loader
फ़ोटो: ट्विटर/वीडियो ग्रैब

पुलिस ने आरजेडी विधायकों को विधानसभा में पीटा: तेजस्वी

बिहार में आज उस समय राजनीतिक गहमागहमी तेज़ हो गई जब विधानसभा में विधायकों के साथ हाथापाई के आरोप लगाए गए। विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने आरोप लगाया है कि उनकी पार्टी आरजेडी के विधायकों को बिहार पुलिस ने सदन के अंदर पीटा। कुछ ऐसे वीडियो भी सामने आए हैं जिसमें दिख रहा है कि विधायकों को जबरन बाहर निकाला जा रहा है और वहाँ धक्का-मुक्की के आरोप लगाए गए। कम से कम एक विधायक को अस्पातल में इलाज के लिए ले जाया गया। 

इस घटना में घायल एक विधायक की तसवीर को ट्वीट कर तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। 

ख़बरों के मुताबिक़, हाथापाई की नौबत तब आई जब विपक्षी विधायक विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा को उनके चैंबर से निकलने नहीं दे रहे थे। वे बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक का विरोध कर रहे थे। इसको लेकर बिहार विधानसभा में हंगामा हुआ। विपक्ष की महिला विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष विजयकुार सिन्हा को चैंबर से बाहर आने से रोका। चैंबर के पास मौजूद महिला पुलिसकर्मियों ने विधायकों को जबरन हटाया।

विधायकों ने सदन में सुरक्षाकर्मियों पर आरोप लगाया कि उन्होंने उनके साथ हिंसा की। विधायक सत्येंद्र कुमार ने कहा, 'एसपी ने मेरी छाती पर पैर रखकर मारा।'

इस घटना में राजद विधायक सुधाकर सिंह और सीपीएम विधायक सत्येंद्र यादव सहित कई विपक्षी विधायक घायल हो गए। यादव को इलाज के लिए एम्बुलेंस में अस्पताल ले जाना पड़ा।

ताज़ा ख़बरें

तेजस्वी यादव ने कहा, 'बिहार ही नहीं, देश के इतिहास में ऐसा होगा कि सदन में पुलिस को बुलाया गया, एसपी ख़ुद वहाँ उपस्थित रहे, डीएम ने ख़ुद विधायकों को घसीट-घसीटकर पीटने का काम किया। बाहर निकाला गया। हमारी पूर्व मंत्री महिला हैं, जो अति पिछड़ा समाज से आती हैं, उनके बाल खींचकर, साड़ी खोलकर घसीटकर ले जाया गया। आज का दिन काला दिन के रूप में देश की जनता याद करेगी।'

तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार जैसी अनैतिक राजनीति करने वाला सी ग्रेड, बेशर्म और अलोकतांत्रिक मुख्यमंत्री पूरे देश में नहीं होगा। गुंडा सरकार के मुखिया देखिए कैसे 3 लाख लोगों द्वारा निर्वाचित विपक्षी माननीय विधायक को घसीटवा कर अपनी सरकार की गुंडई को प्रदर्शित करवा रहे हैं।' पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने भी ट्वीट कर नीतीश कुमार सरकार पर हमला किया।

पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव के ट्विटर हैंडल से भी इस घटना को लेकर ट्वीट किया गया। उन्होंने कहा कि लोहिया जयंती के दिन कुकर्मी आदमी कुकर्म नहीं करेगा तो कुकर्मी कैसे कहलाएगा?

तेजस्वी यादव ने यह भी कहा कि यह कार्रवाई मुख्यमंत्री की ओर से की गई। उन्होंने कहा कि जो क़ानून अंग्रेजों ने लागू किया था, वही क़ानून आज नीतीश कुमार ने लागू किया है। यह क्या क़ानून है? उन्होंने कहा कि बिहार विधानसभा की कार्यवाही के दौरान एक काला क़ानून पेश किया गया। इस घटना को लेकर शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने भी एक वीडियो को रीट्वीट किया है। 

बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा, 'बिल को लेकर अफवाह फैलाई जा रही है। बीएमपी का नाम बदलकर बिहार सशस्त्र पुलिस कर दिया गया है। अपराध को नियंत्रित करने के लिए पुलिस कार्रवाई करेगी। हम चाहते थे कि सदन में बहस करें, मगर अफवाह फैलाई जा रही है। विपक्ष बहस करता तो सरकार जवाब देती। विपक्ष को चर्चा में भाग लेना चाहिए। सदन में जो हुआ है वो आज से पहले नहीं हुआ। विधानसभा में पता होना चाहिए कि क्या व्यवहार करना चाहिए। विपक्ष को चर्चा में एक-एक बात बताते क्या सच है।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें