loader

बिहार एमएलसी चुनाव: लालू के MY फॉर्मूले से आगे निकले तेजस्‍वी

बिहार विधानपरिषद की 24 सीटों के लिए संपन्न चुनाव ने बिहार में एक नये राजनीतिक समीकरण का आगाज किया। करीब तीस वर्षो से बिहार की राजनीति के मुख्य धारा से गायब सवर्णों की इस चुनाव से बड़ी संख्या में एंट्री हुई।

24 सीटों में से 12 पर केवल भूमिहार और राजपूत जाति के प्रत्याशियों ने बाजी मारी। दोनों जातियों के 6-6 उम्मीदवारों ने इस चुनाव में अपना परचम लहराया है। 

आरजेडी की राजनीति के दृष्टिकोण से देखा जाए तो तीन दशकों की राजनीति में ऐसा पहली बार हुआ है जब आरजेडी को भूमिहारों का समर्थन मिला है। लालू प्रसाद से अलग तेजस्वी यादव बिहार में एक नया राजनीतिक समीकरण (भूमिहार, यादव और मुसलमान) बनाने में सफल होते दिख रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें
बिहार में आरजेडी के ध्रुर विरोधी कहे जाने वाले भूमिहारों का भी पार्टी को समर्थन मिला। तेजस्वी यादव ने 10 सवर्णों को टिकट दिया था, जिसमें 5 भूमिहार प्रत्‍याशी थे। इनमें से 3 चुनाव जीतकर विधानपरिषद पहुंचने में सफल रहे। 
Bihar MLC Elections 2022 results RJD congress - Satya Hindi

हालांकि, यह संख्या और बढ़ सकती थी। लेकिन, एक बार फिर कांग्रेस ने इस चुनाव में आरजेडी का खेल बिगाड़ा और अपने दम पर विधान परिषद में 2 सीटों पर एंट्री मारी है। बेगूसराय से उसके प्रत्याशी और पूर्वी चंपारण में उसके समर्थित प्रत्याशी की जीत हुई है। 

आरजेडी में बदला जातीय समीकरण

यह पहला मौका है जब राष्ट्रीय जनता दल ने किसी चुनाव में सवर्णों को साथ लेकर चलने की कोशिश की है। राजनीतिक विश्लेषक लव कुमार मिश्रा की माने तो आरजेडी अगर इसी रणनीति को बनाए रखी तो वह बीजेपी के लिए बड़ी चुनौती पेश कर सकता है। पिछले लोकसभा चुनाव के पहले से ही तेजस्वी यादव राष्ट्रीय जनता दल को ए टू जेड की पार्टी बता रहे थे। हालांकि, टिकट वितरण में ऐसी कोई बात देखने को नहीं मिली थी, लेकिन विधानपरिषद चुनाव में उन्होंने रणनीति बदली और काफी हद तक सफल भी रहे।

बिहार विधान परिषद की 24 सीटों में आरजेडी के कुल 6 सदस्य नवनिर्वाचित हुए हैं। इसमें 3 भूमिहार जाति से हैं। दूसरी तरफ पार्टी ने 10 यादव और 1 मुसलिम को भी विधान परिषद का टिकट दिया था, लेकिन 10 में से केवल 1 यादव उम्‍मीदवार को ही जीत नसीब हुई।

कांग्रेस को मिला ब्राह्मणों का समर्थन

विधान परिषद की हुई 24 सीटों पर हुए चुनाव में कांग्रेस की 2 सीटों पर जीत हुई। बेगूसराय से उसके प्रत्याशी और पूर्वी चंपारण में उसके समर्थित प्रत्याशी की जीत हुई। यह जीत कांग्रेस ने अपने दम पर प्राप्त की है। इन दोनों सीटों पर मुसलमान और ब्रह्राणों का कांग्रेस को समर्थन मिला।

इससे इस बात पर बहस तेज हो गई है कि क्या कांग्रेस को बिहार में उसके परंपरागत वोटर का अब समर्थन मिलना शुरु हो गया है।

1990 के बाद यह पहला अवसर है जब मुसलमानों ने आरजेडी की जगह कांग्रेस को अपना समर्थन दिया है। यही कारण है कि कांग्रेस ने कई सीटों पर आरजेडी का खेल भी बिगाड़ दिया। बताते चलें कि आरजेडी बिहार विधान परिषद में अपने दम पर चुनाव मैदान में उतरी थी। कांग्रेस को उसने कोई सीट नहीं दी थी। इससे नाराज़ कांग्रेस ने भी 24 में से 14 सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े कर दिए और पांच सीटें-कटिहार, दरभंगा, सीतामढ़ी, पूर्णिया और गोपालगंज में आरजेडी का खेल बिगाड़ा दिया।         

बिहार से और खबरें

सवर्णों का प्रदर्शन बेहतर

बिहार विधानपरिषद की 24 सीटों में टिकट वितरण के लिहाज से देखा जाए तो यह स्पष्ट होता है कि सभी पार्टियों ने सभी जातियों का ख्याल रखा। वैसे जीत में सवर्णों की बड़ी भागीदारी रही। 24 सीटों में 12 सीट पर केवल भूमिहार और राजपूत जाति के प्रत्याशियों ने बाजी मारी। दोनों जातियों के 6-6 उम्मीदवार इस चुनाव में पताका फहराते नजर आए। वैश्य समुदाय से भी 6 प्रत्याशियों का भाग्य खुला। 

वैसे दूसरे समुदाय से भी 6 प्रत्याशी चुनाव जीतने में सफल रहे। 5 सीट पर यादव और 1 सीट पर ब्राह्मण प्रत्‍याशी विजयी रहे। दूसरी जातियों के प्रत्याशियों को कोई कामयाबी नहीं मिली। मुसलिम प्रत्याशियों का तो खाता तक नहीं खुला। सबसे ज्यादा भूमिहार और राजपूत प्रत्‍याशी बीजेपी से जीते।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
राजेश कुमार ओझा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें