loader

उप मुख्यमंत्री पद से चूके सुशील मोदी अब राज्यसभा जाएंगे 

बिहार में इस बार उप मुख्यमंत्री का पद पाने से चूके बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी राज्यसभा जाएंगे। पार्टी ने बिहार में खाली हुई एक सीट के लिए मोदी को उम्मीदवार बनाया है। यह सीट लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रहे राम विलास पासवान के निधन से खाली हुई है। इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी मोदी को राज्यसभा भेज सकती है और ऐसा ही हुआ। भविष्य में होने वाले कैबिनेट विस्तार में उन्हें मोदी मंत्रिमंडल में भी जगह दी जा सकती है। बीजेपी को बिहार में सुशील मोदी के समर्थकों की नाराज़गी को दूर करने के लिए ऐसा करना ज़रूरी है। 

ताज़ा ख़बरें

खुलकर नाराज़गी जताई थी

तारकिशोर प्रसाद को बीजेपी विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद सुशील मोदी ने ट्वीट कर अपनी नाराज़गी का इजहार किया था। ख़ुद को दी गई जिम्मेदारियों के लिए बीजेपी व संघ परिवार का आभार व्यक्त करते हुए सुशील मोदी ने कहा था, ‘कार्यकर्ता का पद तो कोई छीन नहीं सकता।’ इसका सीधा मतलब यही था कि सुशील मोदी लोगों को बताना चाहते थे कि उनसे डिप्टी सीएम का पद छीना गया है।
BJP Nominate Sushil kumar Modi for rajya sabha - Satya Hindi

नीतीश के पक्के दोस्त

बिहार में नीतीश कुमार और सुशील मोदी की यारी पुरानी मानी जाती है। दोनों ही सामाजिक न्याय की राजनीति से निकले नेता हैं और बरसों से साथ-साथ राजनीति करते रहे हैं। बिहार में बीजेपी-जेडीयू की सरकार के दौरान जब-जब नीतीश कुमार पर संकट आया तो सुशील मोदी आगे आए। 

पिछले साल लोकसभा चुनाव के बाद जब बिहार बीजेपी के कुछ वरिष्ठ नेता नीतीश पर हमला कर रहे थे तो उनके समर्थन में जो शख़्स सबसे आगे खड़ा था, उसका नाम था सुशील मोदी। सुशील मोदी ने जिस तरह नीतीश का बचाव किया था, उससे राजनीतिक विश्लेषकों के कान खड़े हो गए थे।

देखिए, बिहार के चुनाव नतीजों पर चर्चा- 

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह और वरिष्ठ नेता संजय पासवान जैसे बड़े नेता बिहार में बीजेपी का मुख्यमंत्री बनने की सियासी ख़्वाहिश लिए नीतीश पर पटना की बाढ़ में बदइंतजामी को लेकर हमला बोल रहे थे। तब सुशील ने ट्वीट कर कहा था, ‘नीतीश जी ने बिहार में न्याय के साथ विकास की राजनीति को नई ऊंचाई दी और आपदा की चुनौतियों को भी जनता की सेवा के अवसर में बदलने का हुनर साबित किया।’ 
सुशील मोदी इस बात के पुरजोर हिमायती थे कि एनडीए का चेहरा नीतीश कुमार को ही बनाया जाना चाहिए। इस बार जब उन्हें डिप्टी सीएम नहीं बनाया गया तो यह माना गया कि नीतीश से उनकी ज़्यादा नज़दीकी हाई कमान को रास नहीं आई।

लालू का ऑडियो किया वायरल

कुछ दिन पहले ही सुशील मोदी ने एक ऑडियो जारी कर बिहार की सियासत में खलबली मचा दी थी। इस ऑडियो में उन्होंने कथित रूप से लालू प्रसाद यादव की आवाज़ होने का दावा किया था। मोदी ने इस ऑडियो को ट्वीट भी किया था और आरोप लगाया था कि लालू ने एनडीए के एक विधायक को बिहार विधानसभा स्पीकर के चुनाव में महागठबंधन के पक्ष में मतदान करने का लालच दिया है। 
बिहार से और ख़बरें

ख़ैर, अब जब सुशील मोदी को बीजेपी ने राज्यसभा का उम्मीदवार बना दिया है तो माना जाना चाहिए कि उनकी नाराज़गी दूर होगी। वैसे भी पार्टी बिहार में नई लीडरशिप चाहती थी, शायद इसीलिए उसने मोदी को केंद्रीय राजनीति में भेजने का फ़ैसला किया है। लेकिन जिस तरह बीजेपी-जेडीयू के रिश्तों में शुरुआती दिनों में ही खटास आती दिख रही है, उससे सवाल खड़ा होता है कि यह सरकार आख़िर कितने दिन चलेगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें