loader

असम में पीटे गए बीजेपी जिलाध्यक्ष, गले की फाँस बना नागरिकता विधेयक

नागरिकता विधेयक पर बीजेपी नेता लोगों के हाथों पीटे भी जाएँगे, ऐसा नरेंद्र मोदी सरकार ने इस विधेयक को बनाते समय सपने में भी नहीं सोचा होगा। असम में इस विधेयक के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने बीजेपी के जिलाध्यक्ष को जमकर पीट दिया। बीजेपी नेता को पिटते देखने के बाद सरकार एक बार यह सोचने को ज़रूर मज़बूर होगी कि हे राम, यह क्या मुसीबत मोल ले ली।
बीजेपी नेता की पिटाई का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। बता दें कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले नागरिकता विधेयक को लेकर असम सहित पूर्वोत्तर के सभी राज्यों में उग्र प्रदर्शन हो रहे हैं।

घटना के अनुसार, ऊपरी असम के तिनसुकिया जिले के बीजेपी अध्यक्ष लाखेश्वर मोरन बुधवार को आरएसएस समर्थित लोक जागरण मंच के कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए गए थे। यह मंच नागरिकता विधेयक के बारे में लोगों को जागरूक कर रहा है। 

मौक़े पर मौजूद लोगों के अनुसार, जैसे ही बीजेपी जिलाध्यक्ष कार्यक्रम में पहुँचे लोगों ने विधेयक के विरोध में जमकर नारेबाज़ी की और उनसे वापस जाने के लिए कहा। लोगों ने उन्हें काले झंडे भी दिखाए।
वीडियो में दिख रहा है कि लोगों ने मोरन को थप्पड़ मारे और फिर गाड़ी के टायर भी उन पर फ़ेंके। वह तो ग़नीमत रही कि कुछ पुलिसकर्मियों ने उन्हें भीड़ के हाथों बचा लिया वरना कोई दुर्घटना हो सकती थी। विधेयक के विरोध में वहाँ 3000 से ज़्यादा लोग जमा थे। 
बीजेपी ने इस हमले के ख़िलाफ़ लोकल थाने में रिपोर्ट दर्ज़ कराई है। पुलिस ने इसमें तीन लोगों को गिरफ़्तार किया है। इस सप्ताह की शुरुआत में ही बीजेपी और ऑल असम स्टूडेंट यूनियन के समर्थकों के बीच तीखी झड़प हुई थी।
नागरिकता संशोधन विधेयक में पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी समुदाय के लोगों को भारतीय नागरिकता देने का प्रावधान है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें