loader

गुहा पर राजद्रोह: 49 हस्तियों से केस वापस लेगी बिहार पुलिस

लिंचिंग को लेकर प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखने पर 49 हस्तियों के ख़िलाफ़ दर्ज राजद्रोह के केस को बिहार पुलिस ने बंद करने का फ़ैसला किया है। इसके साथ ही शिकायत करने वाले वकील सुधीर ओझा के ख़िलाफ़ बेतुकी शिकायतें देने के लिए एफ़आईआर दर्ज की जाएगी। 

सुधीर ओझा की शिकायत पर ही न्यायिक मजिस्ट्रेट ने इतिहासकार रामचंद्र गुहा, फ़िल्म निर्माता अपर्णा सेन, श्याम बेनेगल सहित कई हस्तियों के ख़िलाफ़ राजद्रोह का मुक़दमा दर्ज करने का आदेश दिया था। पिछले हफ़्ते ही एफ़आईआर दर्ज होने के बाद इस पर काफ़ी हंगामा हुआ था। विपक्षी दलों ने इसके लिए सरकार पर भी निशाना साधा था। हालाँकि सरकार की ओर से कहा गया था कि यह मामला मजिस्ट्रेट के आदेश पर दर्ज किया गया है तो इसमें सरकार का हाथ कैसे हो सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस के प्रवक्ता जितेंद्र कुमार ने 'एनडीटीवी' से कहा कि ज़िला पुलिस प्रमुख ने मामले को 'दुर्भावनापूर्ण रूप से झूठा' करार दिया है। उन्होंने कहा कि मुक़दमा 'सिर्फ़ प्रचार' पाने के लिए दायर किया गया था।

रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारी ने कहा कि एसएसपी ने मामले को बंद करने और शिकायतकर्ता के ख़िलाफ़ 'झूठा मामला' दर्ज करने के लिए कार्रवाई की सिफ़ारिश की है। आगे उन्होंने कहा कि मामले के जाँच अधिकारी एक या दो दिन में स्थानीय अदालत में अंतिम रिपोर्ट दाखिल करेंगे।

बिहार से और ख़बरें

बता दें कि इन हस्तियों ने अलग-अलग जगहों पर लोगों को पीट-पीट कर मार डालने की वारदात पर चिंता जताते हुए इसी साल 23 जुलाई को एक खुला ख़त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा था। हाल में लिंचिंग के कई मामले आए हैं। सिर्फ़ झारखंड में पिछले 6 साल में इस तरह की 53 घटनाएँ हुई हैं, पर किसी मामले में किसी को कोई सज़ा नहीं हुई है। 

इस चिट्ठी में इस ओर ध्यान दिलाया गया था कि संविधान में धर्मनिरपेक्षता और सभी जातियों, धर्मों, नस्लों के लोगों के साथ बराबरी की गारंटी दी गई है। इस चिट्ठी में यह उम्मीद जताई गई थी कि चिंता को सही परिप्रेक्ष्य में समझा जाएगा और भारत के लोगों की चिंता और परेशानी को समझा जाएगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें