loader

'सुप्रीम कोर्ट ने अपनी शक्ति से' मसजिद की ज़मीन मंदिर को दे दी: मुसलिम बोर्ड

ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने बाबरी मसजिद-राम जन्मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले पर हैरत जताई है। बोर्ड ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने 'विवेकाधीन शक्तियों का इस्तेमाल कर' बाबरी मसजिद मंदिर बनाने के लिए दे दिया, यह दुखदायी है। 

मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने एक बयान जारी कर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने यह माना है कि साल 1528 में मसजिद बनाई गई थी, यह भी मान लिया कि दिसंबर 1949 तक वहाँ नमाज़ पढ़ी जाती थी। सर्वोच्च अदालत ने यह भी स्वीकार किया है कि 22 और 23 दिसंबर 1949 के बीच की रात को मसजिद में भगवान राम की मूर्ति रख दी गई। अदालत ने यह भी माना है कि एएसआई की रिपोर्ट या आस्था के आधार पर टाइटल सूट पर फ़ैसला नहीं दिया जा सकता है। इसके साथ ही यह भी माना गया कि जिस जगह भगवान राम के जन्म लेने का दावा किया जाता है, उसका कोई क़ानूनी व्यक्तित्व नहीं है। 

अयोध्या विवाद से और खबरें
ऑल इंडिया मुसलिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने यह भी कहा कि 'हमें बहुत गुस्सा और दुख हुआ कि मसजिद में भगवान राम की मूर्ति रखे जाने के बाद भी कोई क़ानूनी कार्रवाई नहीं की गई।' बोर्ड का कहना है कि इस स्थिति में बाबरी मसजिद की ज़मीन मंदिर के लिए दे देना तकलीफ़देह है।

बोर्ड ने कहा, हमें इस फ़ैसले पर आश्चर्य हुआ। बोर्ड इस फ़ैसले का अध्ययन करने के बाद यह निर्णय लेगा कि इसकी समीक्षा के लिए अपील की जाए या नहीं। 

इसके साथ ही मुसलिम पर्सलन लॉ बोर्ड ने मुसलमानों से अपील की है कि वे निराश न हों, संयम रखें और ऐसा कुछ न करें जिससे देश में शांति और सौर्हाद्र पर कोई बुरा असर पड़े। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अयोध्या विवाद से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें