loader

कमलनाथ के शपथग्रहण में शिवराज ने दिल जीता!

राजनीति भी अजब और गज़ब चीज है। राजनीति का कुछ ऐसा ही नज़ारा सोमवार को मध्य प्रदेश के नवनियुक्त मुख्यमंत्री कमलनाथ के शपथग्रहण समारोह के ठीक पहले देखने को मिला। शपथग्रहण समारोह में अतिथि के तौर पर पहुँचे निवर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कमलनाथ ने शपथ लेने से पहले न केवल हाथ मिलाया बल्कि दोनों एक-दूसरे का हाथ थामे प्रदेश के कोने-कोने से आए लोगों का स्वागत करते नज़र आए। एक मौक़ा ऐसा भी बना जब कमलनाथ और शिवराज के साथ तीसरा हाथ ज्योतिरादित्य सिंधिया का भी जुड़ा और तीनों एक-दूसरे का हाथ थामकर हवा में लहराते रहे।
दलगत राजनीति की प्रतिस्पर्धा के बीच बेशक यह दृश्य सुकून देने वाला माना जाएगा। कुल जमा पाँच मिनट के कमलनाथ के मुख्यमंत्री पद के शपथग्रहण समारोह में यदि लोगों को ध्यान किसी दृश्य ने सबसे ज्यादा खींचा तो वह यही रहा।
दरअसल चुनाव नतीजे आने से पहले और पूरे प्रचार के दौरान शिवराज सिंह चौहान के निशाने पर सबसे ज़्यादा कोई था, तो वे थे कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया। प्रदेश ही नहीं, देश का ध्यान भी भाजपा के प्रचार से जुड़े उस विज्ञापन ने खींचा जिसमें भाजपा कहती नजर आती थी,  ‘माफ़ करो महाराज, अपना नेता तो शिवराज।’
उधर, कांग्रेस खेमे से जितने भी राजनीतिक हमले हो रहे थे और उसके मुख्य योद्धा कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया किसी को निशाना बना रहे थे, तो वे थे शिवराज सिंह चौहान। सोमवार को शपथग्रहण समारोह के दौरान का दृश्य (तीनों नेताओं को एक-दूसरे के हाथों में डाल लहराता) देख निश्चित तौर पर लोगों की अलग-अलग तरह की प्रतिक्रियाएँ रहीं।

शिवराज से गर्मजोशी से मिले नेता

प्रदेश में लगातार पन्द्रह बरस राज करने वाली भाजपा की सरकार में तेरह साल मुख्यमंत्री रहे शिवराज सिंह चौहान से कई बड़े नेता पूरी गर्मजोशी से मिले। गर्मजोशी के साथ मिलने वाले नेताओं में शरद पवार और फ़ारूक़ अब्दुल्ला सबसे आगे रहे। चंद्रबाबू नायडू ने भी बेहद गर्माहट के साथ चौहान से मुलाकात की। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी पहली पंक्ति में बैठाए गए शिवराज से मिले। मध्य प्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री पद के अहम दावेदार रहे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने तो शिवराज के गले लगकर शुभकामनाओं का आदान-प्रदान किया।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विधानसभा चुनाव से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें