loader

आश्रम-2: वही आश्रम, वही बाबा, पर कहानी बदली

वेब सीरीज़- आश्रम-2

डायरेक्टर- प्रकाश झा

स्टार कास्ट- बॉबी देओल, त्रिधा चौधरी, अदिति पोहनकर, चंदन रॉय सान्याल, दर्शन कुमार, अनुप्रिया गोयनका, राजीव सिद्धार्थ

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म- एम एक्स प्लेयर

रेटिंग- 3.5/5

अगस्त महीने में एम एक्स प्लेयर पर रिलीज़ हुई वेब सीरीज़ आश्रम के पहले सीजन को देखने के बाद लोगों को दूसरे सीजन का बेसब्री से इंतज़ार था। लोगों का यह इंतज़ार अब ख़त्म हो चुका है और आश्रम का दूसरा सीजन 'आश्रम-2' रिलीज़ हो चुका है। दर्शकों के मन में जो सवाल पहले सीजन को देखने के बाद थे, उन सभी के जवाब दूसरे सीजन में मिल जायेंगे। निर्देशक प्रकाश झा के निर्देशन में बनी सीरीज़ 'आश्रम' को लोगों ने काफ़ी पसंद किया था। सीरीज़ 'आश्रम' में धर्म और आस्था की आड़ में हो रहे काले कारनामों को दिखाया गया है। काशीपुर वाले निराला बाबा भक्ति के नाम पर भक्तों और नशीले लड्डू खिलाता और सेविकाओं का शोषण करता है। इस सीजन में निराला बाबा और ज़्यादा पावरफुल हो चुके हैं। वेब सीरीज़ 'आश्रम-2' में बॉबी देओल, अदिति पोहनकर, चंदल रॉय सान्याल, दर्शन कुमार, त्रिधा चौधरी और भी अन्य स्टार्स लीड रोल में हैं। तो आइये जानते हैं इस बार 'आश्रम-2' की कहानी क्या है।

सिनेमा से और ख़बरें

क्या है ख़ास?

काशीपुर वाले बाबा निराला (बॉबी देओल) और भी ज़्यादा पावरफुर हो चुके हैं। अब वह सिर्फ़ आश्रम तक ही सीमित नहीं हैं बल्कि राजनीति में भी अपने पैर जमा रहे हैं। प्रदेश में मुख्यमंत्री का चुनाव होना है और बाबा निराला तय करेंगे कि इस बार का चुनाव कौन जीतेगा और किसकी सरकार बनेगी। बाबा या तो सुंदर लाल (अनिल रस्तोगी) को फिर मुख्यमंत्री बनवा सकता है या उसके प्रतिद्वंद्वी हुकुमचंद (सचिन श्रॉफ) को चुनाव जीतवा सकता है। दूसरी तरफ़ आश्रम में नशे की ख़पत काफ़ी बढ़ चुकी है और भोपा (चंदन रॉय सान्याल) इसे संभाल रहा है। पम्मी (अदिति पोहनकर) अपनी पहलवानी में व्यस्त है लेकिन उसे इस बात को समझने में देर लगती है कि बाबा निराला उसका शोषण कर रहे हैं। पम्मी को जब इस बात का पता चलता है तो उसे साध्वी जेल में डाल देती है। 

इसके उलट पुलिस इंस्पेक्टर उजागर सिंह (दर्शन कुमार) डॉ. नताशा (अनुप्रिया गोयनका), अक्की (राजीव सिद्धार्थ) और साधु (विक्रम कोच्चर) बाबा निराला के काले कारनामों के ख़िलाफ़ सबूत जुटाने में लगे हुए हैं। पम्मी और अक्की अपना बदला चाहते हैं और इसके लिए कोशिश में लगे हुए हैं लेकिन क्या बाबा निराला के काले कारनामे कभी उजागर होंगे? आश्रम में धर्म और आस्था के नाम पर चल रहे धंधे पर कैसे लगाम लगेगी? इसका जवाब निर्देशक ने सीरीज़ के तीसरे सीज़न में देने का फ़ैसला किया है। सीरीज़ 'आश्रम' का तीसरा सीज़न भी आयेगा लेकिन तब तक आप दूसरा सीज़न एम एक्स प्लेयर पर मुफ्त में देख सकते हैं। सीरीज़ 'आश्रम-2' के कुल 9 एपिसोड हैं।
web series ashram 2 review - Satya Hindi

निर्देशन

निर्देशक प्रकाश झा द्वारा निर्देशित सीरीज़ 'आश्रम-2' की कहानी बंधी हुई है। कहानी में कसाव है और यह अपने मुद्दों पर ही चलती रही और कहीं भी कमजोर नहीं पड़ी। इसके अलावा प्रकाश झा ने बाबा और आश्रम की कहानी के साथ राजनीतिक पक्ष को भी मज़बूती से उभारा। बाबा निराला की कहानी अभी भी ख़त्म नहीं हुई है, अभी भी कई सवाल है जिनका जवाब मिलना बाकी है। शायद प्रकाश झा तीसरे सीज़न में कहानी को आख़िरी मोड़ देंगे। संगीत की बात करें तो इस बार गाना 'बाबा लायेंगे क्रांति' नया है और बैकग्राउंड म्यूजिक भी पुराना ही है। सीरीज़ की सिनेमैटोग्राफ़ी पहले की ही तरह अच्छी है।

एक्टिंग

आश्रम के पहले सीज़न में भी सीरीज़ की स्टार कास्ट ने अपनी एक्टिंग से दर्शकों का दिल जीत लिया था और इस बार भी ऐसा ही हुआ है। बाबा निराला के किरदार में बॉबी देओल पहले से ज़्यादा अच्छे दिखे और उन्होंने अपने किरदार को और मज़बूती से निभाया। अदिति पोहनकर ने पिछली बार की अपेक्षा इस बार बहुत अच्छी एक्टिंग की है। त्रिधा चौधरी और चंदन रॉय सान्याल ने अपने किरदार को बेहतरीन तरीके से पेश किया। इसके अलावा दर्शन कुमार, अनुप्रिया गोयनका, राजीव सिद्धार्थ, संदीप यादव, अनिल रस्तोगी, विक्रम कोच्चर, सचिन श्रॉफ और अन्य स्टार्स ने शानदार एक्टिंग की है।

web series ashram 2 review - Satya Hindi
वेब सीरीज़ 'आश्रम-2' की कहानी नई है और काफी रोमांचक भी। सीरीज़ में हर किरदार अपने आप में एक कहानी है और उसे उसी तरीक़े से पेश किया गया है। स्टार्स की परफॉर्मेंस काफ़ी अच्छी है और साथ ही इसकी कहानी भी निराश नहीं करती। लेकिन पहले सीज़न के बाद दूसरे सीज़न की कहानी में कुछ खास ट्विस्ट नहीं है और न ही कोई ऐसी नई चीज सामने आती है, जो कहानी में नयापन लेकर आए। इसके बाद भी सीरीज़ 'आश्रम 2' उन लोगों के सवालों का जवाब देगा, जिन्होंने पहला सीज़न देखा था। सीरीज़ में काफ़ी सीरियस ड्रामा है अगर आप कुछ मनोरंजक देखना चाहते हैं तो ये आपके लिए नहीं है। अगर आप मुफ्त में सस्पेंस और ड्रामा सीरीज़ देखना चाहते हैं तो सीरीज़ 'आश्रम' बेहतर ऑप्शन है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें