loader

'आदेश' पर हमले के बाद नीतीश की सफ़ाई- स्वस्थ आलोचना ही मंजूर

सोशल मीडिया पर 'आलोचना' के लिए जेल के आदेश के लिए तीखी आलोचनाओं का सामना कर रही नीतीश सरकार अब संभलती दिख रही है। राज्य की पुलिस ने आज सफ़ाई जारी की और कहा कि सिर्फ़ रचनात्मक आलोचना स्वीकार्य रहेगी और अफवाह फैलाना और अपमानजनक भाषा के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी।

दरअसल, सरकार ने एक आदेश निकाला है कि इसके ख़िलाफ़ ग़लत लिखने पर यानी आपत्तिजनक लिखने पर जेल हो सकती है। आदेश में सरकारी पदाधिकारियों, मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और सरकार के किसी भी विभाग के प्रमुख के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया और इंटरनेट पर आपत्तिजनक, मानहानि करने वाले या ग़लत और भ्रामक टिप्पणी करने वालों के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई करने को कहा गया है। इसी पर बवाल हुआ और फिर सफ़ाई आई है।

ताज़ा ख़बरें

राज्य की पुलिस ने सफ़ाई में लोकतंत्र की दुहाई देते हुए कहा है कि रचनात्मक आलोचना ज़रूर की जानी चाहिए। अतिरिक्त महानिदेशक जितेंद्र कुमार ने कहा, 'लोकतंत्र के लिए आलोचना ठीक है। लेकिन आलोचना रचनात्मक होनी चाहिए और इस्तेमाल की जाने वाली भाषा शालीनता के मानदंडों के अंदर होनी चाहिए।' उन्होंने यह भी कहा कि यह सलाह अफवाहों और तथ्यात्मक रूप से ग़लत जानकारी को ध्यान में रखते हुए जारी की गई थी और इसमें सोशल मीडिया पर अपमानजनक भाषा का उपयोग भी शामिल था। उन्होंने साफ़ किया कि ये आईटी अधिनियम के तहत दंडनीय अपराध हैं।

पुलिस की तरफ़ से यह सफ़ाई तब आई जब विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार के इस आदेश को लेकर तीखा हमला किया। उन्होंने नीतीश कुमार को 'भ्रष्टाचार के भीष्म पितामह' बुलाते हुए चुनौती दी कि इस आदेश के तहत अब मुझे गिरफ़्तार करें। 

नीतीश सरकार का यह आदेश वैसा ही है जैसा केरल में भी पिनराई विजयन सरकार ने निकाला था। हालाँकि, विजयन सरकार तो अध्यादेश ही ले आई थी। लेकिन जब इस तरह के प्रावधान के लिए उसकी आलोचना की गई तो वह पलट गई।

केरल की विजयन सरकार की तरह ही अब बिहार की नीतीश सरकार की भी आलोचना की जाने लगी है और सरकार डैमेज कंट्रोल में जुटी है।

राज्य की आर्थिक अपराध शाखा ने सरकार के सभी प्रधान सचिवों को पत्र लिखा है। इसमें सरकारी पदाधिकारियों, मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और सरकार के किसी भी विभाग के प्रमुख के ख़िलाफ़ सोशल मीडिया और इंटरनेट पर आपत्तिजनक, मानहानि करने वाले या ग़लत और भ्रामक टिप्पणी करने वालों के ख़िलाफ़ क़ानूनी कार्रवाई करने को कहा गया है। बता दें कि राज्य में आर्थिक अपराध शाखा ही साइबर अपराध शाखा की नोडल एजेंसी है।

nitish government damage control on offensive social media jail order - Satya Hindi

सरकार के इस आदेश के सामने आने के बाद विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने उनपर निशाना साधा। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए और नीतीश कुमार पर भ्रष्टाचार को संरक्षण देने का आरोप लगाया और उन्हें गिरफ़्तार करने की चुनौती दी। 

बाद में उन्होंने एक अन्य ट्वीट में नीतीश कुमार पर हिटलर के पदचिन्हों पर चलने का आरोप लगाया। तेजस्वी ने इसमें आरोप लगाया कि नीतीश सरकार में लोग धरना नहीं दे सकते, सरकार के ख़िलाफ़ लिखने पर जेल होगी, आम आदमी विपक्ष के नेता से नहीं मिल सकता है।

बता दें कि नीतीश अपनी सभी सार्वजनिक सभाओं में सोशल मीडिया पोस्ट को अपनी सरकार के ख़िलाफ़ ग़लत, भ्रामक और झूठी सूचनाओं से भरा बताते रहे हैं। 

नीतीश कुमार पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी के अंसतोषजनक प्रदर्शन के कारणों में सोशल मीडिया को भी ज़िम्मेदार मानते रहे हैं। उन्होंने पहले भी कहा था कि सोशल मीडिया ने लोगों के बीच उनके सरकार के प्रति एक नाकारात्मक छवि पेश की थी।

राज्य की आर्थिक अपराध शाखा के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक यानी एडीजी नैयर हसनैन ख़ान ने सरकार के सभी प्रधान सचिवों को पत्र में लिखा, 'यह पता चला है कि कुछ व्यक्ति और संगठन सोशल मीडिया पर सरकार, सम्मानित मंत्रियों, सांसदों, विधायकों और सरकारी अधिकारियों के ख़िलाफ़ अपमानजनक और आपत्तिजनक टिप्पणी कर रहे हैं।'

बता दें कि ऐसा ही मामला केरल में भी आया था। केरल की एलडीएफ़ सरकार तो इस पर अध्यादेश तक ले आई थी। हालाँकि बाद में उसे अपना फ़ैसला पलटना पड़ा। एलडीएफ़ सरकार द्वारा 'आपत्तिजनक' सोशल मीडिया पोस्ट्स को लेकर लाए गए अध्यादेश पर सरकार के भीतर ही मतभेद सामने आने के बाद इसे रोक लिया गया था। 

मुख्यमंत्री विजयन ने कहा था कि इसे अमल में नहीं लाया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा था कि सरकार को समर्थन देने वाले और लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए खड़े होने वाले लोगों ने इसे लेकर चिंता जाहिर की थी। उन्होंने कहा कि विधानसभा में इसे लेकर चर्चा की जाएगी और सारे राजनीतिक दलों की बात सुनने के बाद ही इस संबंध में आगे कोई क़दम उठाया जाएगा। 

उस अध्यादेश को लेकर एलडीएफ़ सरकार में शामिल दल सीपीएम ने भी नाराजगी जताई थी। बीजेपी और कांग्रेस जैसी दूसरी विपक्षी पार्टियाँ तो आलोचना कर ही रही थीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें