loader

हैदराबाद में कैसे हुई पुलिस 'मुठभेड़'?

हैदराबाद में पुलिस के साथ कथित मुठभेड़ में बलात्कार और हत्या के चार अभियुक्तों की मौत के बाद इससे जुड़े सवाल भी उठ रहे हैं। पहला सवाल तो यही है कि यह मुठभेड़ आखिर हुई कैसे? पुलिस की अपनी कहानी है, अपना तर्क है, जिसमें कई छेद हैं, जिन पर यक़ीन करना वाकई मुश्किल है।

इन अभियुक्तों को भारतीय दंड संहिता की धारा 302 (हत्या), 375 (बलात्कार) और 372 (अपहरण) के आरोप लगाए गए थे। इन मामलों की सुनवाई के लिए फ़ास्ट ट्रैक कोर्ट बनाया गया था। 
आंध्र प्रदेश से और खबरें
पुलिस ने इस मुठभेड़ के बारे में जो कुछ बताया, वह दिलचस्प है। उसने जो घटनाक्रम दिया है, वह कुछ इस तरह है। 

  • तेलंगाना पुलिस के लोग शुक्रवार की आधी रात के बाद अभियुक्तों को हैदराबाद से 30 किलोमीटर दूर चट्टपल्ली ले गए, जहाँ उस महिला को कथित तौर पर जला दिया गया था।
  • पुलिस का कहना है कि इससे उन्हें वारदात को समझने और उनके बिन्दुओं को जोड़ने में मदद मिलती। पुलिस अभियुक्तों को उस जगह ले जाना चाहती थी कि जहाँ अभियुक्तों ने महिला को जलाने के लिए पेट्रोल खरीदा था और उस जगह भी जहाँ उन्होंने पीड़िता की स्कूटी छोड़ दी थी।
  • पुलिस आधी रात के बाद अभियुक्तों को उस जगह इसलिए ले गई कि उन्हें स्थानीय लोगों के गुस्से का शिकार न होना पड़े।
  • पुलिस का कहना है कि चट्टपल्ली पहुँचने के बाद चारों अभियुक्तों ने एक दूसरे को इशारों-इशारों में कहा कि पुलिस पर हमला करना है वहाँ से भाग जाना है।
  • पुलिस का यह भी कहना है कि मौका-ए-वारदात पर पहुँचने के बाद चारों अभियुक्त किसी सुनसान जगह की ओर दौड़े।
  • पुलिस का कहना है कि उन्होंने आत्मरक्षा में अभियुक्तों पर गोलियाँ चलाईं। साइबराबाद पुलिस आयुक्त ने कहा, अभियुक्त जब पुलिस वालों पर हमला कर देते तो क्या पुलिस बस देखती रहती? 

लेकिन पुलिस की बातों से ही कई सवाल खड़े होते हैं, और उनकी कार्यशैली पर सवाल उठते हैं। रात के अंधेरे में मैका-ए-वारदात पर अभियुक्तों को ले जाना और वारदात के दृश्य की कल्पना करना ही शक पैदा करता है। रात के अंधेरे में उस जगह को पहचानने में दिक्क़त होती और पूरी वारदात को दुहराने जैसा काम करने में दिक्क़त होती।  

पुलिस ने अभियुक्तों के इशारों से कैसे समझ लिया कि वे उन पर हमला करने वाले हैं?अभियुक्त पुलिस कस्टडी में थे। अभियुक्तों के पास हथियार नहीं थे तो पुलिस को उनसे क्या ख़तरा था? निहत्थों से पुलिस को क्या ख़तरा था कि उन्होंने आत्मरक्षा में गोलियाँ चलाईं?ज़ाहिर है, पुलिस के पास फ़िलहाल इन सवालों के जवाब नहीं हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

आंध्र प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें