loader

भ्रष्टाचार अभियुक्त को नीतीश कुमार ने बनाया शिक्षा मंत्री

भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ 'न खाऊंगा न खाने दूंगा' का नारा देने वाली बीजेपी और 'सुशासन बाबू' का तमगा पाने वाले जेडीयू के नीतीश कुमार की बिहार सरकार के शपथ ग्रहण करते हुए विवाद शुरू हो गया और भष्ट्राचार का आरोप लग गया। जिस मेवावाल चौधरी पर तीन साल पहले भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे, नीतीश कुमार ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया था, सुशील मोदी ने उनकी गिरफ़्तारी की मांग की थी, वे नीतीश सरकार के शिक्षा मंत्री हैं। मुख्य विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल ने यह मुद्दा उठाते हुए मुख्यमंत्री पर तीखा हमला किया है और उन्हें पद से हटाने की माँग की है। 
मेवालाल चौधरी तारापुर से जनता दल यूनाइटेड के विधायक चुने गए हैं। आरजेडी ने उन्हें पद से हटाने की माँग करते हुए कहा है,  "नीतीश कुमार ने भ्रष्ट जेडीयू विधायक मेवालाल को मंत्री पद दिया है। यह नीतीश कुमार का दोहरा मापदंड है, जो स्वयं भ्रष्टाचार के 60 मामलों के मुखिया हैं। यह व्यक्ति कुर्सी के लिए किसी स्तर तक जा सकता है।"
ख़ास ख़बरें

घपले का आरोप

चौधरी पर आरोप है कि उन्होंने भागलपुर स्थित बिहार कृषि विश्वविद्यालय के उप कुलपति पद पर रहते हुए सहायक प्रोफ़ेसर और कनिष्ठ वैज्ञानिकों की नियुक्त में घपला किया था। तत्कालीन राज्यपाल राम नाथ कोविंद की अनुशंसा पर भागलपुर के सबौर थाने में मेवालाल के ख़िलाफ़ 20 फरवरी 2017 को मामला दर्ज किया गया था। नियुक्ति में कथित अनियमितता से जुड़ी कई शिकायतें मिलने के बाद राज्यापाल ने उनके ख़िलाफ़ जाँच की सिफारिश की थी।
मेवालाल चौधरी पर धारा 409 (विश्वास तोड़ने), 420 (धोखाधड़ी), 467 ( जमानत में रखी मूल्यवान चीजों की धोखाधड़ी), 468 (ठगने के मक़सद से धोखाधड़ी), 471 (फ़र्जी काग़ज़ात को असली बता कर पेश करना) और 120 बी (साजिश) के तहत मामले दर्ज किए गए थे।
ये आरोप लगाए जाने के तीन दिन बाद ही उन्हें जदयू से निकाल दिया गया था।

सुशील मोदी ने गिरफ़्तारी की माँग की थी

उस समय बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता सुशील मोदी ने कहा था, "हम उनकी तुरन्त गिरफ़्तारी की माँग करते हैं। यदि उन्हें गिरफ़्तार नहीं किया गया, हम सदन में यह मुद्दा उठाएंगे।" यह वही सुशील मोदी हैं जो बाद में नीतीश कुमार के साथ उप मुख्यमंत्री बने। उनकी पार्टी बीजेपी नीतीश सरकार में शामिल है और ज़ाहिर है, आज पार्टी इस पर चुप हैं। 
corruption accused mewalal chaudhary in nitish kumar cabinet - Satya Hindi
सुशील मोदी उस समय विपक्ष के नेता थे, मेवालाल की गिरफ़्तारी की माँग की थी।

अग्रिम ज़मानत

मेवालाल चौधरी ने अग्रिम ज़मानत की याचिका पटना हाई कोर्ट में दायर की थी और उन्हें 22 अगस्त 2017 को अग्रिम ज़मानत मिल गई। वह जनवरी 2018 में पार्टी में लौट आए।
चौधरी बिहार कृषि विश्वविद्यालय के उप कुलपति 2010 से 2015 तक थे। विश्वविद्यालय ने 2011 में असिस्टेंट प्रोफ़ेसर व जूनियर साइंटिस्ट के 281 पदों की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकाला। साल 2012 में सामान्य वर्ग के 161 पदों पर नियुक्ति कर दी गई। इसके लिए 2,500 लोगों को इंटरव्यू में बुलाया गया था।

पार्टी से निकाले गए थे

बाद में इंटरव्यू में फेल हुई एक प्रार्थी अनामिका कुमारी ने शिकायत दर्ज कराई। दूसरे कई लोगों ने भी शिकायत की। इसकी जाँच हुई और 63 पेजों की रिपोर्ट सरकार को सौंपी गई। वह रिपोर्ट राज्यपाल को सौंपी गई और राज्यपाल ने मेवालाल चौधरी के ख़िलाफ़ मामला दर्ज करने का आदेश दे दिया।
कांग्रेस नेता प्रेम चंद्र मिश्रा ने चौधरी के शिक्षा मंत्री बनाए जाने पर कहा, "भ्रष्टाचार में शामिल व्यक्ति और उस पर भी जूनियर प्रोफ़ेसर की नियुक्ति में हुए घपले से जुड़े आदमी को शिक्षा मंत्री बनाए जाने से भ्रष्टाचार एकदम बर्दाश्त नहीं करने के नीतीश कुमार के दावे की पोल खुल जाती है।"

पत्नी की संदेहास्पद मौत का मामला

मेवालाल चौधरी एक दूसरे विवाद में भी फंसे हुए हैं। पूर्व आईपीएस अधिकारी अमिताभ दास ने बिहार के पुलिस महानिदेशक को एक चिट्ठी लिख कर मेवालाल की पत्नी नीरा चौधरी की मत्यु की जाँच कराने की मांग की है। नीरा चौधरी को जली हुई स्थिति में अस्पताल में भर्ती कराया गया था और 2 जून, 2019 को उनकी मौत हो गई थी। दास का आरोप है कि नीरा चौधरी को मेवालाल के घपलों की जानकारी थी।
बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा है कि अमिताभ दास को क़ानूनी नोटिस दी जाएगी। लेकिन भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उनका कहना है कि उन्हें कुछ पता ही नहीं है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें