loader

गिरिराज सिंह का विवादित बयान- 'अधिकारी नहीं सुनें तो बाँस से मारो'

यदि कोई अधिकारी लोगों की शिकायतें नहीं सुने तो क्या हिंसा की वकालत की जा सकती है? क्या किसी अधिकारी को पीटने के लिए लोगों को उकसाया जा सकता है? वह भी केंद्रीय मंत्री ऐसा काम करें तो? केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ऐसा ही विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि 'यदि कोई अधिकारी नहीं सुने तो बाँस से मारो'। वैसे गिरिराज सिंह अक्सर विवादित बयानों के लिए सुर्खियों में रहे हैं।

उनका ताज़ा बयान बिहार के बेगूसराय में कृषि से जुड़े एक कार्यक्रम में शनिवार को आया है। उन्होंने कहा कि आम लोगों से अक्सर उन्हें शिकायत मिलती है कि उनकी शिकायतों के प्रति संबंधित अधिकारी ध्यान नहीं देते हैं। 

ताज़ा ख़बरें

गिरिराज सिंह ने लोगों की ऐसी शिकायतों का ही ज़िक्र करते हुए अधिकारियों के ख़िलाफ़ हिंसा की बात कह दी। 

उन्होंने कहा, 'मैं उनसे कहता हूँ, आप इतनी छोटी-छोटी चीजों के लिए मेरे पास क्यों आते हैं। सांसद, विधायक, ग्राम मुखिया, डीएम, एसडीएम, बीडीओ... इन सभी की ज़िम्मेदारी लोगों की सेवा करने की है। यदि वे आपकी बात नहीं मानते हैं तो बांस से लेकर मारो न...।'

उन्होंने कहा कि 'आपने मुझे सांसद बनाया है, आपने किसी को विधायक बनाया है, आपने किसी को ज़िला परिषद बनाया है, आपके बल पर कोई मुखिया है, मुखिया, एमएलए और एमपी के बल पर आप नहीं।'

गिरिराज सिंह ने कहा, 'न हम नाजायज कहेंगे और न नाजायज बर्दाश्त करेंगे। न किसी अधिकारी को हम नाजायज काम करने के लिए कहते हैं और न किसी अधिकारी के नंगा नृत्य को बर्दाश्त कर सकते हैं।' 

गिरिराज सिंह ने कहा कि समस्या लेकर आप जाएँ और अगर आपके अधिकारों का हनन होगा तो गिरिराज आपके साथ खड़ा है।

वैसे, गिरिराज सिंह का यह पहला बयान नहीं है जब उन्होंने इस तरह का विवादित बयान दिया है। इससे पहले शाहीन बाग़ प्रदर्शन को लेकर भी पिछले साल फ़रवरी में बड़ा विवादित बयान दिया था। तब उन्होंने ट्वीट कर कहा था, 'यह शाहीन बाग़ अब सिर्फ़ आंदोलन नहीं रह गया है... यहाँ सुइसाइड बॉम्बर का जत्था बनाया जा रहा है। देश की राजधानी में देश के ख़िलाफ़ साज़िश हो रही है।' 

इसके अलावा उन्होंने समाचार एजेन्सी एएनआई से कहा था, ‘शाहीन बाग़ में एक महिला का बच्चा ठंड में मर जाता है और वो महिला कहती है कि मेरा बेटा शहीद हुआ। ये सुसाइड बॉम्ब नहीं तो और क्या है। अगर भारत को बचाना है तो ये सुसाइड बॉम्ब, खिलाफत आंदोलन 2 से देश को सजग करना होगा।‘

बता दें कि तब नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन चल रहा था और शाहीन बाग़ में बड़ी संख्या में महिलाएँ शांतिपूर्ण ढंग से प्रदर्शन करती रही थीं। 

बिहार से और ख़बरें
पिछले साल ही फ़रवरी में गिरिराज सिंह ने कहा था कि मुसलमानों को 1947 में ही पाकिस्तान भेज देना चाहिए था। बिहार के पूर्णिया में पत्रकारों के साथ बातचीत में गिरिराज सिंह ने कहा था, ‘राष्ट्र के प्रति समर्पित होने का समय आ गया है। 1947 से पहले हमारे पूर्वज देश की आज़ादी की लड़ाई लड़ रहे थे और जिन्ना भारत को इस्लामिक स्टेट बनाने की योजना बना रहा था। यह बहुत बड़ी भूल हमारे पूर्वजों से हुई जिसका खामियाजा हम यहां भुगत रहे हैं।’ गिरिराज सिंह ने आगे कहा, ‘अगर उस समय मुसलमान भाइयों को वहां भेज दिया गया होता तो आज यह नौबत ही नहीं आती।’ वह नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध-प्रदर्शन के संदर्भ में बोल रहे थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें