loader

नरसिम्हा राव अचानक क्यों याद आ रहे हैं केसीआर को?

पूर्व प्रधानमंत्री पी. वी. नरसिम्हा राव के प्रति तेलंगाना के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) के अचानक उमड़े प्यार और सम्मान ने सभी को चौंका दिया है। विपक्षी पार्टियाँ और कई विश्लेषकों को इसके पीछे सोची-समझी राजनीतिक चाल नज़र आ रही है। 
इस चाल की वजह से अब तब नरसिम्हा राव को पूरी तरह से नकारती और नज़रअंदाज़ करती रही कांग्रेस और उनके नाम से भी दूर भागने वाली बीजेपी भी उनकी तारीफ़ करने पर मजबूर हुई हैं। 
आंध्र प्रदेश से और खबरें

नरसिम्हा राव की याद में

2020 नरसिम्हा राव का जन्म शताब्दी वर्ष है। इस मौके पर केसीआर ने जिस तरह बड़ी घोषणाएँ की हैं, उसने भुला दिये गये एक दिवंगत नेता को राजनीति के केंद्र में ला खड़ा किया है।
केसीआर ने ऐलान किया है कि पीवी के जन्म शताब्दी वर्ष को साल भर मनाया जाएगा। उन्हें श्रद्धांजलि देने के लिए साल भर सरकारी खर्चे पर कार्यक्रम आयोजित किये जाएंगे। उनकी यादों और सेवाओं को हमेशा ताज़ा रखने के लिए एक शानदार स्मारक बनाया जाएगा।

केसीआर ने केंद्र सरकार से पीवी को देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान 'भारतरत्न' देने की माँग कर डाली। पीवी को भारतरत्न दिलवाने के लिए खुद केसीआर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे।
इस तरह की घोषणाओं ने तेलंगाना में विपक्षी पार्टियों - कांग्रेस, बीजेपी और वामपंथी पार्टियों को पशोपेश में डाल दिया है। 

पशोपेश में कांग्रेस!

सबसे ज़्यादा परेशानी कांग्रेसी नेताओं को हुई। जीवन भर कांग्रेस में रहने वाले पीवी के नाम पर जिस तरह केसीआर ने राजनीतिक फ़ायदा उठाने और वाहवाही लूटने की कोशिश की है, उससे कई कांग्रेसियों की नींद उड़ गई है। सूत्रों की मानें तो प्रदेश के कांग्रेसी नेताओं ने हाईकमान से दिशा-निर्देश का अनुरोध किया। दिल्ली से आदेश हुआ कि जिससे राजनीतिक फायदा हो, वह किया जाए। 

KCR uses PV Narsimha Rao for Telangana sentiment - Satya Hindi
इसके बाद कांग्रेसी नेता हरकत में आये और पीवी की याद में कार्यक्रम करने लगे। इस पर केसीआर ने एक और शानदार चाल चली। उन्होंने कांग्रेस पर पीवी को नज़रअंदाज़ करने और उनके साथ सही तरह से पेश न आने का आरोप लगाया।
केसीआर ने पीवी को 'तेलंगाना का गौरव' क़रार दिया और उनकी तुलना देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से कर डाली।

क्या करे बीजेपी?

विपक्षी कांग्रेस को और भी परेशान करने के मक़सद से केसीआर ने पीवी के नाम पर सभी प्रमुख अख़बारों और न्यूज़ चैनलों को विज्ञापन दे डाले। ज़्यादातर विज्ञापन सरकार की ओर से जारी हुए।
राजनीति के जानकारों का कहना है कि केसीआर अच्छी तरह से जानते हैं कि  पीवी के मामले में बीजेपी की एक सीमा है और वह उसके बाहर आकर उनकी तारीफ़ नहीं कर सकती। 

ब्राह्मण वोट

शुरू में तो कई लोगों को लगा कि केसीआर ब्राह्मण वोटों के लिए पीवी का गुणगान कर रहे हैं, लेकिन जब सभी को यह बात याद आयी कि तेलंगाना में ब्राह्मणों की संख्या कुल जनसंख्या की 3 फ़ीसदी से भी कम है, तो लोगों ने  नये दृष्टिकोण से केसीआर की चाल को समझने की कोशिश की।
राजनेताओं को यह समझ आ गया कि केसीआर ने 'तेलंगाना सेंटिमेंट' भुनाने और तेलंगाना से जुड़े हर मुद्दे पर सबसे पहले अपना दावा ठोकने की रणनीति के तहत एक दिवंगत कांग्रेसी नेता को 'अपना' बना लिया।

कांग्रेसियों की दिक्क़त

केसीआर यह भी जानते हैं कि पीवी के मामले में कांग्रेसी भी एक सीमा में बंधे हैं और अगर वे उसके बाहर आकर पीवी को अपना बनाने की कोशिश करेंगे तो वे अपने हाईकमान से दूर हो जाएंगे।
कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी के प्रति पीवी के व्यवहार से सभी वाकिफ़ हैं। सभी कांग्रेसी जानते हैं कि गांधी परिवार पीवी को पसंद नहीं करता।
गांधी परिवार और पीवी के बीच संबंधों के खराब होने का पता उसी समय चल गया था जब पीवी के पार्थिव शरीर को न कांग्रेस मुख्यालय ले जाया गया और न ही उनका अंतिम संस्कार दिल्ली में करवाया गया।
चूंकि पीवी तेलंगाना से सबसे बड़े राजनेता हुए हैं और प्रधानमंत्री जैसे बड़े और ताक़तवर पद पर रहे, केसीआर उन्हें ‘तेलंगाना की शान’ बताते हुए उनके नाम पर भी राजनीतिक फ़ायदा उठाने की कोशिश में हैं। 

पहले केसीआर क्यों चुप थे?

जब पीवी का निधन हुआ था, केसीआर कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूपीए का हिस्सा थे और मनमोहन सिंह सरकार में मंत्री भी। तब उन्होंने मौके की नज़ाकत को समझते हुए पीवी के सम्बंध में चुप्पी रखना ही बेहतर समझा था।
उस समय उन्होंने न तो पीवी को भारतरत्न देने की माँग की थी, न ही उनका अंतिम संस्कार दिल्ली के बजाय हैदराबाद में कराये जाने पर नाराज़गी जाहिर की थी। अब केसीआर के लिए कांग्रेस सहयोगी पार्टी नहीं बल्कि विपक्षी पार्टी है, मौके का पूरा फायदा उठाते हुए वे एक कांग्रेसी नेता के नाम पर अपनी राजनीतिक ज़मीन और भी मजबूत करने में लगे हुए हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

आंध्र प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें