loader

रमन सिंह के ‘दामाद जी’ पर भ्रष्टाचार के केस से मुश्किल में बीजेपी

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के 'दामाद जी' डॉ. पुनीत गुप्ता बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के लपेटे में आए हैं। उनके ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार, धोखाधड़ी और शासकीय दस्तावेजों में हेरफेर और सबूत नष्ट किए जाने की धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज किया गया है। डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ गंभीर धाराओं के तहत अलग-अलग एफ़आईआर दर्ज की गई हैं। 
डॉ. गुप्ता पर 50 करोड़ से अधिक की सरकारी रकम हड़पने के भी आरोप हैं। दर्ज एफ़आईआर के अलावा महालेखाकार की रिपोर्ट के तहत भी डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ एक और नई एफ़आईआर दर्ज करने की तैयारी चल रही है।

रायपुर स्थित डॉ. भीमराव अंबेडकर अस्पताल एवं पंडित जवाहर लाल नेहरू मेमोरियल मेडिकल कॉलेज में मशीनों की ख़रीद-फरोख़्त से लेकर दवाओं की ख़रीद और कैंटीन के ठेकों तक में हुए भ्रष्टाचार में डॉ. पुनीत गुप्ता के लिप्त पाए जाने के आरोप हैं। 

विधानसभा चुनाव से पहले ही कांग्रेस ने स्वास्थ्य परीक्षण के काम आने वाली बेशक़ीमती मशीनों की ख़रीद को लेकर बड़े पैमाने पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए इस मामले को उठाया था। लेकिन तत्कालीन बीजेपी सरकार के कार्यकाल में मुख्यमंत्री के ‘दामाद जी’ का बाल भी बांका नहीं हुआ था।

ताज़ा ख़बरें
कई गंभीर शिकायतों के बावजूद स्वास्थ्य विभाग के ज़िम्मेदार अधिकारियों ने डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ प्राथमिक जाँच करना भी मुनासिब नहीं समझा था। लेकिन अब उनके ख़िलाफ़ मिली सभी शिकायतें सच साबित हो रही हैं। लिहाज़ा, उनके ख़िलाफ़ मिली एक के बाद एक शिकायतें एफ़आईआर का रूप लेने लगी हैं। 
  • डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ रायपुर के पंडरी थाने में कांग्रेस नेत्री डॉ. किरणमयी नायक के आवेदन पर धारा 420 तथा भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत पहली एफ़आईआर दर्ज की गई है। जबकि दूसरी एफ़आईआर रायपुर के गोल बाज़ार थाने में इसी साल 15 मार्च को दर्ज की गई।

पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ अपराध क्रमांक 70/19, आईपीसी की धारा 409, 467, 468, 420 और 120 के तहत मामला दर्ज किया है। डीकेएस अस्पताल प्रबंधन की ओर से डायरेक्टर डॉ. के.के. सहारे ने मामला दर्ज कराया है। बता दें कि जब डीकेएस अस्पताल बनकर तैयार हो रहा था, उस वक़्त पुनीत गुप्ता अस्पताल के अधीक्षक थे। बताया जा रहा है कि डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ महालेखाकार ने ऑडिट शुरू कर दिया है। 

छत्तीसगढ़ से और ख़बरें
  • बीते कई दिनों से तीन अफ़सर रायपुर के भीमराव अंबेडकर अस्पताल में डेरा जमाए हुए हैं। अफ़सर हर फ़ाइल की गहनता से जाँच कर रहे हैं। माना जा रहा है कि अस्पताल में गड़बड़ियों का कच्चा चिट्ठा जल्द खुल सकता है। 

डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ जाँच शुरू होने से उनसे विभागीय तौर पर जुड़ा हर शख़्स दहशत में है। पुलिस अधीक्षक द्वारा सीएसपी आज़ाद चौक के नेतृत्व में गठित तीन सदस्यीय जाँच टीम ने शनिवार को अस्पताल के उन डॉक्टर्स, स्टाफ़ के बयान दर्ज किए थे जो डॉ. पुनीत गुप्ता के क़रीबी बताए जा रहे हैं। लेकिन अभी अधीक्षक डॉ. केके सहारे का बयान होना बाक़ी है। 

डॉ. पुनीत गुप्ता पहले रायपुर के मेडिकल कॉलेज में बतौर साधारण डॉक्टर किडनी विभाग में पदस्थ थे। लेकिन तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह का दामाद बनने के बाद उनकी लॉटरी खुल गई!

आरोप हैं कि सरकारी पैसों पर देश-विदेश घूमने के अलावा डॉ. पुनीत गुप्ता ने तमाम क़ायदे-क़ानूनों को दरकिनार कर मेडिकल उपकरण और मशीनें थोक के भाव ख़रीदनी शुरू कर दी थीं। 

उन आरोप तो यह भी लगाये गये हैं कि मेडिकल कॉलेज और अस्पतालों में होने वाले तमाम ठेकों में डॉ. पुनीत गुप्ता की हिस्सेदारी तय होती थी और स्वास्थ्य विभाग में ज़्यादातर काम ठेकों पर संचालित होने लगा था। 

सम्बंधित ख़बरें
इसके अलावा उनके ख़िलाफ़ यह भी आरोप लगाये गये हैं कि सरकारी संरक्षण मिलने के चलते डॉ. पुनीत गुप्ता ने किडनी विभाग के अध्यक्ष का पद भी खुद संभाल लिया था, जबकि इस विभाग में उनसे कई योग्य डॉक्टर मौजूद थे।
कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद निष्पक्ष जाँच के लिए मेडिकल प्रशासन ने डॉ. पुनीत गुप्ता को किडनी विभाग से हटाकर मेडिकल कॉलेज में बतौर ओएसडी स्थानांतरित कर दिया था।
उधर, एफ़आईआर का सिलसिला शुरू होने के बाद डॉ. पुनीत गुप्ता ने अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। हालाँकि उनका इस्तीफ़ा अभी मंज़ूर नहीं किया गया है। कांग्रेस को रॉबर्ट वाड्रा के कथित भ्रष्टाचार पर घेरने वाली बीजेपी को लोकसभा चुनाव के मौक़े पर रमन सिंह के ‘दामाद जी’ के भ्रष्टाचार पर जवाब देते नहीं बन रहा है। अगर जाँच में डॉ. पुनीत गुप्ता दोषी पाए जाते हैं तो इससे राज्य में बीजेपी की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें