loader
फ़ाइल फ़ोटो

पत्नी का आरोप, ड्रग्स लेकर तेज प्रताप पहनते थे घाघरा-चोली

एक समय बिहार ही नहीं, देश की राजनीति में दबदबा रखने वाले लालू प्रसाद यादव परिवार में फिर पारिवारिक क़लह बढ़ती दिख रही है। उनके बड़े बेटे तेज प्रताप यादव की पत्नी ऐश्वर्या ने अपने पति पर चौंकाने वाले आरोप लगाए हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनके पति गांजा पीते हैं और उन्हें प्रताड़ित करते हैं। उनका यह भी आरोप है कि तेज प्रताप ड्रग्स लेने के बाद ख़ुद को भगवान और देवी बताते थे और उसी तरह के कपड़े पहनकर उनसे पेश आते थे। तलाक़ के लिए कोर्ट में चल रहे मामले में ऐश्वर्या ने अपना जवाब दायर कर ये आरोप लगाए हैं। तेज प्रताप और ऐश्वर्या की शादी मई 2018 में हुई थी। शादी के पाँच महीने बाद नवंबर में तेज ने पटना की एक अदालत में तलाक़ की याचिका दायर की।

ये आरोप इसलिए चौंकाने वाले हैं क्योंकि यह मामला बिहार के दो बड़े राजनीतिक घरानों से जुड़ा है। तेज प्रताप उस लालू यादव परिवार से आते हैं जिसने बिहार में क़रीब 15 साल शासन किया। लालू यादव ख़ुद 7 साल तक मुख्यमंत्री और केंद्र की यूपीए सरकार में रेल मंत्री रहे। तेज प्रताप की माँ राबड़ी देवी भी क़रीब आठ साल मुख्यमंत्री रहीं। नीतीश सरकार में तेज प्रताप ख़ुद स्वास्थ्य मंत्री थे और उनके छोटे भाई तेजस्वी यादव उप मुख्यमंत्री थे। भले ही चारा घोटाला मामले में फँसने के बाद लालू यादव फ़िलहाल राजनीतिक पटल पर उतने सक्रिय नहीं हैं, लेकिन एक समय था जब वह पूरे देश की राजनीति को प्रभावित रखने की हैसियत रखते थे। 

ऐश्वर्या भी काफ़ी बड़े परिवार से ताल्लुक रखती हैं। ऐश्वर्या के पिता चंद्रिका राय बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा राय के बेटे हैं और वह लालू के बेहद क़रीबी माने जाते हैं। दरोगा राय 16 फ़रवरी 1970 से लेकर 22 दिसंबर 1970 तक बिहार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। ऐसे में दोनों परिवारों की ऐसी शख्सियत होने और गहरे संबंध होने के बावजूद यदि ऐश्वर्या ऐसे आरोप लगा रही हैं तो यह सामान्य बात नहीं है।

ताज़ा ख़बरें

ऐश्वर्या ने क्या लगाये आरोप?

ऐश्वर्या राय ने घरेलू हिंसा संरक्षण अधिनियम, 2005 के तहत परिवार अदालत से सुरक्षा की माँग करते हुए मंगलवार को जवाब दायर किया है। ‘टाइम्स ऑफ़ इंडिया’ की रिपोर्ट के अनुसार, ऐश्वर्या ने अपनी शिकायत में दावा किया कि तेज एक ड्रग एडिक्ट थे जो ड्रग्स लेने के बाद भगवान शिव का अवतार होने का दावा करते थे।

रिपोर्ट के अनुसार, ऐश्वर्या ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया, ‘तेज प्रताप राधा और कृष्ण की तरह कपड़े पहने थे। मेरी शादी के तुरंत बाद मुझे पता चला कि वह भगवान और देवी की तरह कपड़े पहनते थे। इतना ही नहीं, एक बार तो ड्रग्स लेने के बाद तेज ने देवी राधा की तरह घाघरा और चोली पहनी थी। उन्होंने मेकअप किया और एक हेयर विग भी पहना था।'

ऐश्वर्या ने कहा कि जब उसने तेज को ड्रग्स बंद करने और देवी-देवताओं की तरह कपड़े पहनना बंद करने को कहा तो तेज ने जवाब दिया, ‘गांजा तो भोले बाबा का प्रसाद है, उसको कैसे मना करें? मैं उसको इनकार कैसे कर सकता हूँ।’

लालू के परिवार पर भी आरोप

ऐश्वर्या ने अपनी शिकायत में कहा कि उन्होंने इस मामले को अपने ससुराल वालों के सामने उठाने की कोशिश की लेकिन उन्होंने उनकी किसी भी तरह से मदद नहीं की। ऐश्वर्या ने कहा, ‘मैंने तेज के व्यवहार के बारे में अपनी सास और ननद से बात की और उन्होंने आश्वासन दिया कि तेज अब ऐसा व्यवहार नहीं करेंगे। मेरे ससुराल वालों ने मुझे भावनात्मक रूप से सांत्वना दी, लेकिन तेज का व्यवहार बिल्कुल नहीं बदला।’ 

ऐश्वर्या ने अपनी शिकायत में कहा कि उनके पति उनकी शैक्षणिक पृष्ठभूमि के बारे में भला-बुरा कहते थे और अक्सर कहते थे कि वह केवल खाना बनाने और परिवार चलाने के लिए ही है।
बिहार से और ख़बरें

तेज़ प्रताप ने भी ऐश्वर्या पर लगाए थे आरोप

बता दें कि तेज प्रताप ने पिछले साल नवंबर में जब तलाक़ की अर्जी लगाई थी तब उन्होंने अपनी पत्नी ऐश्वर्या पर आरोप लगाए थे कि वह उनसे अपने पिता के लिए छपरा से लोकसभा टिकट माँगती थीं। उन्होंने आरोप था कि उनकी पत्नी कहती थीं कि अगर टिकट नहीं मिला तो शादी का क्या फ़ायदा। उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि ऐश्वर्या उनके पूरे परिवार को गंवार भी कहती थीं।

तब तेज प्रताप ने अपनी अर्जी में लिखा था, 'ऐश्वर्या मुझे मेरे छोटे भाई से लड़वाना चाहती थी। वह कहती थी कि तेजस्वी तुमसे जलता है।' बता दें कि तेज प्रताप कई बार कह चुके हैं कि ‘मेरे परिवार और पार्टी के कई लोगों ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए मुझे बलि का बकरा बनाया।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें