loader

बिहार: मुंगेर में फिर बवाल, डीएम-एसपी को हटाया 

मुंगेर में गुरूवार को फिर बवाल हो गया। एसपी दफ़्तर पर कई लोगों ने हमला बोल दिया और कुछ गाड़ियों में आग लगा दी। 26 अक्टूबर को मुंगेर में मूर्ति विसर्जन के दौरान फ़ायरिंग हुई थी और पुलिस ने दुर्गा पंडाल बनाने वाले लोगों पर लाठीचार्ज किया था। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। इसके बाद हिंसा भड़की थी और इसमें दो लोगों की मौत हो गई थी। इसे लेकर राज्य की राजनीति बेहद गर्म थी और दबाव में आए चुनाव आयोग को गुरूवार को कार्रवाई करनी पड़ी। 

आयोग ने डीएम राजेश मीणा और एसपी लिपि सिंह को हटा दिया। आयोग ने मगध के डिवीजनल कमिश्नर से 7 दिन में रिपोर्ट मांगी है। 

ताज़ा ख़बरें
कांग्रेस ने कहा है कि इस घटना के लिए नीतीश सरकार से ज़्यादा जिम्मेदारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बनती है। पार्टी के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से पूछा है, ‘दुर्गा के भक्तों को पीटने के लिए जिम्मेदार कौन है। मुंगेर के 8 लोगों पर गोली चलाने का जिम्मेदार कौन है। मुंगेर हिंसा में बीजेपी-जेडीयू सरकार के जंगलराज का जिम्मेदार कौन है।’ सुरजेवाला ने कहा है कि एसपी और डीएम को हटाना सिर्फ़ लीपापोती है। 

आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव ने क़ानून व्यवस्था का मुद्दा उठाते हुए मुंगेर में दुर्गा विसर्जन के दौरान हुए लाठीचार्ज को लेकर पुलिस की तुलना जनरल डायर से की थी। लिपि सिंह बिहार जेडीयू के बड़े नेता आरसीपी सिंह की बेटी हैं। 

तेजस्वी ने कहा था कि इसमें डबल इंजन सरकार की भूमिका रही है और पुलिस को जनरल डायर बनने की अनुमति किसने दी। तेजस्वी ने इस वारदात की उच्चस्तरीय जांच हाई कोर्ट की निगरानी में कराने और दोषियों को सख़्त सज़ा देने की मांग की थी। 

बिहार से और ख़बरें

उन्होंने कहा, 'खासतौर पर वहां के जो डीएम और एसपी हैं, उनको तुरंत वहां से हटाना चाहिए। आपको पता होगा कि वहां पुलिस महकमे की  ज़िम्मेदार अफ़सर जेडीयू नेता की बेटी हैं। मैं नाम नहीं लेना चाहता हूं। लेकिन ये 'जनरल डायर' बनने का आदेश कहीं न कहीं से ज़रूर गया है।

पुलिस का कहना है कि सोमवार की शाम मुंगेर के दीनदयाल उपाध्याय चौक पर दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के दौरान असामाजिक तत्वों ने पथराव किया, उसके बाद पुलिस ने गोलियां चलाईं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें