loader

नीतीश के साथ 14 विधायक लेंगे मंत्री पद की शपथ

सोमवार शाम नीतीश कुमार के साथ 14 विधायक मंत्री पद की शपथ लेंगे। नीतीश कुमार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे। उनके साथ बीजेपी के तारकिशोर प्रसाद और रेणु देवी भी शपथ ग्रहण करेंगी। वे दोनों उप मुख्यमंत्री बन सकते हैं, हालांकि शपथ ग्रहण में उप मुख्यमंत्री पद नहीं होता है, लोग सिर्फ मंत्रिपरिषद के सदस्य के रूप में शपथ लेते हैं। 
बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और गृह मंत्री अमित शाह शपथ ग्रहण समारोह में उपस्थित रहेंगे। शपथ ग्रहण समारोह पटना के राजभवन में शाम 4.30 पर होगा। राज्यपाल फागु चौहान सभी मंत्रियों को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे। 
जिन लोगों के शपथ लेने की संभावना है, उनमें हैं जदयू के विजेंद्र यादव, विजय चौधरी, अशोक चौधरी, मेवालाल चौधरी, और शीला मंडल। शपथ लेने वाले बीजेपी विधायकों में मंगल पांडेय, रामप्रीत पासवान हो सकते हैं। इसके अलावा हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा के संतोष मांझी और विकासशील इंसान पार्टी के मुकेश मल्लाह भी मंत्री पद की शपथ ले सकते हैं। 

आरजेडी का बायकॉट

राष्ट्रीय जनता दल ने  शपथ ग्रहण समारोह के बायकॉट करने का फ़ैसला किया है। पार्टी ने ट्वीट कर इसका कारण बताया और कहा कि जनादेश एनडीए के ख़िलाफ़ है। 

नियम के अनुसार, मंत्रियों की संख्या विधानसभा सदस्यों की संख्या का 15 प्रतिशत से ज़्यादा नहीं हो सकती। बिहार विधानसभा में 243 सीटें हैं, इस लिहाज से बिहार में कुल 36 मंत्री हो सकते हैं। मीडिया ख़बरों में कहा जा रहा है कि कुल मिला कर बीजेपी के 18 और जदयू के 12 मंत्री हो सकते हैं, वीआईपी और 'हम' को एक-एक पद मिल सकता है। अब तक नीतीश कुमार समेत 15 लोगों के शपथ लेने की बात कही जा रही है। 

बीजेपी नेता तारकिशोर प्रसाद ने पत्रकारों से कहा, "ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि रेणु जी (बीजेपी नेता रेणु देवी) और मैं बिहार के उप-मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे।" वहीं, बीजेपी नेता रेणु देवी ने कहा, "यह बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। अगर लोगों ने हमें चुना और एनडीए पर भरोसा जताया है, तो हम उनकी उम्मीदों को पूरा करने के लिए मिलकर काम करेंगे।"

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें