loader

बीजेपी के दबाव में नीतीश को लेना पड़ा मेवालाल चौधरी से इस्तीफ़ा?

बिहार में चुनाव नतीजे आने के बाद नीतीश सरकार ने शपथ भी ले ली। लेकिन चार दिन के भीतर ही शिक्षा मंत्री मेवालाल चौधरी को इस्तीफ़ा देना पड़ गया। मेवालाल जेडीयू के नेता हैं न कि बीजेपी के। ऐसे में ये माना जा रहा है कि नीतीश कुमार को बीजेपी के दबाव में यह फ़ैसला लेना पड़ा है क्योंकि अगर मेवालाल को हटाना ही होता तो नीतीश उन्हें जेडीयू के कोटे से मंत्री क्यों बनाते और आरजेडी का कोई ऐसा प्रेशर नहीं है जो नीतीश को अपने मंत्री को हटाने के लिए मजबूर कर सके। 

मेवालाल चौधरी पर भागलपुर स्थित बिहार कृषि विश्वविद्यालय में प्रोफ़ेसर और कनिष्ठ वैज्ञानिकों की नियुक्ति में घपले सहित अपनी पत्नी नीरा चौधरी की मौत को लेकर भी गंभीर आरोप हैं। 

पटना से लेकर दिल्ली तक यह चर्चा जोरों पर है कि नीतीश के लिए इस बार सरकार चलाना आसान नहीं होगा। इसकी वजह साफ है कि बीजेपी इस बार बड़ा दल तो है ही, नीतीश के जोड़ीदार सुशील कुमार मोदी को भी उसने हटाकर अपने इरादे साफ कर दिए हैं।

इसके अलावा बीजेपी ने एक के बजाए दो लोगों को उप मुख्यमंत्री बनवाया है और दोनों खांटी संघी हैं। ऐसे में सेक्युलर मिजाज वाले नीतीश को साफ मैसेज दे दिया गया है कि उन्हें किस तरह के माहौल में काम करना है। 

ताज़ा ख़बरें
सुशील मोदी के बिना सरकार चलाना नीतीश के लिए ख़ासा मुश्किल होगा और शपथ ग्रहण के बाद उन्होंने पत्रकारों के एक सवाल के जवाब में कहा कि हां, उन्हें सुशील मोदी की कमी खलेगी। बीजेपी नेता जब-जब हमलावर होते थे तो सुशील मोदी ही ऐसे शख़्स थे जो उनके बचाव में खुलकर आगे आते थे और माना जा रहा है कि नीतीश की हिमायत करने का ही खामियाजा सुशील मोदी को उठाना पड़ा है। 
Why mevalal chaudhary resigned from Nitish cabinet - Satya Hindi

बहरहाल, यह साफ है कि मेवालाल का इस्तीफ़ा बीजेपी के जबरदस्त दबाव में हुआ है। क्योंकि सरकार बनने के तीन-चार के अंदर अपने मंत्री को हटाकर नीतीश अपनी किरकिरी क्यों करवाना चाहेंगे, वे क्यों चाहेंगे कि आरजेडी और चिराग पासवान को उन पर हमलावर होने का एक और मौक़ा मिले। 

बीजेपी-जेडीयू के राजनीतिक रिश्तों पर देखिए वीडियो- 
नीतीश पार्टी के अकेले बड़े नेता हैं और जेडीयू के ख़राब प्रदर्शन को लेकर सारे सवालों का जवाब भी उन्हें देना है और पांच साल तक बीजेपी से ना दबते हुए सरकार भी चलानी है। 
बिहार में इस बात की भी चर्चा जोरों पर है कि बंगाल के विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी कांग्रेस और जेडीयू के विधायक दल में जोरदार सर्जिकल स्ट्राइक कर सकती है। क्योंकि वह राज्य में अपने नेता को मुख्यमंत्री देखना चाहती है।

यहां इस बात पर भी ध्यान देना ज़रूरी है कि भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद मेवालाल को जेडीयू से निकाला गया था तो पार्टी में उनकी वापसी भी और उन्हें विधानसभा चुनाव में टिकट मिलना भी बिना नीतीश कुमार की मर्जी के संभव नहीं हो सकता। इसके बाद कैबिनेट के चयन में जेडीयू कोटे से पहली बार में मेवालाल का शामिल होना भी नीतीश कुमार के बिना संभव नहीं है क्योंकि नीतीश ही पार्टी के मुखिया हैं। फिर ऐसा क्या कारण रहा कि नीतीश को मेवालाल का इस्तीफ़ा लेना पड़ा। 

बिहार से और ख़बरें
ताज़ा राजनीतिक माहौल में बीजेपी ही नीतीश पर दबाव बनाने में सक्षम है और जैसे ही आरजेडी-कांग्रेस ने हंगामा किया और मीडिया में मेवालाल पर लगे आरोपों का जिक्र होना शुरू हुआ तो बीजेपी ने भी इस मसले को उठाया होगा। 
नीतीश आख़िर क्यों अपने ऐसे नेता का इस्तीफ़ा लेना चाहेंगे जिसे उन्होंने मंत्री बनाया है। जाहिर है कि यह बीजेपी का ही दबाव है, जिस कारण वह मजबूर हुए हैं। अब यह शीशे की तरह साफ हो चुका है कि नीतीश के लिए आने वाले 5 साल कांटों भरे होंगे।

चुनाव नतीजे आने के बाद यह चर्चा जोर-शोर से उठी थी और नीतीश ने इसे स्वीकार भी किया था कि वह इस बार मुख्यमंत्री नहीं बनना चाहते। लेकिन बीजेपी को डर था कि आरजेडी उन्हें समर्थन देकर मुख्यमंत्री बना सकती है, इसलिए मोदी से लेकर अमित शाह तक उन्हें मनाने में जुट गए। 

विचारधारा का जबरदस्त टकराव 

वैसे भी बीजेपी और जेडीयू के बीच विचारधारा का जबरदस्त टकराव है। राम मंदिर, धारा 370, तीन तलाक़, सीएए-एनआरसी को लेकर जेडीयू का रूख़ बीजेपी से पूरी तरह अलग है। बीजेपी हिंदुत्व के एजेंडे पर तेजी से आगे बढ़ रही है और ऐसे में पार्टी के बेहद ख़राब प्रदर्शन से परेशान नीतीश उसके साथ कब तक रह पाएंगे, यह सवाल बिहार में उस दिन तक पूछा जाएगा जब तक वे बीजेपी से अलग नहीं हो जाते। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें