loader

नोएडा में नमाज़ के बाद अब ग्रेटर नोएडा में भागवत कथा पर रोक

प्रशासन ने नोएडा के एक पार्क में नमाज़ के बाद अब ग्रेटर नोएडा में अथॉरिटी की जमीन पर भागवत कथा के आयोजन को रोक दिया है। मामला सेक्टर-37 का है। सेक्टर के आरडब्ल्यूए ने आयोजन को रुकवाने की माँग की थी। बिना अनुमति के अथॉरिटी की जमीन पर यह आयोजन किया जा रहा था। पिछले हफ़्ते ही बिना अनुमति के नोएडा सेक्टर 58 के एक पार्क में जुमे की नमाज़ को रोक दिया गया था जिसपर काफ़ी हंगामा हुआ। 

नमाज़ वाला मामला शांत भी नहीं हुआ था कि अब भागवत कथा के आयोजन का मामला सामने आ गया है। मामला ग्रेटर नोएडा के सेक्टर-37 में अथॉरिटी की खाली जमीन से जुड़ा है। कुछ लोगों ने बिना अनुमति के ही भागवत कथा के लिए टेंट लगा दिया। यहाँ म्यूजिक सिस्टम और माइक लगा दिए गए। शिकायत मिलने पर अथॉरिटी की टीम ने बुधवार सुबह टेंट को हटा दिया। आयोजन समिति में शामिल महिलाओं से अथॉरिटी टीम की कहासुनी हो गई। देर शाम तक अथॉरिटी का दस्ता मौक़े पर जमा रहा। हालाँकि यहाँ स्थापित प्रतिमाओं को नहीं हटाया जा सका है।

  • ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी के सीईओ नरेंद्र भूषण ने कहा है कि बिना अनुमति के अथॉरिटी की प्रॉपर्टी पर किसी तरह का आयोजन नहीं करने दिया जाएगा। उन्होंने आगे कहा कि आयोजन बिना अनुमति हो रहा था, लिहाज़ा उन्होंने इसे रुकवा दिया है। 

नौ दिनों तक होना था आयोजन

अधिकारियों ने बताया कि भागवत कथा का आयोजन नौ दिनों तक किया जाना था और इसकी शुरुआत बुधवार को होनी थी। यह आयोजन जिस जगह होना था वह नोएडा अथॉरिटी की जमीन है। एक अधिकारी का कहना है कि आयोजन से सेक्टर का रेजिडेंट वेल्फ़ेयर असोसिएशन नहीं जुड़ा था। कार्यक्रम का मुख्य आयोजक बाहर का था। हालाँकि अफ़सर ने आयोजक का नाम नहीं बताया। 

नोएडा के पार्क में नमाज़ पर क्या था विवाद?

पिछले हफ़्ते ही बिना अनुमति के नोएडा सेक्टर 58 के एक पार्क में जुमे की नमाज़ को रोक दिया गया था। ख़ुद पुलिस ने बाक़ायदा नोटिस देकर कंपनियों से कहा था कि यदि उनके कर्मचारी खुले में नमाज़ पढ़ते पाए गए तो कंपनियों पर कार्रवाई होगी। इस पर काफ़ी हंगामा हुआ। हालाँकि, बाद में प्रशासन ने सफ़ाई दी कि कंपनियों पर कोई कार्रवाई नहीं होगी। उसका यह भी कहना था कि वैसे भी यह आदेश सिर्फ़ नोएडा के सेक्टर-58 के लिए था। बता दें कि कुछ महीने पहले फ़रीदाबाद में इस पर विवाद हुआ, फिर गुड़गाँव में भीड़ द्वारा मुसलमानों को पार्क में नमाज़ पढ़ने से रोका गया था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

शहर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें