loader

बीटीसी: 'सत्ता के लिए' बीजेपी ने किया पुराने साथी को दरकिनार 

असम की बोडोलैंड काउंसिल चुनाव में बीजेपी ने गठबंधन के पुराने साथी बीपीएफ़ के ख़िलाफ़ लड़कर यूपीपीएल और जीएसपी के साथ सरकार बनाने का फ़ैसला किया है, जबकि प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि विधानसभा और लोकसभा में बीपीएफ़ के साथ बीजेपी का गठबंधन जारी रहेगा। ख़ुद को सिद्धान्त पर आधारित पार्टी कहने वाली बीजेपी ने एक बार फिर अवसरवादिता का उदाहरण पेश किया है।

बीजेपी ने यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) और गण सुरक्षा पार्टी (जीएसपी) के साथ बोडोलैंड टेरिटोरियल काउंसिल (बीटीसी) में सरकार बनाने के लिए गठबंधन किया है, जिसके परिणाम रविवार को घोषित किए गए थे।

ख़ास ख़बरें

ऑल बोडो स्टूडेंट्स यूनियन के पूर्व अध्यक्ष, प्रमोद बोरो, जो अब यूपीपीएल का नेतृत्व कर रहे हैं, बीटीसी के अगले मुख्य कार्यकारी सदस्य (सीईएम) बन जाएँगे। असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि नए सीईएम प्रमोद बोरो के नेतृत्व में बीटीसी आपसी सहयोग के माध्यम से सभी समुदायों के विकास के लिए काम करेगी।’

बीटीसी संविधान की छठी अनुसूची के तहत एक स्वायत्त स्वशासी निकाय है। इससे पहले दो बोडो समझौते हुए हैं- दूसरे समझौते के तहत 2003 में बीटीसी का गठन हुआ। 2015 के बीटीसी चुनावों में बीपीएफ़ ने 20 सीटें जीती थीं और सत्ता में आई थी। तब बीजेपी ने केवल एक सीट जीती थी।

40 सदस्यीय बीटीसी के चुनाव 7 और 10 दिसंबर को हुए थे।

यूपीपीएल ने 12, बीजेपी ने नौ, जीएसपी ने एक और कांग्रेस ने एक सीटें जीतीं। बीपीएफ़- जो राज्य सरकार में बीजेपी की सहयोगी है- ने 17 सीटें जीतीं। बीजेपी ने इस चुनाव में बीपीएफ़ के साथ गठबंधन नहीं किया और बीपीएफ़ के ख़िलाफ़ उसने मुखर रूप से प्रचार किया था।

बीजेपी ने यूपीपीएल को नया साथी बना लिया है। दूसरी तरफ़ सोनोवाल के मंत्रिमंडल में बीपीएफ़ के तीन मंत्री हैं। रविवार को हुई कैबिनेट की बैठक में बीपीएफ़ के तीनों में से कोई भी मंत्री मौजूद नहीं था।

बीपीएफ़ सुप्रीमो और पूर्व बीटीसी सीईएम, हाग्रामा मोहिलारी ने परिणामों के बाद सोशल मीडिया पर पोस्ट किया, ‘बीटीसी के लोगों के प्यार और समर्थन के साथ हमारी पार्टी को 40 में से 17 सीटों पर जीत के रूप में बहुमत मिला है। चूँकि हम केंद्र और राज्य में बीजेपी के साथ गठबंधन कर रहे हैं, इसलिए हमारी पार्टी को उम्मीद है कि बीजेपी सरकार बनाने में हमारा समर्थन करेगी। हमारी पार्टी हमारे क्षेत्र की वृद्धि और समृद्धि के लिए काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।’ 

रविवार को बीटीसी में नए गठबंधन की घोषणा की गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह सहित बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने यूपीपीएल को बधाई दी और उसे पार्टी को सहयोगी बताया।

bjp uppl alliance in assam btc election - Satya Hindi

रविवार के बीटीसी चुनाव परिणाम अगले साल होने वाले राज्य के विधानसभा चुनावों से पहले राजनीतिक बदलावों के संकेत हैं। बीजेपी चुनाव प्रचार अभियान के दौरान बीपीएफ़ के ख़िलाफ़ होती चली गई और परिणामों के बाद उसे छोड़ने का फ़ैसला किया। हालाँकि बीपीएफ़ ने 17 सीटें जीतीं। यह देखा जाना चाहिए कि क्या यह बीपीएफ़ प्रमुख हाग्रामा मोहिलारी के अंत की शुरुआत है। यूपीपीएल -बीजेपी गठबंधन राज्य के चुनावों में किस तरह से प्रदर्शन करता है, यह देखना होगा। नतीजे बीटीआर में बीजेपी के उत्थान का संकेत देते हैं -जिसने पिछली बार एक सीट हासिल की थी और इस बार उसे नौ सीटें मिली हैं। पार्टी को लगता है कि बोडो समझौते से क्षेत्र में शांति और विकास की शुरुआत हुई है, जिसका लाभ उसे मिला है।

इस साल का बीटीसी चुनाव जनवरी में बोडो समूहों के साथ एक ऐतिहासिक शांति और विकास समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद हुआ है, जिसके बाद उग्रवादी संगठन नेशनल डेमोक्रेटिक फ्रंट ऑफ़ बोडोलैंड के 1,600 से अधिक कैडर आत्मसमर्पण कर चुके हैं।

समझौते और इसके त्वरित कार्यान्वयन के वादे से बीजेपी को चुनाव में फ़ायदा मिला है। ऑल बोडो स्टूडेंट्स यूनियन के नेता के रूप में, प्रोमोद बोरो ने समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।

17 सालों तक बीटीसी के सीईएम रहे मोहिलारी ने चुनाव परिणाम आने के तुरंत बाद बीटीसी के मुख्यालय कोकराझार में प्रेस कान्फ्रेंस आयोजित कर कहा,

मैं बीजेपी से साथ मिलकर सरकार बनाने की अपील करता हूँ। दिसपुर में हम मिलकर सरकार चला रहे हैं और हमारा गठबंधन टूटा नहीं है। बीजेपी को गठबंधन धर्म का पालन करना चाहिए।


हाग्रामा मोहिलारी

लेकिन बीजेपी ने इस अपील पर ध्यान नहीं दिया। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया, ‘एनडीए ने असम बीटीसी चुनाव में बहुमत हासिल कर लिया है। मैं अपने सहयोगी दल यूपीपीएल को जीत की बधाई देता हूँ।’

बीपीएफ़ ने 2016 का विधानसभा चुनाव बीजेपी के साथ मिलकर लड़ा था और 12 सीटों पर जीत हासिल की थी। बीपीएफ़ के इकलौते राज्यसभा सदस्य विश्वजीत दैमारी पिछले महीने बीजेपी में शामिल हो चुके हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दिनकर कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें