने दिया जाए या फिर इस पर कब्जा ही कर लिया जाए। इस राजमार्ग के ज़रिये भारतीय सेना चीन के कराकोरम राजमार्ग के काफी नजदीक पहुँच गयी है।

पाकिस्तान का रास्ता

इस राजमार्ग के पास पाकिस्तान के कब्जे वाला गिलगिट- बालटिस्तान का इलाक़ा है, जहाँ से चीन- पाक आर्थिक गलियारा( सीपीईसी) गुजरता है। दौलतबेग ओल्डी राजमार्ग के ज़रिये किसी सैनिक कार्रवाई या युद्ध के दौरान

भारत इस गलियारा को आसानी से बाधित या ध्वस्त कर सकता है। 

साफ है कि पैंगोंग झील के दक्षिणी तट की जिन चोटियों पर जहां चीन बैठना चाहता था वहां भारतीय सेना बैठ गई है, जिससे चीनी सैन्य नेतृत्व काफी बौखला गया है।

यही वजह है कि चीनी सेना और विदेश मंत्रालय ने पहली बार भारतीय सेना पर आरोप लगाया है कि उसने न केवल वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया है, बल्कि पिछले दिनों दोनों देशों के बीच परस्पर भरोसा पैदा करने वाले जिन उपायों पर सहमति हुई थी, उसे तोड़ा है। इसमें यह कहा गया था कि रात के दौरान दोनों सेनाएं अपने इलाके में ही रहेंगी और आवाजाही नहीं करेंगी। चीनी विदेश मंत्रालय ने भारत को चेतावनी दी है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन नहीं करे। चीन ने इसे भड़काने वाली कार्रवाई की संज्ञा दी है।  

बैठक नाकाम

चीन की बौखलाहट की वजह से इलाक़े में सैन्य तनाव काफी बढ़ गया है। चीनी और भारतीय ब्रिगेड कमांडरों की सोमवार को बैठक हुई थी जो दूसरे दिन मंगलवार को भी चली, लेकिन इसका कोई नतीजा सामने नहीं आया है।
पूर्वी लद्दाख के स्पांगुर गैप और अन्य जगहों पर चीनी सेना द्वारा टैंक और अन्य बड़े हथियार तैनात किये जाने के बाद भारतीय सेना ने भी टैंक और टैंक नाशक मिसाइलों की तैनाती कर चीन को संदेश दिया है कि भारतीय सेना किसी भी जवाबी कार्रवाई के लिये तैयार है।

चीनी मंत्री से मिलेंगे राजनाथ?

पूर्वी लद्दाख में इस तेज़ी से बदलते सुरक्षा हालात पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने आला रक्षा सहयोगियों के साथ गहन चर्चा की है। ग़ौरतलब है कि वह 4 सितम्बर को मास्को जा रहे हैं, जहाँ उनकी चीनी रक्षा मंत्री से मुलाकात हो सकती है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के स्टेट काउंसेलर वांग यी के बीच भी दूसरी टेलीफोन वार्ता करवाने की तैयारी चल रही है। पिछली वार्ता 5 जुलाई को हुई थी जिसमें दोनों में सहमति हुई थी कि दोनों सेनाएं वास्तविक नियंत्रण रेखा तक लौट आएंगी।  लेकिन इस सहमति को जमीन पर उतारने की बात तो दूर चीन ने अपना आक्रामक रवैया बरकरार रखा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
रंजीत कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विश्लेषण से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें