loader

पुलवामा हमले के बाद स्वरूपानंद का अयोध्या कार्यक्रम रद्द

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद का अयोध्या कूच का कार्यक्रम आख़िरकार निरस्त हो गया। इसका कारण अचानक उनकी तबियत ख़राब होना और पुलवामा में सीआरपीएफ़ के जवानों पर आतंकी हमला बताया गया। बनारस में स्वामी स्वरूपानंद ने ख़ुद अयोध्या कूच के कार्यक्रम को निरस्त करने का एलान कर यह भी संदेश जारी किया कि जो लोग अयोध्या के लिए चल पड़े हैं वे अपने घरों को वापस लौट जाएँ।

शंकराचार्य के एक शिष्य का कहना था कि वैसे भी वे लोग कार्यक्रम में 4 लोगों के जत्थे में ही शिलाओं को लेकर अधिग्रहित परिसर की ओर बढ़ने वाले थे। यह निर्णय अयोध्या प्रशासन की सख़्ती और अधिग्रहित परिसर को सुरक्षा कवच में जकड़ने के बाद किया गया था। 

कार्यक्रम रद्द करने का दबाव बढ़ा

देश में बदली परिस्थितियों के कारण स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती पर कार्यक्रम को स्थगित करने का दबाव बढ़ा। पहले वह संतों व प्रयागराज प्रशासन के अनुरोध को ठुकरा चुके थे। हालाँकि अयोध्या में उनके कार्यक्रम की तैयारी न के बराबर ही थी।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने भी कार्यक्रम स्थगित करने का अनुरोध किया था। लेकिन स्वामी स्वरूपानंद नहीं माने थे और 17 फ़रवरी को अयोध्या कूच का  एलान किया था। 21 फ़रवरी को अधिग्रहित परिसर में शिलान्यास की योजना थी। 

विहिप ने किया स्वागत

विहिप प्रवक्ता शरद शर्मा ने शंकराचार्य के निर्णय का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि देश को आतंकी हमला करने वालों से निपटने के लिए एकजुट होने की ज़रूरत है। विहिप का कहना है कि राम मंदिर तो बनेगा ही, लेकिन शंकराचार्य को अयोध्या कूच का कार्यक्रम नहीं रखना चाहिए था। विहिप के मुताबिक़, कार्यक्रम का असली मक़सद धार्मिक न होकर राजनीतिक था।

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अयोध्या विवाद से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें