loader

50 साल बाद भी क्यों प्रासंगिक है 'भुवन शोम'?

'भुवन शोम' को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर महत्व मिलने के बाद भारत में भी फ़िल्म समारोहों, दूरदर्शन और फ़िल्म समीक्षकों ने इसे तवज्जो देना शुरू किया। इसे हिंदी कला फिल्मों की बुनियाद डालने वाली फ़िल्म माना गया।
इक़बाल रिज़वी

फ़िल्म कब आयी कब चली गयी किसी को पता ही नहीं चला। देश के अधिकांश हिस्सों में तो यह फ़िल्म  रिलीज़ ही नहीं हो पायी। लेकिन यही वह फ़िल्म थी जिसे भारत में समानांतर सिनेमा या कहें 'आर्ट फ़िल्म' की बुनियाद माना जाता है। इस फिल्म का नाम है 'भुवन शोम'। पचास साल पहले यानी 1969 में रिलीज हुई यह फ़िल्म उन गिनी चुनी फ़िल्मों में से एक है जिसने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत का गौरव बढ़ाया।
सिनेमा से और खबरें

क्या है फ़िल्म में?

फ़िल्म के नायक शोम बाबू रेल महकमे में एक सख़्त और अनुशासन प्रिय अधिकारी हैं, जिन्होंने अनुशासनहीनता करने पर अपने अधीन काम करने वाले अपने बेटे तक को नहीं छोड़ा। एक विधुर का जीवन जी रहे शोम बाबू के जीवन में सब कुछ सूखा-सूखा है। फिर एक दिन वह अपनी रोजमर्रा की दुनिया से बाहर निकलते हैं और चिड़ियों के शिकार के लिए कच्छ के इलाक़े में पहुँचते हैं। वहाँ पहुँचकर उनकी मुलाकात गाँव की एक चंचल युवती गौरी से होती है, जो उन्हें मेहमान बना कर उनकी मदद करती है।

भोली भाली गौरी इतनी समझदार और व्यवहारिक भी है कि शिकार के समय वह अपने ग्रामीण परिवेश के कपड़े पहनती है ताकि पक्षी अनजान इंसान मानकर उड़ न जाएं। जिस भैंसे से डर कर शोम बाबू बंदूक लिये बचते हुए भागते हैं, उसी भैंसे पर गौरी आसानी से सवारी करने लगती है। वह इसी तरह के छोटे-छोटे काम करती है और शोम बाबू उसके बारे में सोचने पर मजबूर हो जाते हैं।  
गौरी का पति भी रेल में कर्मचारी होता है जिसके दंड की फ़ाइल शोम बाबू की मेज पर होती है। गौरी इस तथ्य से अनजान है, लेकिन शोम बाबू को पता चल जाता है कि जिस युवती की मदद और मेहमाननवाज़ी का वह आनंद ले रहे हैं, उसके होने वाले पति के भ्रष्टाचार का मामला उनके विचाराधीन है।
शोम बाबू का जीवन को क़ानून के एक-एक अक्षर के साथ मिलाकर जीने का नज़रिया बदलने लगता है। गौरी की सोहबत शोम बाबू को पूरी तरह बदल देती है। रेलवे के सख़्त नौकरशाह शोम बाबू फिल्म के क्लाइमैक्स दृश्य में बच्चों की तरह उत्साही बन जाते हैं और युवती के पति का तबादला कर क्षमा कर देते हैं।

क्या कहती है फ़िल्म?

मृणाल सेन फिल्म के जरिये स्थापित करना चाह रहे थे कि प्रेम जैसा कोमल तत्व हमारे  जीवन के लिये अनिवार्य है। उनकी इस सोच को कैमरा मैन के के महाजन ने बेहद मेहनत से अपनी लाजवाब शूटिंग के ज़रिये स्थापित किया है। सामानांतर सिनेमा को श्वेत-श्याम छायांकन के जरिये काव्यात्मक ऊँचाई तक ले जाने वाले महाजन ने लगभग पूरी फ़िल्म प्राकृतिक रोशनी में शूट की है। कमरे में लिये गए शॉट के दौरान उन्होंने छत से खपरैल या ईंटें हटवा कर रोशनी की व्यवस्था की थी।  

मृणाल सेन का जादू!

सोचिये कि ब्लैक एंड व्हाइट फिल्म में रेगिस्तान के मैदान को आखिरकार कितने एंगल से दिखाया जा सकता है और वह भी तब जब फ़िल्म की कहानी धीमी गति से चल रही हो। कहानी में एक्शन और भाग दौड़ की गुंजाइश ही ना हो। 
के. के. महाजन गौरी और शोम बाबू के क्लोज़ अप, मिड शॉट तथा रेगिस्तान के लॉन्ग शॉट के जरिये ऐसा माहौल बनाते हैं कि लगता है जैसे शोम बाबू और गौरी के बीच प्यार जैसा कुछ कुछ घट रहा है।
फ़िल्म में हास्य बोध तो झलकता है, लेकिन हिंदी फिल्मों के परंपरागत हास्य बोध से बिल्कुल अलग। यह अकारण नहीं है कि भुवन शोम को आधुनिक भारतीय सिनेमा में एक मील का पत्थर माना जाता है।    

फ़िल्म बनाने की दिक्क़तें

इस फ़िल्म का बजट एक लाख रुपए था, लेकिन कोई इसमें पैसा लगाने को तैयार नहीं हुआ। तब मृणाल सेन ने नेशनल फिल्म डेवलेपमेंट कारपोरेशन यानी एनएफडीसी की मदद से यह फ़िल्म बनायी। लेकिन प्रदर्शन की समुचित व्यवस्था नहीं कर पाए। इसलिये बहुत से शहरों में फ़िल्म का प्रदर्शन ही नहीं हो सका। फिर भी धीर धीरे भुवन शोम की शोहरत फैलती गयी। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसको महत्व मिलने के बाद भारत में भी फ़िल्म समारोहों, दूरदर्शन और फडिल्म समीक्षकों ने इसे तवज्जो देनी शुरू की। इसे हिंदी कला फिल्मों की बुनियाद डालने वाली फ़िल्म माना गया।

कितनों ने की शुरुआत!

भुवन शोम की एक खासियत यह भी है कि इसमें कई लोगों का पहला प्रयास शामिल था। बतौर निर्देशक, मृणाल सेन की यह पहली हिंदी फिल्म थी। उत्पल दत्त जाने माने बांग्ला थियेटर ऐक्टर माने जाते थे, पर हिंदी सिनेमा में पहली बार पर्दे पर उतरे थे। ऐसे ही सुहासिनी मुले की भी यह पहली फिल्म थी। 
इसी फिल्म से महानायक अमिताभ बच्चन की आवाज़ से हिंदी समाज पहली बार रुबरू हुआ। वह फ़िल्म के सूत्रधार के तौर पर कमेंट्री करते हैं। छाया कार के. के. महाजन की भी यह पहली फिल्म थी और संगीतकार विजय राघव राव की भी यह पहली फिल्म कही जाती है।
भुवन शोम फ़िल्म और इसके निर्देशन के लिए मृणाल सेन को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला। उत्पल दत्त को सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया। अब जब भी भारत की कालजयी फिल्मों का जिक्र होता है तो उसमें भुवन शोम का नाम शामिल करना अनिवार्य होता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
इक़बाल रिज़वी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें