loader

MLC चुनाव: NDA में सीट बंटवारा- मांझी-सहनी साफ, रालोजपा को एक सीट

बिहार में विधान परिषद की 24 सीटों पर शनिवार को एनडीए में बँटवारा हो गया। सीटों के बँटवारे के साथ ही एनडीए घटक दलों में बवाल भी शुरू हो गया है। घटक दल के एक साथी मुकेश सहनी की वीआईपी पार्टी ने तो 24 सीटों पर चुनाव लड़ने की घोषणा कर दी।

शनिवार को बिहार में एनडीए घटक दल के साथी जदयू और बीजेपी ने साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर घोषणा की कि बीजेपी 13 सीटों पर, जबकि जदयू 11 सीटों पर विधान परिषद की चुनाव लड़ेगी। एक सीट पर रालोजपा चुनाव लड़ेगी। बीजेपी अपनी 13 सीटों में से ही एक सीट रालोजपा को देगी।

सीटों की घोषणा से पहले शनिवार दोपहर में बीजेपी के बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात कर इसकी जानकारी दी थी। कहा जाता है कि इसके बाद ही दोनों दलों के बीच इस फॉर्मूले पर आखिरी सहमति बनी। प्रेस कॉन्फ्रेंस में एनडीए नेताओं ने विकासशील इन्सान पार्टी (VIP) और हिंदुस्तानी अवाम पार्टी (HAM) को सीटें नहीं देने के सवाल को टाल दिया।

ताज़ा ख़बरें

मांझी-सहनी साफ

विधान परिषद की 24 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में बीजेपी और जदयू ने अपने पुराने साथी जीतन राम मांझी की पार्टी हम और मुकेश सहनी की वीआईपी पार्टी से ज्यादा पशुपति पारस की पार्टी रालोजपा पर भरोसा जताया है। कुछ दिन पहले ही चिराग पासवान से अलग होकर पशुपति पारस ने अपनी नई पार्टी रालोजपा का गठन किया था। एनडीए ने इसके बाद उन्हें रामविलास पासवान की जगह केंद्र में जगह देने के बाद अब विधान परिषद में भी एक सीट दिया है, जबकि सीटों के बंटवारे में एनडीए ने मांझी और सहनी को साफ कर दिया है।

24 सीटों पर मुकेश सहनी उतारेंगे प्रत्याशी

सीटों के बंटवारे से नाराज विकासशील इन्सान पार्टी के प्रमुख और नीतीश सरकार में मंत्री मुकेश सहनी ने अब सभी 24 सीटों पर अपना प्रत्याशी उतारने की घोषणा कर दी है। मुकेश सहनी ने कहा कि जिस प्रकार से सीटों का एलान हुआ है, वह गठबंधन के लिहाज से सही नहीं है। भाजपा नेताओं का कहना है कि सहयोगी दलों से बातचीत कर मामला सुलझा लिया जाएगा। एनडीए उन्हें विश्वास में लेगा। उन्होंने कहा कि सीटों के बंटवारे की घोषणा के बाद बातचीत का क्या मतलब है। पहले बातचीत कर विश्वास में लेना चाहिए था।

बिहार से और ख़बरें

सहनी से क्यों नाराज है बीजेपी?

यूपी चुनाव को लेकर बिहार में एनडीए घटक दलों के बीच पिछले कुछ दिनों से बयानबाजी चल रही थी। निषाद आरक्षण के मुद्दे पर मुकेश सहनी ने बीजेपी के खिलाफ अपना मोर्चा खोल दिया था। सहनी ने बीजेपी के विरोध के बाद भी अपने 165 प्रत्याशियों को चुनाव मैदान में उतारने की घोषणा कर दी। इसके बाद से ही यह कयास लगाया जाने लगा था कि भाजपा मुकेश सहनी को विधान परिषद में कोई सीट नहीं देगी।

ख़ास ख़बरें

सीएम अवास में तय हुआ फॉर्मूला

शनिवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 1 अणे मार्ग स्थित आवास पर बीजेपी और जदयू के वरिष्ठ नेताओं की एक महत्वपूर्ण बैठक हुई। दोपहर में हुई इस बैठक में ही इस समीकरण पर दोनों दलों के बीच आम सहमति बनी थी। इसको लेकर बिहार बीजेपी के प्रभारी व केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव शुक्रवार को दिल्ली से पटना आए थे। इसके बाद शनिवार को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद के साथ सीएम आवास पर पहुंचे। जदयू के वरिष्ठ नेता और बिहार सरकार के शिक्षा मंत्री विजय चौधरी वहां पहले से ही मौजूद थे। सूत्रों का कहना है कि इस बैठक में दोनों दलों की आम सहमति से सीटों के बंटवारे का फॉर्मूला तय किया गया।

जानिए, कौन कहां से लड़ेगा चुनाव

BJP को 12 सीटें - रोहतास, औरंगाबाद, सारण, सीवान, दरभंगा, पूर्वी चंपारण, किसनगंज, कटिहार, सहरसा, गोपालगंज, बेगूसराय और समस्तीपुर।

RLJP- वैशाली

JDU की 11 सीटें- पटना, भोजपुर, गया, नालंदा, मुजफ्फरपुर, पश्चिमी चंपारण, सीतामढ़ी, भागलपुर, मुंगेर, नवादा और मधुबनी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
राजेश कुमार ओझा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें