loader

मोदी के लिए बदला गया चुनाव घोषणा का समय?

पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों की घोषणा का समय अचानक चुनाव आयोग ने बदल क्यों दिया? कांग्रेस का आरोप है कि ऐसा नरेन्द्र मोदी की अजमेर रैली के कारण किया गया। दरअसल, चुनाव आयोग ने 6 अक्तूबर की सुबह पहले यह घोषणा की थी कि चुनाव कार्यक्रम घोषित करने के लिए आयोग दिन में साढ़े बारह बजे संवाददाता सम्मेलन करेगा। लेकिन घंटे भर बाद ही आयोग ने कहा कि संवाददाता सम्मेलन का समय बदला जा रहा है और अब यह दिन के तीन बजे होगा। आयोग का कहना है कि यह परिवर्तन मीडियाकर्मियों की सुविधा को देखते हुए किया गया, ताकि उन्हें अपनी कवरेज के इन्तज़ाम करने और ज़रूरी साधन जुटाने के लिए समय मिल सके। 

मोदी के लिए समय बदला?

लेकिन काँग्रेस को आयोग के इस तर्क में सच्चाई नहीं नज़र आ रही है। उसका कहना है कि समय में बदलाव शायद इसलिए किया गया ताकि अजमेर में दोपहर एक बजे होने वाली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की रैली में ख़लल न पड़े। यह रैली मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे की राज्यव्यापी 'गौरव यात्रा' की समाप्ति के उपलक्ष्य में हो रही है। चुनाव आयोग जैसे ही चुनाव कार्यक्रमों की घोषणा करेगा, वैसे ही आदर्श आचारसंहिता लागू हो जायेगी और फिर राज्य सरकार किसी तरह की लुभावनी घोषणा नहीं कर पायेगी।ध्यान रहे कि हाल के लोकसभा उपचुनाव में काँग्रेस ने प्रमुख जाट नेता साँवरलाल जाट के बेटे और बीजेपी उम्मीदवार रामस्वरूप लाम्बा को हरा कर अजमेर सीट जीती थी। साँवरलाल की मृत्यु के बाद ही यह सीट ख़ाली हुई थी।

अजमेर में होंगी घोषणाएं

इसीलिए अब अजमेर में बीजेपी अपनी पूरी ताक़त झोंकने में लगी है। और काँग्रेस को लगता है कि चुनाव आयोग ने समय इसलिए बदला ताकि वसुन्धरा राजे अजमेर में कुछ लोकप्रिय घोषणाएँ कर सकें। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस मुद्दे पर ट्वीट कर कहा: तीन तथ्य हैं-- आप अपने निष्कर्ष ख़ुद निकालें। एक, चुनाव आयोग ने कहा कि आज 12:30 बजे चुनाव कार्यक्रमों की घोषणा होगी। दो, अजमेर में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी एक बजे से रैली करने वाले हैं। तीन, चुनाव आयोग अचानक चुनाव कार्यक्रम की घोषणा का समय बदल कर तीन बजे कर देता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विधानसभा चुनाव से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें