loader

ज़िंदगी में कभी हार न मानना सिखाती है 'जीत की जिद'

वेब सीरीज़- जीत की जिद

डायरेक्टर- विशाल मंगालोरकर

स्टार कास्ट- अमित साध, अमृता पुरी, सुशांत सिंह, अली गोनी, मृणाल कुलकर्णी, परितोष सांद

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म- ज़ी 5

रेटिंग- 2.5/5

अक्सर हमारे बीच में कई बहादुर लोग रहते हैं लेकिन हम उन्हें पहचान नहीं पाते। उनके बारे में हमें या तो उनका नाम होने पर पता चलता है या किसी और के ज़रिये। ऐसे ही एक बहादुर, निडर फौजी की जिंदगी की कहानी पर आधारित वेब सीरीज़ 'जीत की जिद' जी 5 पर रिलीज़ हुई है। जिसका निर्देशन विशाल मंगालोरकर ने किया है और इसमें लीड रोल में अमित साध, अमृता पुरी और सुशांत सिंह हैं। सीरीज़ की कहानी मेजर दीपेंद्र सिंह सेंगर के जीवन पर आधारित है, जो कि स्पेशल फ़ोर्स में थे और उन्होंने कारगिल में एक ऑपरेशन के दौरान दुश्मनों का बहादुरी से सामना किया था। कारगिल में दिखाए शौर्य के लिए उन्हें राष्ट्रपति पदक से सम्मानित किया गया था। दीपेंद्र ने मैदान और जिंदगी दोनों की बाधाओं का डटकर मुकाबला किया। तो आइये जानते हैं सीरीज़ की क्या है कहानी-

सिनेमा से और ख़बरें

क्या है खास

दीपेंद्र सिंह सेंगर उर्फ दीप (अमित साध) बचपन में अपने भाई रजत और माँ (मृणाल कुलकर्णी) के साथ कश्मीर घूमने जाता है और वहाँ आतंकियों के हाथों रजत मारा जाता है। उसी वक़्त दीप आर्मी में भर्ती होने का मन बना लेता है। दीप आर्मी में भर्ती होकर स्पेशल फ़ोर्स की यूनिट को ज्वाइन करता है। यहाँ उसके लीडर कर्नल संदीप चौधरी (सुशांत सिंह) उसे एक से बढ़कर एक कड़े टास्क देते हैं और दीप सभी को पास कर जाता है। सबसे बहादुर, निडर मेजर दीप सिंह को कारगिल भेजा जाता है, जहाँ उसे पाकिस्तानी सेना का सामना करना होता है। ये ऑपरेशन कामयाब हो जाता है लेकिन आख़िर में दीप को दुश्मन की पाँच गोलियाँ लग जाती हैं और अब वो कभी चल नहीं सकता और जिंदगी भर उसे व्हीलचेयर का सहारा लेना पड़ेगा। 

दीप इस ऑपरेशन से पहले जया (अमृता पुरी) से शादी करने वाला था, लेकिन उसकी जिंदगी में सब बदल गया। तो क्या अब दीप कभी अपने पैरों पर चल पायेगा? क्या एक बहादुर अफसर की जिंदगी यहीं रुक जाएगी? जया से वो शादी करेगा या नहीं? ये सब जानने के लिए आपको सीरीज़ 'जीत की जिद' ज़ी 5 पर देखनी पड़ेगी। सीरीज़ में कुल 7 एपिसोड हैं।

web series jeet ki zid review - Satya Hindi

निर्देशन

डायरेक्टर विशाल मंगालोरकर के निर्देशन में बनी सीरीज़ 'जीत की जिद' में स्टार कास्ट और कहानी दोनों अच्छी है, लेकिन कहानी में कसावट नहीं है। कई सीन्स दोहराये जाते हैं और तकनीकी पहलुओं पर निर्देशक ने जरा भी ध्यान नहीं दिया। जिसका हाल यह हुआ कि सीरीज़ ज्यादा लंबी हो गई।

एक्टिंग

अमित साध बेहतरीन कलाकारों में से एक हैं और वो काफी मेहनती हैं। उन्होंने इस सीरीज़ के लिए कड़ी मेहनत की है और वो उनकी शानदार एक्टिंग में साफ़ दिखाई देती है। सुशांत सिंह ने अपने किरदार को दमदार तरीक़े से पेश किया है और उनकी परफॉर्मेंस ख़ूब उम्दा है। अमृता पुरी ने दीप की पत्नी का किरदार निभाया है और उन्होंने अपने रोल को बखूबी निभाया। इसके अलावा अली गोनी, मृणाल कुलकर्णी और परितोष सांद ने अच्छी एक्टिंग की है।

web series jeet ki zid review - Satya Hindi
वेब सीरीज़ 'जीत की जिद' की कहानी रियल लाइफ़ स्टोरी पर आधारित है और इसे देखने के बाद आपको पता चलेगा कि फौजियों की जिंदगी कितनी मुश्किल होती है। आत्मविश्वास और कुछ भी कर जाने की जिद से भरी इस कहानी को एक बार आपको ज़रूर देखना चाहिये। सीरीज़ में कमी बस यह है कि इसकी कहानी काफी लचर है, जिसमें कभी वर्तमान तो कभी बीते वक़्त की कहानी को दिखाया जाता है। इसके साथ ही सीरीज़ के हर एपिसोड में आख़िर में असली दीप सिंह और जया अपनी जिंदगी की कहानी को सुनाते हैं, जिसकी ज़रूरत नहीं थी। वेब सीरीज़ 'जीत की जिद' को आप एक बार देख सकते हैं, मेजर दीप सिंह की बहादुरी के लिए, फौजियों के पराक्रम और अमित साध की शानदार एक्टिंग के लिए भी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें