loader

छत्तीसगढ़ कांग्रेस में सीएम बनने की होड़ शुरू, 6 नेता दिल्ली में

छत्तीसगढ़ में एग्ज़िट पोल में कांग्रेस को अपना पलड़ा भारी नज़र आने के बाद पार्टी के भीतर मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर जंग छिड़ गई है। रायपुर से लेकर दिल्ली तक आधा दर्जन नेता अपनी क़िस्मत आज़माने के लिए जीतोड़ कोशिश कर रहे हैं। कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गाँधी के जन्मदिन के मौक़े पर उन्हें बधाई देने के लिए छत्तीसगढ़ के आधा दर्जन ‘सीएम इन वेटिंग’ नेताओं ने  दिल्ली में डेरा डाला हुआ है। आलाकमान के सामने ये तमाम नेता एक तरह से शक्ति परीक्षण कर अपना लोहा मनवाने में जुटे हैं। सारे नेताओं ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी से अलग-अलग मिलने के लिए समय माँगा है।

मुख्यमंत्री पद को लेकर नेताओं में मची होड़ के बीच वरिष्ठ कांग्रेसी नेता मोतीलाल वोरा का भी नाम सामने आया है। हालाँकि मोतीलाल वोरा ने विधानसभा चुनाव नहीं लड़ा। उनके विधायक पुत्र अरुण वोरा को पार्टी ने दुर्ग विधानसभा सीट से दुबारा मैदान में उतारा है। अरुण वोरा की जीत तय मानी जा रही है। यह भी चर्चा है कि यदि मोतीलाल वोरा को मुख्यमंत्री बनाया गया तो उनके पुत्र अरुण वोरा सीट खाली कर सकते हैं। चुनावी सर्वेक्षण में अरुण वोरा अच्छे-ख़ासे मतों से जीत दर्ज़ करते नज़र आ रहे हैं। छत्तीसगढ़ में चुनावी सर्वेक्षणों में जीत रही कांग्रेस ने विवाद से बचने के लिए एक सर्वमान्य नेता की खोज शुरू की है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक़ इस फ़ॉर्मूले में ‘बाबूजी’ यानी मोतीलाल वोरा पूरी तरह से फ़िट बैठ रहे हैं। यह भी बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव तक वे मुख्यमंत्री की कुर्सी को सँभालेंगे। इसके बाद किसी नए दावेदार की लॉटरी खुल सकती है। 

वोरा के अलावा छह और प्रबल दावेदार

उधर मुख्यमंत्री के अन्य दावेदारों में अव्वल नंबर पर टी.एस. सिंहदेव और सांसद ताम्रध्वज साहू का नाम है। तीसरे और चौथे नंबर पर क्रमशः कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल और पूर्व केंद्रीय मंत्री चरणदास महंत का नाम सामने आ रहा  है। कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष और अनुसूचित जाति वर्ग के नेता डॉ. शिव डहरिया और अनुसूचित जनजाति वर्ग से अमरजीत भगत का भी नाम सुर्ख़ियों में है। आदिवासी मुख्यमंत्री की माँग छत्तीसगढ़ के गठन के बाद से ही शुरू हो गई थी। इस माँग को तवज्जो देते हुए कांग्रेस ने वर्ष 2001 में अजित जोगी को बतौर आदिवासी मुख्यमंत्री राज्य की कमान सौंपी थी हालाँकि बाद में उनपर बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही पार्टियों के नेताओं ने फर्ज़ी आदिवासी होने का आरोप लगाया था। आज भी यह मामला अदालत में विचाराधीन है। अब तक अंतिम फ़ैसला नहीं हो पाया है कि अजीत जोगी वाक़ई आदिवासी हैं या ग़ैर-आदिवासी। जोगी अब कांग्रेस से बाहर होकर अपनी पार्टी जनता कांग्रेस का गठन कर ख़ुद के किंग मेकर होने का बिगुल फूँक रहे हैं।

किसका दावा कितना दमदार?

कांग्रेस के आधा दर्ज़न ‘सीएम-इन-वेटिंग’ दावेदारों के दमख़म का आकलन किया जाए तो टी.एस. सिंहदेव नेता प्रतिपक्ष रह चुके हैं और इस विधानसभा चुनाव में पार्टी के घोषणा-पत्र को तैयार करने से लेकर चुनावी सभाओं को संचालित करने की जवाबदेही उन्होंने बख़ूबी उठाई थी जबकि कांग्रेस ने राज्य में एकमात्र सांसद और ओबीसी लीडर ताम्रध्वज साहू को चुनावी मैदान में उतार कर साहू समुदाय के एक बड़े वर्ग को अपने पक्ष में एकजुट करने की कोशिश की थी। पार्टी ने 8 साहू उम्मीदवारों को टिकट दे कर समाज में यह सन्देश भी दिया था कि सांसद ताम्रध्वज साहू राज्य के अगले सीएम मटीरियल हैं।

पूरे पाँच साल तक बीजेपी पर हमलावर रहे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल को भी मुख्यमंत्री पद का प्रबल दावेदार माना जा रहा है। उन्होंने बीजेपी और मुख्यमंत्री रमन सिंह पर कई बार तीखा हमला कर कांग्रेस में नयी जान फूँकी थी।

कांग्रेस के स्थानीय से लेकर बड़े नेता इस बात को स्वीकार करते हैं कि भूपेश बघेल एकमात्र ऐसे नेता हैं जो पूरे पाँच साल राज्य की बीजेपी सरकार और उसके अफ़सरों के निशाने पर रहे। उन्हें क़ानूनी दाँव-पेच और आपराधिक मामलों में फँसाने के लिए राज्य सरकार ने कोई कसर बाक़ी नहीं छोड़ी। भूपेश बघेल को लेकर पार्टी के नेता यह भी दलील दे रहे हैं कि सही मायनों में उन्होंने शहरों से लेकर गाँव तक कांग्रेसियों को सक्रिय किया और बीजेपी के ख़िलाफ़ बड़े आंदोलन खड़े करने में कामयाब रहे।

राहुल गाँधी से नज़दीकियाँ होने के चलते पूर्व केंद्रीय मंत्री चरणदास महंत का भी नाम सशक्त दावेदारों में शामिल है।

फ़िलहाल कांग्रेस में ‘कौन बनेगा मुख्यमंत्री’ को लेकर मंथन का दौर जारी है। कांग्रेस के बड़े नेता आसानी से किसी भी उम्मीदवार के सिर पर अपना हाथ रखने से बच रहे हैं। उन्हें इस बात का अंदेशा है कि मुख्यमंत्री चयन को लेकर फैला कोई भी असंतोष लोकसभा चुनाव के दौरान पार्टी पर भारी पड़ सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें