loader

5 नागरिकों के अपहरण पर चीन ने कहा, अरुणाचल भारत का हिस्सा नहीं, दक्षिण तिब्बत का इलाक़ा

भारत के साथ बढ़ते तनाव के बीच चीन का रवैया लगातार कड़ा होता जा रहा है। वह रोज़ नए-नए मोर्चे खोल रहा है, जिससे स्थिति सुलझने के बजाय उलझती जा रही है। अरुणाचल प्रदेश से 5 भारतीयों के गायब होने के मुद्दे पर चीन ने कहा है कि अरुणाचल प्रदेश भारत का हिस्सा नहीं है, वह चीन के दक्षिण तिब्बत का हिस्सा है।
बता दें कि दो दिन पहले अरुणाचल प्रदेश के सुबनसिरी ज़िले से 5 लोगों के अपहरण करने की खबर आई थी। स्थानीय मीडिया ने ख़बर दी थी कि चीन की पीपल्स लिबरेशन आर्मी के लोगों ने इन 5 लोगों को पकड़ लिया और अपने साथ ले गए। इसके बाद स्थानीय प्रशासन ने पुलिस का एक दल इसका पता लगाने भेजा था।

रिजिजू को चीन का जवाब

केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू ने चीनी सेना से इन गायब लोगों के बारे में पूछा था। चीनी सरकार के नियंत्रण में चलने वाले अख़बार ग्लोबल टाइम्स के अनुसार, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा है कि 'चीन ने कथित अरुणाचल प्रदेश को कभी भी मान्यता नहीं दी, यह चीन के दक्षिण तिब्बत का हिस्सा है।'
दरअसल, एक पत्रकार ने ट्वीट कर रिजिजू से पूछा था, 'पीपुल्स लिब्रेशन आर्मी द्वारा अरुणाचल प्रदेश से पांच भारतीयों के कथित अपहरण को लेकर क्या अपडेट है? क्या विदेश मंत्रालय, किरेन रिजिजू, प्रेमा खांडू इस पर कोई अपडेट साझा करेंगे?' इसके जवाब में केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने चीनी सेना से इस बाबत पूछा है।
बता दें कि चीन दोनों देशों को बाँटने वाली मैकमोहन लाइन को नहीं मानता है। वह अरुणाचल प्रदेश को अपना हिस्सा शुरू से ही मानता आया है। इसमें नया कुछ भी नहीं है। लेकिन जिस तरह चीन के साथ तनाव बढ़ रहा है, उसमें चीन का यह कहने से तनाव और बढ़ेगा।

स्टैपल्ड वीज़ा

एक बार भारतीय सासंदों का एक प्रतिनिधिमंडल जब चीन जा रहा था तो उसमें शामिल अरुणाचल के सांसद को चीन ने वीज़ा देने से यह कह कर इनकार कर दिया था कि वह चीन के एक हिस्से में ही रहते हैं, उन्हें वीज़ा की ज़रूरत नहीं। वह सांसद उस प्रतिनिधिमंडल में नहीं गया।
बाद में जब भारत-चीन व्यापारिक रिश्ते आगे बढ़े तो चीन ने इसमें थोड़ा लचीला रुख अपनाया। वह अरुणाचल प्रदेश के लोगों को स्टैपल किया हुआ वीज़ा देने लगा, उसका कहना था कि यह उसका ही हिस्सा है। तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने 2015 में चीन के साथ यह मुद्दा उठाया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उसी साल चीन गए तो समझा जाता था कि इस पर कोई बातचीत होगी, नहीं हुई। 
अब चीन ने साफ शब्दों में कह दिया है कि अरुणाचल प्रदेश को उसने मान्यता नहीं दी है, वह तिब्बत का हिस्सा है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अरुणाचल प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें